Sunday , July 23 2017
Home / Literature

Literature

मीडिया का हाथ-पैर पीछे बांधकर तोड़ दिया गया है, यह गौरक्षा पर PM मोदी से सवाल नहीं पूछ सकता: अभिसार शर्मा

चोटिल हूँ, लिहाज़ा कुछ दिनों से लिख नहीं पा रहा हूँ। हाथ टूट गया है। बडी हिम्मत करके कुछ लिख रहा हूं। खुद बेबस हूं, और मेरा पेशा, यानि पत्रकारिता मुझसे भी ज़्यादा बेबस है। मेरा तो सिर्फ हाथ टूटा है, मगर मौजूदा पत्रकारिता के हाथ पैर पीछे से या …

Read More »

“बोलो बोलो, तब क्या होगा”

“बोलो बोलो, तब क्या होगा” ——————— जब डरते डरते मुसमान वंदे मातरम गाएंगे जब ईसाई धर्मांतरण बिलकुल ही थम जाएंगे कम्युनिस्टों का जब नाम एकदम ही मिट जाएगा जब हर कन्हैया हर उमर बुरी तरह पिट जाएगा तब क्या होगा? बोलो बोलो, तब क्या होगा? जब छत्तीसगढ़ का आदिवासी जंगल …

Read More »

बेगुनाह क़ैदी: ज़रूर पढ़ें- आतंकवाद के झूठे मुक़दमों में फंसाये गए मुस्लिम नौजवानों की दास्तान 

झूठा आरोप लगाकर अब्दुल वाहिद शेख को 29 सितंबर वर्ष 2006 को गिरफ्तार किया गया और पुलिस कस्ट्डी में कभी न खत्म होने वाला अत्याचारों का सिलसिला शुरू हुआ। हालाँकि 26 नवंबर 2015 को अब्दुल वाहिद शेख को बाइज्ज़त रिहा कर दिया गया। वाहिद शेख तो बस एक नाम है। …

Read More »

मिलिए, मुल्क़ की हवाओं में मोहब्बत घोलने वाले IPS क़ैसर ख़ालिद से

नफ़रत को मोहब्बत से ही जीता जा सकता है। मुल्क़ की हवा में नफ़रत घोलने वालों को क़ैसर ख़ालिद जवाब दे रहे हैं। क़ैसर खालिद कोई सामाजिक कार्यकर्ता नहीं है ना ही किसी एनजीओ से जुड़े हैं वो एक आईपीएस ऑफिसर हैं जो अपनी ड्यूटी के साथ मुल्क़ में अमन …

Read More »

लड़ाई अभी समाप्त नहीं, इंतज़ार करिये हमारे दूसरे आंदोलन गांधीगीरी पार्ट- 2 का: इमरान प्रतापगढी

दश्त में प्यास बुझाते हुए मर जाते हैं, हम परिंदे कहीं जाते हुए मर जाते हैं ! ये मुहब्बत की कहानी नहीं मरती ताबिश, लोग किरदार निभाते हुए मर जाते हैं ! हम हैं सूखे हुए तालाब पे बैठे हुए हंस, जो तअल्लुक़ को निभाते हुए मर जाते हैं !! …

Read More »

“ईद के दिन काली पट्टी बांधकर नमाज़ पढ़े मुसलमान”

हमीं को क़ातिल कहेगी दुनिया हमारा ही क़त्लेआम होगा, हमीं कुँए खोदते फिरेंगें हमीं पे पानी हराम होगा ! मोहसिन, अख़लाक, नोमान, मिन्हाज़ अंसारी, पहलू खान, नईम और अब बल्लभगढ का जुनैद…….आंकड़े गिनना मुश्किल है ना कोई विरोध ना कोई बडा आंदोलन, हम इंतज़ार करते हैं कि हमारा कोई नेता …

Read More »

ग़ज़ल के शहंशाह मेहदी हसन के परिवार ने मांगी भारत सरकार से मदद

शहंशाह-ए-ग़जल मेहदी हसन के परिवार ने उनके कब्र की मरमत के लिए भारत सरकार से मदद की अपील की है। दरअसल, मेहदी हसन इंतकाल के बाद पाकिस्तान के सिंध प्रांत की सरकार ने उनकी याद में मजार और संग्रहालय बनाने का वादा किया था। लेकिन अभी तक उन्होंने यह काम …

Read More »

VIDEO: सरकारी दस्तावेज़ों में मरा हुआ एक ज़िंदा शायर…

ऊर्दू का एक अज़ीम शायर जो कह रहा है कि वो ज़िंदा है लेकिन सरकारी दस्तावेज़ों में उसे मार दिया गया है । हम बात कर रहे हैं 80 साल के मशहूर शायर असरार जमयी की । जिन्हें दक्षिण दिल्ली के समाज कल्याण विभाग ने 2013 में ही मृतघोषित कर …

Read More »

मैं मोदी की मुहब्बत का कर्जदार था, इसलिए मिलने गया: मुनव्वर राना

जब साहित्यकारों में पुरस्कार वापसी की होड़ मची थी, तब देश के मशहूर कवि मुनव्वर राना ने भी अपना अवार्ड वापस किया था। देश में बने हालात से नाराज राणा के ऐसा करने से हड़कंप सा मच गया था। इसके बाद मुन्नवर राणा ने पीएम मोदी से मुलाकात की थी। …

Read More »

मिलिए, इमाम हुसैन पर किताब लिखने वाले लेखक रमा शंकर पांडेय से

मौजूदा हालात में एक तरफ जहाँ देश भर में हिन्दू और मुसलमानों को आपस में बांटने की कोशिश लगातार हो रही है। वहीँ, दूसरी तरफ यूपी की राजधानी लखनऊ में रमा शंकर पाण्डेय ने इमाम हुसैन पर किताब लिखकर गंगा-जमुनी तहज़ीब की खूबसूरत मिसाल पेश की है। बीते कल मौलाई …

Read More »

अभिसार शर्मा का ब्लॉग- ‘बच्चे चोरी ही नही हुए और 7 घरों के चिराग तुमने बुझा दिए!’

हम अंदर से मर चुके हैं। हम एक शख्स की भक्ति में इस कदर लीन हैं, इस कदर…कि हमने हकीकत देखने से इंकार कर दिया है। हम सोचते हैं कि देश के कुछ लोग नर्क में जलते रहेंगे और वो आग हम तक कभी नहीं पहुंचेगी। हम अछूते रहेंगे, लिहाज़ा …

Read More »

अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति पर आधारित है भारतीय कुत्ते की नस्लों के नाम: लेखक

क्या आपके ज़ेहन में राजपलायम,चिप्पिपरै और ल्हासो अपसो जैसे नाम सुनकर कोई ख्याल आता है| यह सारे भारतीय नेसल के कुत्तो की कुछ खास प्रजातियां है और हमें से कई लोगो को इनके मालिक होने पर गर्व भी होगा| अपनी किताब के लांच के मौके पर ‘एस थेओडरे भास्करन’ कुत्तो …

Read More »

‘दिल्ली को कभी ‘उर्दू’ कहते थे, इस भाषा में मोहब्बत के सिवा कुछ भी नहीं’

‘उर्दू संयुक्त भारतीय सभ्यता की वाहक है’, ‘उर्दू की मिठास लोगों को आशिक बना देती है’, ‘दुख दर्द को बेहतर तरीके से पेश करने का ज़रिया है उर्दू भाषा’ और सबसे बड़ी बात यह कि दिल्ली को कभी उर्दू कहते थे। यह बातें शुक्रवार शाम दिल्ली में आयोजित ‘जश्ने बहार’ …

Read More »

मुशायरे में बोले मशहूर शायर-भारत-पाक के बीच तनाव का असर कलाकारों के दौरों पर नहीं पड़ना चाहिए

नई दिल्ली- कुलभूषण जाधव को फांसी की सज़ा दिए जाने के बाद एक बार फिर भारत-पाकिस्तान के बीच तनाव बड़ गया है। भारत सरकार पर पाकिस्तान के खिलाफ़ सख्त कार्रवाई की मांग की जा रही है। लेकिन देश के शायर चाहते हैं कि राजनीति के दायरे से हटकर दोनों देशों …

Read More »

Exclusive Interview: मेरी शायरी मज़लूमों की आवाज़ है- इमरान प्रतापगढ़ी

“मैं हर रात यह सोच कर नजीब पर नज़्म पढ़ता हूं कि ये मेरी नजीब पर पढ़ी गई आखिरी नज़्म होगी और सुबह तक नजीब लौट आयेगा। लेकिन फिर सुबह उठकर अपने आंसूओं को पोछता हूं और एक बार फिर इस उम्मीद के साथ पढ़ना शुरू करता हूं कि नजीब …

Read More »

हाशिए पर पड़े लोगों के दर्द बयान करती किताब ‘आवाज़_ए_मूलनिवासी’

मौजूदा समय में 20 साल की गुरमेहर कौर को बोलने की वजह से मिल रही धमकियों के बीच 19 साल भावना मीना ने एक किताब लिखी है। आवाज़_ए_मूलनिवासी। यूँ तो अपने नाम से ही ये किताब अपने वजूद में आने का मतलब बयां कर दे रही है लेकिन फिर अभी …

Read More »

राहत इंदौरी ने पाकिस्तान दिवस पर कराची मुशायरे में शामिल होने का न्योता ठुकराया

इंदौर। हिंदुस्तान के मशहूर शायर राहत इंदौरी ने पाकिस्तान दिवस पर कराची मुशायरे में शामिल होने का न्योता ठुकरा दिया है।  ये मुशायरा  22 मार्च को आयोजित होना है ।  हालांकि  राहत इंदौरी ने अपनी मसरूफियत का हवाला देते हुए पाकिस्तान के इस कार्यक्रम में शिरकत से मना  किया है, लेकिन उनका मानना है …

Read More »

ज़िन्दगी में उतार-चढ़ाव के साथ भाषा के बैरिकेड को तोड़ कौसर बानू ने संस्कृत में जीते 2 गोल्ड मैडल

संस्कृत में 80.50 प्रतिशत अंक हासिल करने के वाली कौसर बानू को डॉ. ऐ डी शास्त्री मैडल और श्रीमद् भगवत रंगवधूत नरेश्वर मैडल से नवाज़ा गया है। एक स्कूल में पढ़ाने वाली कौसर को बीते कल वीर नर्मद साउथ गुजरात यूनिवर्सिटी के कन्वोकेशन समारोह में सम्मानित किया गया। कौसर बानो …

Read More »

24 लेखक साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित

दिल्ली : 24 लेखकों को साहित्य अकादमी पुरस्कार दिया गया है. इन सभी को वार्षिक फेस्टिवल ऑफ लेटर्स प्रदान किए गए हैं. विजेताओं को उनकी उल्लेखनीय साहित्यिक कृतियों के लिए एक-एक लाख रुपये का नकद पुरस्कार दिया गया. पुरस्कार देते हुये अकादमी के अध्यक्ष विश्वनाथ प्रसाद तिवारी ने कहा कि …

Read More »

युवाओं में बढ़ती क़व्वाली की लोकप्रियता

ग़ुलाम हुसैन। मौसीकि और रंगो साज़ के इस दौर में क़व्वाली आज भी अपनी रुहानि ताक़त के दम पर युवाओं को अपनी ओर खिंचतीं है। पोप और रैप के इस दौर में भी क़व्वाली योवाओं के दिल में धड़के यह क़व्वाली के प्रसंगिकता को दर्शाता है। इसका ताज़ा उदाहरण दिल्ली …

Read More »
TOPPOPULARRECENT