Wednesday , January 25 2017
Home / Adab O Saqafat

Adab O Saqafat

जन्मदिन विशेष: कैफ़ी आज़मी जिन्होंने उर्दू अदब के साथ हिंदी सिनेमा का नाम भी रोशन किया

नई दिल्ली: सैयद हुसैन रिजवी नाम और कैफ़ी तखल्लुस था. 14 जनवरी 1923 ई को जिला आजमगढ़ के मौजा मजवां में पैदा हुए. दबीर माहिर, दबीर कामिल, आलिम (लखनऊ विश्वविद्यालय) मुंशी, मुंशी कामिल इलाहाबाद विश्वविद्यालय से डिग्रियां प्राप्त की. उनहोंने अपने अदबी सफ़र की शुरुआत एक ग़ज़ल गो के रूप …

Read More »

जन्मदिन विशेष: अहमद फ़राज़ ने ग़ज़ल में बुलंद मक़ाम हासिल किया

नई दिल्ली: नाम सैयद अहमद शाह और फ़राज़ तखल्लुस है . 12 जनवरी 1931 को पकिस्तान के नौशहरा में पैदा हुए. आबाई वतन कोहाट है. एडवर्ड कॉलेज पेशावर और पेशावर विश्वविद्यालय में अध्ययन किया. एमए (उर्दू) और एमए (फारसी) तक की पढ़ाई की. अदबी जीवन की शुरुआत विद्यार्थी काल में …

Read More »

जन्मदिन विशेष: पैगाम आफाकी जिन्होंने उर्दू अदब में उपन्यास को नई बुलंदी अता की

नई दिल्ली: पैगाम आफाकी जिसे उर्दू अदब में अख्तर अली फारूकी के नाम से भी जाना जाता है. उर्दू उपन्यास और लघु कहानियों के लिए उनका नाम विशेष रूप से लिया जाता है. पैगाम आफाकी बिहार के सीवान जिले में एक किसान परिवार में 10 जनवरी 956 को पैदा हुए. …

Read More »

मुश्किलों के बावजूद अपनी आवाज़ को दबने नहीं दी कश्मीर की ये मुस्लिम महिलाएं

कश्मीर: कश्मीर पिछले कई बरसों से हिंसा का शिकार रहा है. बावजूद इसके भारत प्रशासित कश्मीर की रुख़साना बीते 40 सालों से शायरी कर रही हैं. रुख़साना, निगहत या फिर परवीन आज़ाद, इन सभी औरतों की अहमियत इसलिए बढ़ जाती है कि इन्होंने इस दौरान भी अपनी आवाज़ को दबने …

Read More »

जन्मदिन विशेष: इरफ़ान सिद्दीकी जिन्होंने उर्दू शायरी को आधुनिक और क्लासिक रंग दिया

नई दिल्ली: नाम इरफ़ान सिद्दीकी,(8 जनवरी 1939-15 अप्रील 2004) बदायूं में 8 जनवरी 1939 को पैदा हुए. उन का नाम प्रमुख आधुनिक कवियों में से एक है, उनके कलाम नई क्लासिक कविता के लिए प्रसिद्ध है. बरेली कॉलेज, आगरा विश्वविद्यालय से पढ़ाई पूरी की. Facebook पे हमारे पेज को लाइक …

Read More »

जन्मदिन विशेष: बिहार के महान शायर शाद अज़ीमाबादी, जिसे अपने युग का ‘मीर’ कहा गया

पटना: पूरा नाम सैयद अली मोहम्मद, “शाद” तखल्लुस, (7जनवरी 1846-8 जनवरी 1927) अजीमाबाद यानि पटना में 7 जनवरी 1846 ई को पैदा हुए. शाद बिहार की सरज़मीन का ऐसा चमकता हुआ सितारा था जिस ने उर्दू अदब में न केवल बिहार का नाम बल्की पुरे देश का नाम रौशन किया. …

Read More »

जन्मदिन विशेष: बिस्मिल सईदी केवल एक नाम नहीं, उर्दू की पहचान है

नई दिल्ली: पूरा नाम सैयद ईसा मियां, तखल्लुस बिस्मिल (6 जनवरी 1902-26 अगस्त 1977 ) राजिस्थान के टोंक में 6 जनवरी 1902 को पैदा हुए. उनके पिता सईद सईदी अहमद जो न केवल एक पेशेवर यूनानी चिकित्सक थे, बल्कि एक विद्वान, उर्दू, फारसी और अरबी के कवि भी थे. उर्दू …

Read More »

जन्मदिन विशेष: एक बहु आयामी वयक्तित्व, जाहिदा जैदी जिन्होंने उर्दू अदब के हर पहलू को छुआ

नई दिल्ली: (4 जनवरी 1930–11 जनवरी 2011) एक विद्वान, कवि, नाटक कार और साहित्यिक आलोचक जाहिदा जैदी 4 जनवरी 1930 को मेरठ में पैदा हुई थी. वह पांच बहनों में सब से छोटी थी. प्रतिष्ठित महान उर्दू शायर ख्वाजा अल्ताफ हुसैन हाली उनके नाना थे. जबकि पिता एस.एम. मुस्तहसिन जैदी …

Read More »

जन्मदिन विशेष: उर्दू के विकास में नवल किशोर के योगदान को भुलाया नहीं जा सकता

नई दिल्ली: मुंशी नवल किशोर(3 जनवरी1836-19 फ़रवरी1895) का जन्म अलीगढ़ के एक कुलीन ब्राह्मण परिवार में सन् 3 जनवरी 1836 में हुआ था. अंग्रेजी शासन के समय के भारत के उद्यमी, पत्रकार एवं साहित्यकार थे. इनकी जिन्दगी का सफर कामयाबियों की दास्तान हैं. शिक्षा, साहित्य से लेकर उद्योग के क्षेत्र …

Read More »

जन्मदिन: अज़ीम शायर हसरत मोहानी जिन्होंने सब से पहले इंकलाब जिंदाबाद का नारा दिया था

नई दिल्ली: मौलाना हसरत मोहानी:(1 जनवरी 1875 – 1 मई 1951) साहित्यकार, शायर, पत्रकार, इस्लामी विद्वान, समाजसेवक और “इन्कलाब ज़िन्दाबाद” का नारा देने वाले आज़ादी के सिपाही थे. भारत को” इंकलाब जिंदाबाद” का नारा देकर अंग्रेजों से लड़ने का हौसला देने वाले हसरत मोहानी का आज जन्मदिन है. हसरत मोहानी …

Read More »

उर्दू साहित्य के प्रसिद्ध हस्तियों ने किया ‘ग़ालिब यूनिवर्सिटी’ की स्थापना की मांग

मेरठ: उर्दू शायरी और साहित्य के फलक पर मिर्जा असदुल्लाह खां ग़ालिब चमकता हुआ वह सितारा है, जिस के लफ्ज़ों की किरणें आज भी उर्दू शायरी की दुनिया को रोशन कर रही हैं। लंबे समय बीत जाने के बावजूद ग़ालिब अपनी शायरी और लफ्ज़ों के द्वारा आज भी हमारे दिल …

Read More »

राजपूत समाज ने शादी में डीजे के इस्तेमाल पर लगाई रोक

हरियाणा: राजपूत समाज के जिला अध्यक्ष रिटायर्ड कर्नल देवेन्द्र सिंह की अध्यक्षता में करनाल के नीलोखेड़ी हल्के की तरावड़ी जीटी रोड स्थित सैनिक फार्म हाउस पर राजपूत समाज की एक महापंचायत हुई. जिसमे राजपूत समाज कुरीतियों को मिटाने के लिए विवाह समारोह में डीजे का प्रयोग बन्द करने और बुजुर्ग …

Read More »

क्या है “जिहाद” शब्द का असल अर्थ, आइए जानें!

जिहाद अरबी भाषा का शब्द है, जिसका अर्थ होता है “संघर्ष करना”. इसका मूल शब्द जहद है, जिसका अर्थ होता है “संघर्ष”. ये अरबी भाषा में हर प्रकार के संघर्ष के लिए उपयोग होता है. जिहाद का अर्थ किसी की जान लेना, क़त्ल करना या किसी बेगुनाह को मारना नही …

Read More »

अमेरिका में एंकर बनने वाली पहली बा हिजाब सऊदी छात्रा “मलाक आले दाउद” की कहानी

रियाद: “तुम्हारा चेहरा एक एंकर का चेहरा नहीं है” .. यह वाक्य छात्रवृत्ति पर अमेरिका जाने वाली सऊदी छात्रा मलाक ऑल दाऊद के लिए आंदोलन का कारण बन गया। नतीजतन मलाक ने वचन दिया और वह अपनी सफलता के रास्ते में आने वाली हर बाधा को पार करती चली गईं। …

Read More »

क्या यह उर्दू प्रेस पर हमले की शुरुआत है?

नई दिल्ली: लंदन के अखबार डेली मेल (1) ने 6 जुलाई 2016 के एडिशन में एक तुफ़ैल अहमद का लिखा हुआ लेख “मुस्लिम युवकों को आतंकवादी बनाने का आरोप इंटरनेट पर क्यूँ लगाया जाए” अखबारों ने खुद ही अपनी इच्छा से यह लिखा है” प्रकाशित किया है। तुफ़ैल अहमद पहले …

Read More »

मस्जिदे हराम में रोज़ाना डेढ़ हजार क़ुरानी हलकों की स्थापना

मक्का: माहे रमजान के दौरान जहां मस्जिद हराम में ज़ईरीन बैतुल्लाह और उमरा करने वालों की संख्या में असाधारण वृद्धि हो जाती है वहीं तिलावते कलाम पाक के सैकड़ों सामूहिक क्षेत्र स्थापित करके उन में किताब अल्लाह की तिलावत के साथ-साथ कुरान को सही उच्चारण के साथ पढ़ने का प्रशिक्षण …

Read More »

असदुद्दीन ओवेसी के हाथों ”कारवाने उर्दू क़तर” का उद्घाटन

दोहा: पिछले 22 /मई की रात दोहा में उर्दू की नई साहित्यिक संगठन “कारवाने उर्दू क़तर” के उद्घाटन समारोह आयोजित किया गया, जिसमें कारवाँ के ज़िम्मे दारान, सदस्य और शुभचिंतकों ने भारत के प्रमुख राजनेता, ऑल इंडिया मजलिस इत्तेहादुल मुसलमीन के अध्यक्ष और सांसद बैरिस्टर असद ओवैसी और प्रसिद्ध अर्थशास्त्री …

Read More »

ग़ैर मुस्लिमों को मक्का की मस्जिदों में प्रवेश की इजाज़त

रियाद: सऊदी अरब की सरकार ने मक्का की चार ऐतिहासिक मस्जिदों ग़ैर मुस्लिम जायरीन के लिए खोल दी हैं। सऊदी अखबार (अकाज़) ‘ने अपनी रिपोर्ट में सूत्रों के हवाले से बताया है कि गैर मुस्लिम नागरिकों को मस्जिदों में आने की अनुमति देने का उद्देश्य उन्हें इस्लामी सभ्यता व संस्कृति …

Read More »

‘इस्लाम में महिलाओं पर हिंसा की अनुमति नहीं’

इस्लामी सैद्धांतिक परिषद के चेयरमैन मौलाना मोहम्मद खान शीरानी का कहना है कि इस्लाम में औरत पर हिंसा की अनुमति नहीं है।इस्लामी सैद्धांतिक परिषद के तीन दिवसीय सम्मेलन का दूसरा दौर चेयरमैन मौलाना मोहम्मद खान शीरानी की अध्यक्षता में हुआ। बैठक के बाद बीबीसी के अनुसार मौलाना मोहम्मद शीरानी ने …

Read More »

“हबीब जालिब” जनता के दिलों पर राज करने वाले मशहूर कवि

शायरे मजदूर हबीब जालब को संसार से कूच किए 23 साल हो गए हैं लेकिन आज भी दुनिया भर में उनके चाहने वाले और अदबी क्षेत्र उन्हें बड़े एह्त्मामा से याद करते हैं। हबीब जालब अपनी सार्वजनिक कविता के कारण प्रसिद्ध थे: हबीब जालब 28 फरवरी 1928 को राष्ट्र भारत …

Read More »