Wednesday , October 18 2017
Home / Hyderabad News / अइम्मा के तनख़्वाहों की अदाएगी केलिए स्कीम

अइम्मा के तनख़्वाहों की अदाएगी केलिए स्कीम

आंध्र प्रदेश हाइकोर्ट ने रियासत में इमामों को तनख़्वाहों की अदायगी के मंसूबे की तैय्यारी के लिए आंध्र प्रदेश वक़्फ़ बोर्ड को 4 महिने का वक़्त दिया है। सुप्रीम कोर्ट की हिदायत और सैंटर्ल वक़्फ़ कौंसल की तरफ‌ से तैय्यार करदा स्कीम

आंध्र प्रदेश हाइकोर्ट ने रियासत में इमामों को तनख़्वाहों की अदायगी के मंसूबे की तैय्यारी के लिए आंध्र प्रदेश वक़्फ़ बोर्ड को 4 महिने का वक़्त दिया है। सुप्रीम कोर्ट की हिदायत और सैंटर्ल वक़्फ़ कौंसल की तरफ‌ से तैय्यार करदा स्कीम के मुताबिक़ वक़्फ़ बोर्ड को मसाजिद के इमामों की तनख़्वाहें अदा करनी हैं।

वक़्फ़ बोर्ड के चीफ़ ऐगज़ीक्यूटिव ऑफीसर अबदुलहमीद आज जस्टिस नौशाद अली के बैठक‌ पर हाज़िर हुए। 7 नवंबर को जस्टिस नौशाद अली ने चीफ़ ऐगज़ीक्यूटिव ऑफीसर को शख़्सी तौर पर अदालत में हाज़िर होने की हिदायत दी थी। सुप्रीम कोर्ट के अहकामात के मुताबिक़ इमामों को तनख़्वाहों की अदायगी में वक़्फ़ बोर्ड की नाकामी से मुताल्लिक़ दरख़ास्त की समाअत के दौरान अदालत ने चीफ़ ऐगज़ीक्यूटिव ऑफीसर को शख़्सी तौर पर हाज़िर होने की हिदायत दी थी।

कल हिंद तंज़ीम अइम्मा मसाजिद और मर्कज़ी हुकूमत के बीच‌ मुक़द्दमे में सुप्रीम कोर्ट ने तनख़्वाहों की अदायगी की हिदायत दी थी। जस्टिस नौशाद अली इमामों की इस दरख़ास्त की समाअत कररहे थे जिस में शिकायत की गई कि वक़्फ़ बोर्ड सुप्रीम कोर्ट की हिदायत पर अमलावरी नहीं कररहा है।

वक़्फ़ बोर्ड के चीफ़ ऐगज़ीक्यूटिव ऑफीसर ने अदालत को बताया कि वक़्फ़ बोर्ड इसके तहत मौजूद मसाजिद के इमामों की तादाद मालूम करने के लिए आदाद-ओ-शुमार जमा कररहा है। इसके अलावा मुतवल्लियों के तहत चलने वाली मसाजिद की तफ़सीलात भी हासिल की जा रही हैं।

सी ई ओ ने बताया कि आदाद-ओ-शुमार की तैय्यारी का काम जारी है और बहुत जल्द पूरा होजाएगा। जिस के बाद वक़्फ़ बोर्ड इमामों की तनख़्वाहों की अदायगी से मुताल्लिक़ स्कीम पर अमलावरी के मंसूबे को क़तईयत देगा। जस्टिस नौशाद अली ने चीफ़ ऐगज़ीक्यूटिव ऑफीसर वक़्फ़ बोर्ड के बयान को रिकार्ड करने के बाद वक़्फ़ बोर्ड को 4 महिने की मोहलत दी है।

वाज़िह रहे कि सुप्रीम कोर्ट ने मसाजिद के इमामों को एक दिसंबर‌ 1993 से तनख़्वाहों की अदायगी की हिदायत दी है। हाइकोर्ट में मुक़द्दमे की आइन्दा समाअत एक‌ मार्च को मुक़र्रर की गई

TOPPOPULARRECENT