Saturday , August 19 2017
Home / Delhi News / अदालत में वीडियोग्राफी के मसारिफ़ बर्दाश्त करने सज्जन कुमार की पेशकश

अदालत में वीडियोग्राफी के मसारिफ़ बर्दाश्त करने सज्जन कुमार की पेशकश

नई दिल्ली: कांग्रेस लीडर सज्जन कुमार और दीगर 2अफ़राद जो कि 1984 के मुख़ालिफ़ सिख फ़सादात‌ केस में माख़ूज़ हैं और उनके ख़िलाफ़ मुक़द्दमा ज़ेर-ए-समात है आज दिल्ली की एक अदालत से कहा है कि अदालती कार्रवाई की वीडियोग्राफी के मुसारिफ़ बर्दाश्त करने के लिए वो आमादा हैं।

मज़कूरा मुल्ज़िमीन आज डिस्ट्रिक्ट जज अमरनाथ के रूबरू पेश हुए जबकि ये केस दिल्ली हाईकोर्ट ने कारकरडोमा कोर्ट से यहां मुंतक़िल कर दिया है। उन्होंने कहा कि अदालत में समात केस की कार्रवाई के लिए फ़िल्मबंदी के मसारिफ़ अदा करने के लिए वो तैयार हैं जिस पर डिस्ट्रिक्ट जज ने वीडियोग्राफी के तरीका-ए-कार का जायज़ा लेने के लिए 29 जनवरी 2016 तारीख़ मुक़र्रर की है चूँकि अदालत में वीडियोग्राफी का सिस्टम दस्तियाब नहीं है। लिहाज़ा वो कम्पयूटर ब्रांच से ये सहूलत फ़राहम करने के लिए रुजू होंगे। लेकिन मुल्ज़िमीन के वकील ने गवाहों की हिफ़ाज़त के तयक़्क़ुन पर वीडियोग्राफी के मसारिफ़ अदा करने से इत्तेफ़ाक़ कर लिया।

TOPPOPULARRECENT