Wednesday , June 28 2017
Home / India / अंबेडकर जयंती पर बोले दलाई लामा- ‘जो लोगों को बांटता है वो धर्म नहीं हो सकता है’

अंबेडकर जयंती पर बोले दलाई लामा- ‘जो लोगों को बांटता है वो धर्म नहीं हो सकता है’

बेंगलूरु। अंबेडकर भवन में मंगलवार को डॉ.भीमराव अंबेडकर की जयंती के उपलक्ष्य में समाज कल्याण विभाग की ओर से आयोजित राज्य स्तरीय विचार गोष्ठी को संबोधित करते हुए धर्मगुरु ने कहा कि विश्व में सभी धर्मों का लक्ष्य समानता है। ये धर्म अहिंसा, ईमानदारी तथा दूसरों के प्रति शिष्टाचार की शिक्षा देते हैं किन्तु इनका प्रायोगिक तौर पर क्रियान्वयन नहीं होता है।

वर्तमान युग में धर्म की सच्ची संस्कृति दिखाई नहीं देती है, क्योंकि पिछड़े वर्गों के प्रति अत्याचार बढ़ रहा है। डॉ. अंबेडकर का भारतीय संविधान वास्तव में महान है और समूचे विश्व के लिए उपयुक्त भी है। सामाजिक न्याय का पालन किया जाना चाहिए अन्यथा एक-एक कर अनेक समस्याएं उभरकर सामने आने लगेंगी।

मुख्यमंत्री सिद्धरामय्या ने कहा कि जाति व्यवस्था ही सामाजिक अन्याय व असमानता के अस्तित्व का मूल कारण है। जब तक जाति व्यवस्था का उन्मूलन नहीं होता पिछड़े वर्गों को सामाजिक न्याय नहीं मिलेगा।

असमानता को केवल कानून बनाकर दूर नहीं किया जा सकता बल्कि इसके लिए लोगों की सोच में भी बदलाव लाना आवश्यक है। देश का सौभाग्य है कि हमें ऐसा संविधान मिला जो सामाजिक न्याय सुनिश्चित करता है।

Top Stories

TOPPOPULARRECENT