Monday , September 25 2017
Home / Adab O Saqafat

Adab O Saqafat

कौन थे इब्ने सफ़ी, जिन्हें जासूसी दुनिया का बादशाह कहा जाता है

इब्ने सफ़ी का असल नाम इसरार अहमद था। इब्ने सफ़ी उर्दू अदब के नामचीन अफ़साना निगार, नॉवेल निगार और बेहतरीन शायर थे। इनके नॉवेलों में जासूसी दुनियां, फरीदी हमीद सीरीज़ और इमरान सीरीज़ शामिल हैं। इसके अलावा हास्य भी लिखते थे। लेकिन यह अपने जासूसी सीरिज़ की वजह से पूरी …

Read More »

अरब: अब्बासी दौर के सबसे प्रसिद्ध संगीतकार ‘अलमोसली’ के जनाज़े की नमाज़ खलीफ़ा मामून रशीद ने पढ़ाई थी

रियाद: अरब संगीतकार इब्राहीम अलमोसली को अब्बासी युग के सबसे प्रसिद्ध गायकों में जाना जाता है। उसका असली नाम इब्राहिम बिन मैमून था। वह इराक के शहर कूफ़ा में 742 में पैदा हुए और 804 में बगदाद में उनकी म्रृत्यु हुई। Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए …

Read More »

सऊदी में भी तेज़ी से फ़ैल रही है उर्दू की मिठास, अधिकारी भी ले रहे हैं दिलचस्पी

बेंगलुरु के दौरे पर आए सऊदी विश्व उर्दू प्रसारण के अध्यक्ष डॉ लईक ख़ान ने कहा कि सऊदी अरब में उर्दू भाषा और साहित्य तेजी से फ़ैल रही है। सऊदी अधिकारी भी उर्दू भाषा को अहमियत दे रहे हैं। ख़बर के मुताबिक़, सऊदी प्रसारण निगम से जुड़े विश्व उर्दू प्रसारण …

Read More »

हिजाब की वजह से नौकरी मिलने में मुश्किल हुई तो खोल लिया हिजाब डिज़ाइन करने का स्टूडियो

बिजिंग: रहमा एक युवा चीनी महिला हैं जो हिजाब पहनती हैं। उनका कहना है कि हिजाब की वजह से उन्हें भेदभाव का सामना करना पड़ता है। Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये बीबीसी न्यूज़ पोर्टल पर जारी एक वीडियो में रहमा कहटी हैं कि ‘मैं …

Read More »

‘दिल्ली को कभी ‘उर्दू’ कहते थे, इस भाषा में मोहब्बत के सिवा कुछ भी नहीं’

‘उर्दू संयुक्त भारतीय सभ्यता की वाहक है’, ‘उर्दू की मिठास लोगों को आशिक बना देती है’, ‘दुख दर्द को बेहतर तरीके से पेश करने का ज़रिया है उर्दू भाषा’ और सबसे बड़ी बात यह कि दिल्ली को कभी उर्दू कहते थे। यह बातें शुक्रवार शाम दिल्ली में आयोजित ‘जश्ने बहार’ …

Read More »

दास्तानगोई को बचाने के लिए साहिल आगा ने शुरू किया अभियान

रामपुर। उर्दू अदब के तहजीब की एक पुरानी कला दास्तानगोई को बचाने के लिए एक बड़ा अभियान शुरू हुआ है। दिल्ली के दास्तानगो साहिल आगा देहलवी ने इसका बीड़ा उठाया है। Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये ऐसे समय में जब कि उर्दू के साथ …

Read More »

ख़ुदा को भूलने वाली कौम बर्बाद हो जाया करती हैं: मौलाना अबू ज़फर हस्सान नदवी

लखनऊ: आज पूरी दुनिया में इंसानियत अपने खात्में की ओर कदम बढ़ा रही है। अल्लाह से दूरी बना लेने से इंसान बुराई और बद अकिदत का शिकार हो गया है। अल्लाह रब्बुल इज़्जत ने इंसान को हर नेमतो से नवाज़ा है, लेकिन अपने रब से गैर यकीनी और नास्तिकता ने …

Read More »

विश्व उर्दू सम्मेलन: उर्दू संपर्क से बढ़कर मुहब्बत की भाषा है: डॉ महेंद्र नाथ पांडेय

नई दिल्ली: राज्य मानव संसाधन विकास मंत्री डॉ महेंद्र नाथ पांडेय ने राष्ट्रीय उर्दू कौंसिल की विश्व उर्दू सम्मेलन का उद्घाटन करते हुए कहा कि उर्दू संपर्क से बढ़कर मुहब्बत की भाषा है, आम उपयोग का ये आलम है कि गांव देहात में जहां के लोग अंग्रेजी का आम शब्द …

Read More »

UP: भाजपा की जीत के बाद मशहूर शायर नवाज देवबंदी ने उर्दू अकादमी के अध्यक्ष पद से दिया इस्तीफा

लखनऊ: उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में भाजपा की जीत के बाद मशहूर शायर नवाज देवबंदी ने यूपी उर्दू अकादमी के अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया है। Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये अपने इस्तीफे के बाद नवाज देवबंदी ने उम्मीद जताई की कि राज्य …

Read More »

कर्नाटक: एक साल पहले किया गया था घोषणा, लेकिन अब तक नहीं दिया गया पुरस्कार, उर्दू साहित्यकारों में नाराजगी

बेंगलुरु: एक साल से अधिक समय बीत चुका है, लेकिन वार्षिक उर्दू पुरस्कारों का वितरण अभी तक नहीं हुआ  है, जिसकी वजह से उर्दू दां वर्ग में काफी नाराजगी रही है। Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये गौरतलब है कि कर्नाटक उर्दू अकादमी के तहत …

Read More »

फेस्टीवल ऑफ लेटर्स में 24 लेखकों को भारतीय भाषाओं में लेखन के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार

नई दिल्ली: साहित्य अकादमी पुरस्कार से इस बार 24 लेखकों को नवाजा गया है। यह सम्मान उन्हें भारतीय भाषाओं की रचना के लिए दिया गया। उन्हें यह पुरस्कार साहित्य अकादमी पुरस्कार वार्षिक ‘फेस्टीवल ऑफ लेटर्स’ के तहत बुधवार को प्रदान किया गया। सभी विजेताओं को एक-एक लाख रुपये का अनुग्रह राशि …

Read More »

किसी भी भाषा को बढ़ावा देने के लिए रोजगार संगत होना जरूरी: इरतज़ा करीम

नई दिल्ली: राष्ट्रीय उर्दू कौंसिल बराए फरोग उर्दू जबान (एनसीपीयूएल) के निदेशक इरतज़ा करीम ने उर्दू भाषा को रोजगार से जोड़ने की पुरजोर वकालत करते हुए आज कहा कि किसी भी भाषा को बढ़ावा देने के लिए यह रोजगार सांगत होना चाहिए. प्रदेश 18 के अनुसार, दिल्ली विश्वविद्यालय में विश्व …

Read More »

तीन दिवसीय जश्ने रेख़्ता में प्रसिद्ध कवि गुलजार ने की उर्दू लिपि को बचाए रखने की अपील

नई दिल्ली: मशहूर शायर गुलजार ने आज दिल्ली में जश्ने रेख़्ता 2017 का उद्घाटन किया. गुलजार ने तीन दिवसीय रेख़्ता समारोह का उद्घाटन करते हुए उर्दू लिपि को बचाए रखने के लिए हर संभव प्रयास करने की अपील करते हुए कहा कि कोई भी भाषा अन्य भाषाओं के फितरी शमूलियत …

Read More »

युवाओं में बढ़ती क़व्वाली की लोकप्रियता

ग़ुलाम हुसैन। मौसीकि और रंगो साज़ के इस दौर में क़व्वाली आज भी अपनी रुहानि ताक़त के दम पर युवाओं को अपनी ओर खिंचतीं है। पोप और रैप के इस दौर में भी क़व्वाली योवाओं के दिल में धड़के यह क़व्वाली के प्रसंगिकता को दर्शाता है। इसका ताज़ा उदाहरण दिल्ली …

Read More »

जन्मदिन विशेष: कैफ़ी आज़मी जिन्होंने उर्दू अदब के साथ हिंदी सिनेमा का नाम भी रोशन किया

नई दिल्ली: सैयद हुसैन रिजवी नाम और कैफ़ी तखल्लुस था. 14 जनवरी 1923 ई को जिला आजमगढ़ के मौजा मजवां में पैदा हुए. दबीर माहिर, दबीर कामिल, आलिम (लखनऊ विश्वविद्यालय) मुंशी, मुंशी कामिल इलाहाबाद विश्वविद्यालय से डिग्रियां प्राप्त की. उनहोंने अपने अदबी सफ़र की शुरुआत एक ग़ज़ल गो के रूप …

Read More »

जन्मदिन विशेष: अहमद फ़राज़ ने ग़ज़ल में बुलंद मक़ाम हासिल किया

नई दिल्ली: नाम सैयद अहमद शाह और फ़राज़ तखल्लुस है . 12 जनवरी 1931 को पकिस्तान के नौशहरा में पैदा हुए. आबाई वतन कोहाट है. एडवर्ड कॉलेज पेशावर और पेशावर विश्वविद्यालय में अध्ययन किया. एमए (उर्दू) और एमए (फारसी) तक की पढ़ाई की. अदबी जीवन की शुरुआत विद्यार्थी काल में …

Read More »

जन्मदिन विशेष: पैगाम आफाकी जिन्होंने उर्दू अदब में उपन्यास को नई बुलंदी अता की

नई दिल्ली: पैगाम आफाकी जिसे उर्दू अदब में अख्तर अली फारूकी के नाम से भी जाना जाता है. उर्दू उपन्यास और लघु कहानियों के लिए उनका नाम विशेष रूप से लिया जाता है. पैगाम आफाकी बिहार के सीवान जिले में एक किसान परिवार में 10 जनवरी 956 को पैदा हुए. …

Read More »

मुश्किलों के बावजूद अपनी आवाज़ को दबने नहीं दी कश्मीर की ये मुस्लिम महिलाएं

कश्मीर: कश्मीर पिछले कई बरसों से हिंसा का शिकार रहा है. बावजूद इसके भारत प्रशासित कश्मीर की रुख़साना बीते 40 सालों से शायरी कर रही हैं. रुख़साना, निगहत या फिर परवीन आज़ाद, इन सभी औरतों की अहमियत इसलिए बढ़ जाती है कि इन्होंने इस दौरान भी अपनी आवाज़ को दबने …

Read More »

जन्मदिन विशेष: इरफ़ान सिद्दीकी जिन्होंने उर्दू शायरी को आधुनिक और क्लासिक रंग दिया

नई दिल्ली: नाम इरफ़ान सिद्दीकी,(8 जनवरी 1939-15 अप्रील 2004) बदायूं में 8 जनवरी 1939 को पैदा हुए. उन का नाम प्रमुख आधुनिक कवियों में से एक है, उनके कलाम नई क्लासिक कविता के लिए प्रसिद्ध है. बरेली कॉलेज, आगरा विश्वविद्यालय से पढ़ाई पूरी की. Facebook पे हमारे पेज को लाइक …

Read More »

जन्मदिन विशेष: बिहार के महान शायर शाद अज़ीमाबादी, जिसे अपने युग का ‘मीर’ कहा गया

पटना: पूरा नाम सैयद अली मोहम्मद, “शाद” तखल्लुस, (7जनवरी 1846-8 जनवरी 1927) अजीमाबाद यानि पटना में 7 जनवरी 1846 ई को पैदा हुए. शाद बिहार की सरज़मीन का ऐसा चमकता हुआ सितारा था जिस ने उर्दू अदब में न केवल बिहार का नाम बल्की पुरे देश का नाम रौशन किया. …

Read More »
TOPPOPULARRECENT