Friday , October 20 2017
Home / Hyderabad News / अनवारुल उलूम कॉलेज और मुल्हिक़ा इदारे वक़्फ़ बोर्ड की तहवील में

अनवारुल उलूम कॉलेज और मुल्हिक़ा इदारे वक़्फ़ बोर्ड की तहवील में

रियास्ती वक़्फ़ बोर्ड ने शहर के दो बड़े औक़ाफ़ी इदारों के ख़िलाफ़ कार्रवाई करते हुए एक इदारा को अपनी रास्त तहवील में ले लिया है जबकि दूसरे इदारा में मुबैयना बे क़ाईदगियों के ख़िलाफ़ सी सी एस में एफ़ आई आर दर्ज कराई गई। स्पेशल ऑफीसर वक़्फ़ ब

रियास्ती वक़्फ़ बोर्ड ने शहर के दो बड़े औक़ाफ़ी इदारों के ख़िलाफ़ कार्रवाई करते हुए एक इदारा को अपनी रास्त तहवील में ले लिया है जबकि दूसरे इदारा में मुबैयना बे क़ाईदगियों के ख़िलाफ़ सी सी एस में एफ़ आई आर दर्ज कराई गई। स्पेशल ऑफीसर वक़्फ़ बोर्ड शेख़ मुहम्मद इक़बाल (आई पी एस) ने आज प्रैस कान्फ़्रैंस में एलान किया कि अनवारुल उलूम कॉलेज और इस से मुल्हिक़ा दीगर तालीमी इदारों, मलगियात और मकानात को बोर्ड ने अपनी रास्त तहवील में ले लिया है।

इस के इलावा मजलिस इंतेज़ामी अनवारुल उलूम कॉलेज की जानिब से वक़्फ़ क़वाइद की ख़िलाफ़वर्ज़ी और दीगर बे क़ाईदगियों की तहक़ीक़ात के सिलसिले में सी सी एस में शिकायत दर्ज कराई गई।

उन्हों ने बताया कि मुमताज़ यारुद्दौला वक़्फ़ मजलिस अमिना की जानिब से बे क़ाईदगियों के सिलसिले में भी सी सी एस में अलाहिदा एफ़ आई आर दर्ज कराई गई। उन्हों ने बताया कि अनवारुल उलूम कॉलेज और इस से मुल्हिक़ा जायदादें बाक़ायदा वक़्फ़ हैं और इस सिलसिले में वक़्फ़ बोर्ड में तमाम रिकार्ड मौजूद है।

वक़्फ़ नामा और मुंतख़ब के इलावा वक़्फ़ गज़ट में भी इन जायदादों के वक़्फ़ होने का सबूत मौजूद है लेकिन अनवारुल उलूम कॉलेजेस की मजलिस इंतेज़ामी वक़्फ़ होने से इनकार कर रही है।

शेख़ मुहम्मद इक़बाल ने बताया कि गज़्ट 31-A मौरर्ख़ा 30 अगस्त 1984 में उसे वक़्फ़ क़रार दिया गया। 9 अगस्त 2001 को बोर्ड की जानिब से नोटिस जारी की गई और सेक्रेट्री अनवारुल उलूम से ख़ाहिश की गई कि वो वक़्फ़ फ़ंड और अकाउंट की तफ़सीलात पेश करें।

एक सवाल के जवाब में शेख़ मुहम्मद इक़बाल ने कहा कि साबिक़ा वक़्फ़ बोर्ड की मुबैयना बे क़ाईदगियों के सिलसिले में हुकूमत ने सी बी सी आई डी तहक़ीक़ात का फ़ैसला किया है और इस सिलसिले में अहकामात जारी किए गए।

उन्हों ने बताया कि अंदरून दो माह तहक़ीक़ात की तकमील के लिए सी बी सी आई डी को हिदायत दी गई है। उन्हों ने उम्मीद ज़ाहिर की कि सी बी सी आई डी मुक़र्ररा वक़्त पर तहक़ीक़ात मुकम्मल कर लेगी।

TOPPOPULARRECENT