Thursday , September 21 2017
Home / India / अंडमान में तूफानी मौसम, 1400 पर्यटकों को बचाने में जुटे 4 जहाज

अंडमान में तूफानी मौसम, 1400 पर्यटकों को बचाने में जुटे 4 जहाज

पोर्ट ब्लयेर: अंडमान के हेवलॉक और नील द्वीपों में तूफानी मौसम की वजह से तकरीबन 1400 सैलानी फंस गए हैं. उन्हें निकालने के लिए नौसेना ने बुधवार को चार पोतों को लगाया है. बंगाल की खाड़ी के दक्षिण पूर्व में गहरा दबाव बना गया है जिस कारण से भारी बारिश, तेज हवाएं चल रही हैं और समुद्र अशांत हो गया है. पोर्ट ब्लेयर से लगभग 40 किलोमीटर दूर इन दोनों द्वीपों को तूफानी मौसम ने सबसे ज्यादा प्रभावित किया है.

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

हिन्दुस्तान के ख़बरों के मुताबिक, अंडमान में नील और हेवलॉक बेहद लोकप्रिय पर्यटक स्थल हैं और सैलानियों को वहां से लाने के माध्यम पोत या हेलीकॉप्टर है जिन्होंने सोमवार रात से खराब मौसम की वजह से अभियान को रोक दिया है.
अंडमान के हेवलॉक और नील द्वीपों में तूफानी मौसम की वजह से तकरीबन 1400 सैलानी फंस गए हैं. उन्हें निकालने के लिए नौसेना ने बुधवार को चार पोतों को लगाया है. पोर्ट ब्लेयर से लगभग 40 किलोमीटर दूर इन दोनों द्वीपों को तूफानी मौसम ने सबसे ज्यादा प्रभावित किया है. प्रशासन पहले ही तूफानी मौसम को एल1 आपदा के तौर पर की घोषित कर चुका है.
फंसे हुए लोगों को निकालने के लिए भारतीय नौसेना के पोत बित्रा, बंगारम, कुंभीर एलसीयू 38 को तैनात किया गया है. निकालने का काम मौसम की प्रतिकूल स्थितियों की वजह से अभी शुरू नहीं किया जा सका है.
एक रक्षा अधिकारी ने कहा कि पोत बंदरगाह के बाहर इंतजार कर रहे हैं. पर्याप्त खाना, पानी, दवाएं और डॉक्टरों के साथ ही गोताखोरों और स्थानीय प्रशासन के कर्मचारियों को पोत पर लाया जा रहा है ताकि राहत मुहैया कराई जा सके। अंडमान प्रशासन के अधिकारियों ने कहा कि तूफानी मौसम ने पेड़ों को गिरा दिया है, बिजली आपूर्ति बाधित की है और पोर्ट ब्लेयर के कुछ निचले इलाकों में बाढ़ ला दी है। कई इलाकों में मोबाइल और इंटरनेट संपर्क भी टूट गया है.
राजनिवास पर एक उच्चस्तरीय बैठक हुई जिसमें उपराज्यपाल जगदीश मुखी ने स्थिति और प्रशासन द्वारा किए जा रहे राहत अभियानों की समीक्षा की. उन्होंने सभी महकमों को वक्त पर प्रतिक्रिया देने और समन्वय करने के निर्देश दिए ताकि लोगों तक तेजी से राहत पहुंच सके. पर्यटन विभाग ने भी पोर्ट ब्लेयर, हेवलॉक और नील द्वीपों पर सहायता डेस्क स्थापित की हैं.

TOPPOPULARRECENT