Thursday , October 19 2017
Home / World / अफ़्ग़ानिस्तान और इराक़ में अमरीकी सिपाहीयों और कुत्तों पर जंग के नफ़सियाती असरात

अफ़्ग़ानिस्तान और इराक़ में अमरीकी सिपाहीयों और कुत्तों पर जंग के नफ़सियाती असरात

सान अंटोनियो- 3 दिसमबर (न्यूयार्क टाइम्स रिपोर्ट) अफ़्ग़ानिस्तान और इराक़ में जंगीसरगर्मीयों में हिस्सा लेने वाले ना सिर्फ अमरीकी सिपाहीयों बल्कि कुत्तों में भी मुख़्तलिफ़ नफ़सियाती एमराज़ का इन्किशाफ़ हुआ है, जिस के नतीजा म

सान अंटोनियो- 3 दिसमबर (न्यूयार्क टाइम्स रिपोर्ट) अफ़्ग़ानिस्तान और इराक़ में जंगीसरगर्मीयों में हिस्सा लेने वाले ना सिर्फ अमरीकी सिपाहीयों बल्कि कुत्तों में भी मुख़्तलिफ़ नफ़सियाती एमराज़ का इन्किशाफ़ हुआ है, जिस के नतीजा में इन दोनों के आम रवैय्याऔर आदतों में तबदीली महसूस की गई है। अफ़्ग़ानिस्तान में अपने फ़ौज का ईलाज करने वाले एक अमरीकी डाक्टर ने ये हैरतअंगेज़ इन्किशाफ़ किया कि इन का एक मरीज़ जोजंगी मुहिम से हाल ही में वापिस पहुंचा और बिलावजह पलंग के नीचे छिप गया। डाक्टर के समझाने के बावजूद वो बाहर आने से मुसलसल इनकार कररहा था। इस की इस हरकत से नफ़सियाती दबाव का पता चलता है।

इस तरह अमरीकी जंगी कार्यवाईयों से ना सिर्फ इस के सिपाही बल्कि सिपाहीयों की मदद करने वाले कुत्तों की नफ़सियाती हालत भी बुरी तरह मुतास्सिर हुई है, जिस का इन्किशाफ़ लीक लैंड एयरफ़ोर्स बेस पर वाक़्य फ़ौजी कुत्तों के डाइनील ई हॉलैंड दवाखाने के डाक्टर और माहिर-ए-नफ़सीयत वाल्टर एफ़ बर्ग हार्ड जूनियर ने किया और कहा कि महाज़े जंग पर सरगर्म रहने वाले अमरीकी कुत्तों की नफ़सियात की अगर कोई हालत देखना चाहते हैं तो ये इस बात का ताज़ा तरीन सबूत हैकि 650 फ़ौजी कुत्तों के मिनजुमला 5 फ़ीसद कुत्तों में मुख़्तलिफ़ नफ़सियाती अमराज़ पैदा होगए हैं और बाअज़ कुत्ते पागलपन के दौरा पड़ने के सबब ख़ुद सिपाहीयों पर हमला आवर भी हुए हैं

। डाक्टर बर्ग हार्ड ने कहा कि जंगी सरगर्मीयों के सबब इंसानों की तरह कुत्तों पर भी नफ़सियाती असरात मुरत्तिब होते हैं, जिस के नतीजा में कुत्ते भी जो आम तौर पर कईनाज़ुक मौक़ों पर पुरसुकून और मुतमइन रहने के आदी होने के बावजूद बाअज़ मौक़ों परग़ैरमामूली हस्सास, बेचैन रहने लगते हैं और हत्ता कि जारहीयत पर उतर आते हैं। इस केइलावा दीगर और भी कई मसाइल हैं। अगर कुत्तों को धमाको अशीया का पता चलाने की तर्बीयत दी जाती है तो इस से ना सिर्फ कुत्तों के लिए जोखिम रहता है बल्कि ख़ुद इंसानीसेहत को भी ख़तरा लाहक़ रहता है। अमरीकी फ़ौज में अक्सर जर्मन शपरड, बलजीइन मलीनाइस, लाइबराडोर और रिट्रीवर नसल के कुत्ते इस्तिमाल किए जाते हैं।

TOPPOPULARRECENT