Thursday , October 19 2017
Home / Khaas Khabar / अंडमान में कश्ती डूबी 21 की मौत

अंडमान में कश्ती डूबी 21 की मौत

जज़ीरा अंडमान निकोबार में पोर्टब्लेयर के क़रीब एक कश्ती जिस में 45 अफ़राद सवार थे ग़र्क़ाब होगई, जिसके नतीजा में 21 अफ़राद हलाक होगए। इनमेंअक्सरीयत का ताल्लुक़ तमिलनाडू से बताया गया है।

जज़ीरा अंडमान निकोबार में पोर्टब्लेयर के क़रीब एक कश्ती जिस में 45 अफ़राद सवार थे ग़र्क़ाब होगई, जिसके नतीजा में 21 अफ़राद हलाक होगए। इनमेंअक्सरीयत का ताल्लुक़ तमिलनाडू से बताया गया है।

र्कज़ी ज़ेर-ए-इंतेज़ाम इस इलाक़े के इंतिज़ामिया ने बताया कि 21 नाशों को निकाला जा चुका है और 13 अफ़राद को ज़िंदा बचा लिया गया चीफ़ मिनिस्टर तमिलनाडू जय ललिता ने एक बयान में कहा कि 28 अफ़राद हलाक हुए और इनमें अक्सरीयत का ताल्लुक़ ज़िला कांचीपुरम से था। इस कश्ती में कांचीपुरम से ताल्लुक़ रखने वाले जुमला 33 अफ़राद सवार थे। अंडमान निकोबार इंतिज़ामिया के एक ओहदेदार ने कहा कि ये हादिसा तक़रीबन 4.30 बजे शाम पेश आया। उन्होंने कहा कि ज़िंदा बचा लिए गए 4 अफ़राद को जी बी पंत गर्वनमैंट हॉस्पिटल के आई सी यू में शरीक किया गया है । साउथ अंडमान के डिप्टी कमिशनर के दफ़्तर के मुताबिक़ ख़ान्गी टूरिस्ट सयाहती कशती इको अमीरीन साहिल से तक़रीबन 25 केलो मीटर दूर रोज़ जज़ीरा के शुमाल में डूब गई।

इस कश्ती में 45 अफ़राद सफ़र कररहे थे। कांचीपुरम ज़िले से ताल्लुक़ रखने वाले सय्याहों का एक ग्रुप पाम ग्रोवज़ रेज़ार्ट में क़ियाम किए हुए था।
जबकि एक और छोटा ग्रुप भी कश्ती में सवार था जिस का ताल्लुक़ मुंबई से बताया गया है। लेफ़टिनेेेेन्ट गवर्नर ए ए के सिंह ने वाक़िये की मेजस्टेेेरियल तहक़ीक़ात का हुक्म दिया और महलूकीन के विरसा को फी कस एक लाख रुपये एक्स ग्रेशिया का ऐलान किया। ज़िंदा बच जाने वालों ने कहा कि कश्ती में गुंजाइश से ज़्यादा अफ़राद सवार थे। ज़राए के मुताबिक़ इस कश्ती की गुंजाइश सिर्फ़ 25 मुसाफ़िर यन की थी लेकिन इसमें ज़्यादा अफ़राद को सवार कर लिया गया था।

वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह ने इस सानिहे पर अफ़सोस और महलूकीन के अरकान ख़ानदान से ताज़ियत का इज़हार किया। वज़ीर-ए-आज़म के दफ़्तर के मुताबिक़ उन्होंने मर्कज़ी एजेेंसियों को बचाव और राहतकारी कामों में मदद की हिदायत दी।लेफ़टिनेेेेन्ट गवर्नर ने मर्कज़ी वज़ीर-ए-दाख़िला सुशील कुमार शिन्दे से रब्त क़ायम करते हुए उन्हें हादिसे और बचाव-ओ-राहत कारी इक़दामात के बारे में वाक़िफ़ कराया। अवाम के लिए हेल्पलाइन नंबर और कंट्रोल भी क़ायम किया गया है।

TOPPOPULARRECENT