Monday , October 23 2017
Home / India / अंजुमन तरक़्क़ी उर्दू बिहार की मर्कज़ी वज़ीर तालीम को याददाश्त

अंजुमन तरक़्क़ी उर्दू बिहार की मर्कज़ी वज़ीर तालीम को याददाश्त

अबदुलक़य्यूम अंसारी सैक्रेटरी अंजुमन तरक़्क़ी उर्दू बिहार‍ कोओर्डीनेटर क़ौमी कमीशन बराए अख्लेती तालीमी इदारे जात नई दिल्ली ने एक प्रेस बयान में बताया कि बिहार में मदारिस, मदारिस के असातिज़ा और उर्दू ज़बान के चंद मसाइल के हल के सिल

अबदुलक़य्यूम अंसारी सैक्रेटरी अंजुमन तरक़्क़ी उर्दू बिहार‍ कोओर्डीनेटर क़ौमी कमीशन बराए अख्लेती तालीमी इदारे जात नई दिल्ली ने एक प्रेस बयान में बताया कि बिहार में मदारिस, मदारिस के असातिज़ा और उर्दू ज़बान के चंद मसाइल के हल के सिलसिले में अंजुमन तरक़्क़ी उर्दू बिहार के वफ़द ने सैक्रेटरी अंजुमन तरक़्क़ी उर्दू बिहार की क़ियादत में मर्कज़ी वज़ीर तालीम पल्लम राजू से मुलाक़ात करके एक याददाश्त पेश की जिस में हसब ज़ैल मुतालिबात रखे गए।

बिहार एस्टेट मदरसा एजूकेशन बोर्ड से मुल्हिक़ा इमदाद याफ़ता मदारिस के असातिज़ा को आज भी चौथी शरह तनख़्वाह दी जा रही है जब कि सरकारी स्कूलों के असातिज़ा को उन्हें औक़ात और मुसावी काम के लिए छुट्टी शरह तनख़्वाह अदा की जा रही है। लिहाज़ा मदारिस के असातिज़ा को भी छुट्टी शरह तनख़्वाह अदा करने के लिए हुकूमत बिहार को हिदायत जारी की जाये।

पूरे हिंदूस्तान में केंद्रीय विद्यालय और नोवदए विद्यालय में उर्दू असातिज़ा का तक़र्रुर नहीं किया गया जिस की वजह से उर्दू तलबा को ना चाहते हुए भी संस्कृत पढ़ने के लिए मजबूर होना पड़ता है। लिहाज़ा तमाम केंद्रीय विद्यालय और नोवदए विद्यालय में एक एक उर्दू उस्ताद के तक़र्रुर के लिए हुक्मनामा जारी किया जाये।

सूबा बिहार के मदारिस में मर्कज़ के ज़रीये टीचर की तक़र्रुरी की गई थी जिन्हें पिछले पाँच बरसों से तनख़्वाह अदा नहीं की गई है। इन मदारिस के असातिज़ा की तनख़्वाह की अदाएगी के लिए मर्कज़ सीधे मदारिस के खाते को फ़ंड मुहय्या कराए ताकि उन असातिज़ा को वक़्त पर तनख़्वाह की अदाएगी होसके।

बिहार के मंज़ूर शूदा मदारिस की इमारत की तामीर के लिए कोई रक़म अभी तक जारी नहीं की गई है। लिहाज़ा आर एम एस स्कीम के तहत इन मदारिस की इमारत की तामीर के लिए फ़ंड मुहय्या कराया जाए।

TOPPOPULARRECENT