Sunday , October 22 2017
Home / Hyderabad News / अंजुमन महबान उर्दू का आलमी मुशायरा , नदीम माहिर ( क़ुतर ) के शिरकत की तौसीक़

अंजुमन महबान उर्दू का आलमी मुशायरा , नदीम माहिर ( क़ुतर ) के शिरकत की तौसीक़

हैदराबाद ।१०। मई : अंजुमन महबान उर्दू ( ए पी ) के ज़ेर-ए-एहतिमाम तीसरा आलमी मुशायरा 21 मई को मुनाक़िद किया जा रहा है । अंजुमन के मुशायरे हमेशा आली अदबी रवायात , हैदराबादी तहज़ीब केसाथ मुनाक़िद होते हैं जहां बेहतरीन शायरी से लुतफ़ अंदो

हैदराबाद ।१०। मई : अंजुमन महबान उर्दू ( ए पी ) के ज़ेर-ए-एहतिमाम तीसरा आलमी मुशायरा 21 मई को मुनाक़िद किया जा रहा है । अंजुमन के मुशायरे हमेशा आली अदबी रवायात , हैदराबादी तहज़ीब केसाथ मुनाक़िद होते हैं जहां बेहतरीन शायरी से लुतफ़ अंदोज़ होने केलिए हज़ारहा सामईन मआ अहबाब शिरकत करते हैं । मलिक के चुनिंदा मुशाविरों में शुमार किए जाने वाले मुशायरे में अपनी शिरकत को ख़ुद शाराए किराम भी एज़ाज़ समझते हैं जिन्हें यहां के सामईन दाद-ओ-तहसीन से नवाज़ते हैं । सय्यद मिस्कीन अहमद कन्वीनर ने बताया कि क़ुतर के मक़बूल शायर अदबी सरगर्मीयों के रूह रवां मुनफ़रद लहजा के मशहूर नदीम माहिर ने शिरकत की तौसीक़ की है ।

इस के इलावा अमरीका , दुबई के इलावा हिंदूस्तान के ख़ुद गो मुंतख़ब शारा-ए-भी शिरकत करेंगे । अंजुमन , शारा-ए-के इंतिख़ाब में हद दर्जा एहतियात से काम लेते हुए मुल्क गीर सतह पर नामवर शोअरा को मदऊ करती है जो मुशाविरों में अपने बेहतरीन कलाम के लिए पसंद किए जाते हैं ।

जिन में बेशतर पहली दफ़ा हैदराबाद आ रहे हैं । अंजुमन अपने महिदूद वसाइल के बावजूद दाख़िला की आम इजाज़त रखते हुए हज़ारहा सामईन के लिए बेहतर से बेहतर इंतिज़ामात करते हुए अहल-ए-ज़ोक़ का दिल जीता है । और उन की अख़लाक़ी सरपरस्ती की वजह से ये तीसरा आलमी मुशायरा मुम्किन हो सका है ।।

TOPPOPULARRECENT