Monday , October 23 2017
Home / Hyderabad News / अक़ल्लीयती बहबूद कमिशनरीयट के क़ियाम के एलान का ख़ैर मखदम‌

अक़ल्लीयती बहबूद कमिशनरीयट के क़ियाम के एलान का ख़ैर मखदम‌

( सियासत न्यूज़ ) : साबिक़ सदर नशीन हुड्डा कांग्रेस के सेनियर‌ क़ाइद मिस्टर ख़्वाजा ख़लील-उल-ल्लाह ने अक़ल्लीयती बजट को 489 करोड़ रुपया तक बढ़ा देने और अक़ल्लीयती बहबूद कमिशनरीयट क़ायम करने के ऐलान का ख़ैर मुक़द्दम किया ।

( सियासत न्यूज़ ) : साबिक़ सदर नशीन हुड्डा कांग्रेस के सेनियर‌ क़ाइद मिस्टर ख़्वाजा ख़लील-उल-ल्लाह ने अक़ल्लीयती बजट को 489 करोड़ रुपया तक बढ़ा देने और अक़ल्लीयती बहबूद कमिशनरीयट क़ायम करने के ऐलान का ख़ैर मुक़द्दम किया ।

उन्हों ने चीफ़ मिनिस्टर मिस्टर एन किरण कुमार रेड्डी को अक़ल्लीयत दोस्त क़रार देते हुए कहा कि उन्हों ने अक़ल्लीयतों की तरक़्क़ी और बहबूद पर अव्वलीन तर्जीह देने का माज़ी में अक़ल्लीयतों बिलखूसूस मुस्लमानों से जो वाय‌दा किया था इस को अमलीजामा(पुरा)पहनाते हुए अक़ल्लीयती बजट को 301 करोड़ से बढ़ाकर 489 करोड़ रुपया कर दिया है ।

इस तरह अक़ल्लीयती बजट में 188 करोड़ रुपया का इज़ाफ़ा किया गया है । हुकूमत के इस फ़ैसले से रियासत के अक़ल्लीयतों में ख़ुशी की लहर पाई जाती है । यही नहीं बल्कि अक़ल्लीयती बहबूद पर अमल आवरी का जायज़ा लेने के लिए अक़ल्लीयती बहबूदकमिशनरीयट क़ायम किया गया है । रियासत के अक़ल्लीयतों बिलख़सूस मुस्लमानों की जानिब से वो चीफ़ मिनिस्टर से इज़हार-ए-तशक्कुर करते हैं ।

मिस्टर ख़्वाजा ख़लील-उल-ल्लाह ने कहा कि तलगो देशम के दौर-ए-हकूमत 2004 तक अक़ल्लीयती बजट सिर्फ 36 करोड़ तक महिदूद था ताहम सिर्फ 8 साल में कांग्रेस हुकूमत ने इस को बढ़ाकर 489 करोड़ रुपय करदिया है । चीफ़ मिनिस्टर ने जो कारनामा अंजाम दिया है । वो मुल़्क की दूसरी रियास्तों के लिए काबिल तक़लीद है ।

कांग्रेस हुकूमत ने मुस्लिम तहफ़्फुज़ात फ़राहम किया । मुस्लिम तलबा को आला तालीम के तमाम मवाक़े फ़राहम करने के लिए फ़ीस री एम्ब्रॆसमॆन्ट स्कीम का आग़ाज़ किया और बड़े पैमाने पर स्कालरशिप्स‌ फ़राहम किए । नए हज हाउज़ की तामीर के लिए रुकमी मंज़ूरी दी । मक्का मस्जिद बम धमाका मैं बेक़सूर रिहा होने वाले मुस्लिम तलबा को मुआवज़ा अदा करने के इलावा बेहतरीन चाल चलन का सरटीफ़ीकट दिया । दाइरৃ अलमारफ़ को लाखों रुपय इमदाद फ़राहम अक़ल्लीयती बजट में 62 फ़ीसद इज़ाफ़ा करने से अक़ल्लीयती बहबूद की जो असकीमात पर अमल आवरी नहीं हो रही थी अब इस के अहया की गुंजाइश फ़राहम हो गई है ।।

TOPPOPULARRECENT