Friday , October 20 2017
Home / Khaas Khabar / अब कश्मीर की आज़ादी की बात

अब कश्मीर की आज़ादी की बात

पाकिस्तान की मुतना़जा दहशतगर्द तंज़ीम जमात उद दावा के चीफ और 26/11 मुंबई हमलों के अहम साजिशी हाफिज सईद से मुलाकात के बाद तनाज़े में घिरे रामदेव के करीबी और सीनियार सहाफी वेदप्रताप वैदिक अब कश्मीर पर अपने मुतना़जा बयान को लेकर घिर गए

पाकिस्तान की मुतना़जा दहशतगर्द तंज़ीम जमात उद दावा के चीफ और 26/11 मुंबई हमलों के अहम साजिशी हाफिज सईद से मुलाकात के बाद तनाज़े में घिरे रामदेव के करीबी और सीनियार सहाफी वेदप्रताप वैदिक अब कश्मीर पर अपने मुतना़जा बयान को लेकर घिर गए हैं। वैदिक ने पाकिस्तानी चैनल को दिए इंटरव्यू में कहा कि दोनों कश्मीर तैयार हों तो मिलकर आजादी की बात होनी चाहिए।

29 जून को वेदप्रताप वैदिक ने डॉन न्यूज को दिए इंटरव्यू में कहा था कि दोनों कश्मीर तैयार हों तो उन्हें मिलाकर आजादी की बात होनी चाहिए। हालांकि अब वह अपने इंटरव्यू से थोड़े पलटते नजर आ रहे हैं। वह कह रहे हैं कि उन्होंने आजादी की बात कही है अलगाव की नहीं। इस बीच राहुल गांधी ने भी वैदिक को आरएसएस का आदमी बताया और पूरे मामले की जांच की मांग की।

इस मामले को लेकर लोकसभा और राज्यसभा में जमकर हंगामा हुआ। अपोजिसन ने वैदिक की गिरफ्तारी की मांग की। वहीं रामदेव ने इस मामले से पल्ला झाड़ते हुए कहा कि वैदिक मामले की जानकारी मीडिया से मिली। वह एक आज़ाद सहाफी हैं और किसी से भी मिल सकते हैं।

वैदिक का पाकिस्तान में इंटरव्यू लेने वाले सहाफी इफ़्तेख़ार शरीज़ी ने कहा कि वैदिक पाकिस्तान में यह कहते रहे कि वे मोदी के करीबी हैं और सरकार में आला लोगों से वह मिलते रहते हैं जबकि सरकार की तरफ से बार-बार यह रद्दे अमह आ रहा है कि वैदिक सरकार के नुमाइन्दे नहीं है और उनके इस सफ़र से सरकार का कोई लेना-देना नहीं है। वज़ीरे माल अरुण जेटली ने कहा कि वैदिक का सरकार का कोई लेना-देना नहीं है।

दिफाई मामलों के जानकार सुशांत सरीन ने एनडीटीवी के प्राइम टाइम में बताया कि उन्हें पाकिस्तान से ऐसी जानकारी मिली है कि वैदिक ने पाकिस्तान में खुद को मोदी के करीबी और उनके नुमाइन्दे के तौर पर पेश किया, हालांकि वैदिक ने इसे पूरी तरह से खारिज किया।

इससे पहले पीर को हाफिज सईद के साथ वेद प्रताप वैदिक की मुलाकात का मुद्दा पार्लियामेंट के दोनों एवानों में उठा और कांग्रेस अरकान ने सहाफी की गिरफ्तारी और सरकार से इस पर जवाब दिए जाने की मांग थी।

TOPPOPULARRECENT