Friday , September 22 2017
Home / Delhi / Mumbai / अखिलेश को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के “कैशलेस सोसाइटी” सिद्धांत पर आपत्ति

अखिलेश को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के “कैशलेस सोसाइटी” सिद्धांत पर आपत्ति

LUCKNOW, DEC 4 (UNI):- Uttar Pradesh Chief Minister Aklhilesh Yadav inaugurating the beautification works of old Lucknow at Hussainabad clock tower in Lucknow on Sunday. UNI PHOTO-47U

लखनऊ: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ” कैशलेस सोसाइटी ” सिद्धांत पर आपत्ति जताते हुए मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश अखिलेश यादव ने आज कहा कि केंद्र ने कोई कदम ग्रामीण आबादी से इस अवधारणा पर सलाह के बाद नहीं किया है। उन्होंने कहा कि ” उन्होंने (मोदी) ने डिजिटल इंडिया के लिए क्या तैयारियां की हैं? । उन्हें कैशलेस सोसाइटी सौदेबाजी कौन सिखाएगा? ।

अन्य लोगों के बारे में क्या कदम किया जा रहा है? । एक समारोह को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री यूपी अखिलेश यादव ने यह प्रश्न प्रधानमंत्री मोदी से किए। उन्होंने कहा कि हमने गांवों को सबसे ऊपर प्रमुख किए और आप (प्रधानमंत्री) को चाहिए कि हम सभी को बताना चाहिए कि आपने क्या किया? । आपको जान लेना चाहिए कि सरकार जो जनता को तकलीफ देती है बाकी नहीं रहती।

उन्होंने उनकी सरकार के प्रदर्शन का केंद्र सरकार के प्रदर्शन से तुलनात्मक करते हुए कहा कि उन्हें यूपी सरकार के साथ विकास को लेकर जबरदस्त काम करने का मुकाबला करना चाहिए जो राज्य सरकार ने पिछले चार साल के दौरान किया है। केंद्र की भाजपा सरकार की आलोचना करते हुए अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा की यात्राएं नोटों के निरसन के कारण विफल हो चुकी हैं। जनता को पंक्तियों में खड़ा रहना पड़ रहा है जिसकी वजह से यह योजना विफल हो गई है।

बेंगलुरु से मिली सूचना के मुताबिक भाजपा ने आज पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की साख पर संदेह व्यक्त करते हुए कहा कि उन्हें उच्च मालियती नोटों के निरसन की आलोचना करने का कोई अधिकार नहीं है। क्योंकि वह एक भ्रष्ट सरकार के मुखिया रह चुके हैं। पूर्व सरकार इतनी भ्रष्ट थी कि अतीत में उसकी कोई मिसाल नहीं मिलती।

मनमोहन सिंह मौजूदा सरकार पर काला धन के खिलाफ लड़ाई करने की आलोचना कर रहे हैं ‘जब वह खुद को 10 साल तक शासन किया है और वह काला धन मुद्दे की एकाग्रता में असमर्थ रहे थे। वे कालाधन के दस्तावेज तैयार करने से भी असमर्थ रहे। भाजपा के महासचिव मुरलिधर राव ने एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के बड़े नोटों के निरसन पर वर्तमान सरकार की आलोचना का हवाला देते हुए एक सवाल के जवाब में कहा कि ए टी एम्स और बैंकों में लंबे कतारें जो नकदी की कमी की वजह से है ’30 दिसंबर तक खत्म हो जाएंगी। स्थिति को सामान्य करने के लिए कुछ समय की जरूरत है। उन्होंने कहा कि जनता सहित किसान जो फिलहाल प्रभावित हैं ‘पुरस्कार पाएंगे।

TOPPOPULARRECENT