Monday , October 23 2017
Home / Hyderabad News / अब ट्राफिक क़वानीन तोड़ने से क़बल दोबार सोनचना होगा

अब ट्राफिक क़वानीन तोड़ने से क़बल दोबार सोनचना होगा

पार्लियामेंट‌ में नया बिल पेश किया जाएगा , 5 ता 12 हज़ार रुपये जुर्माना , डी सी पी ट्राफिक सुधीर बाबू

पार्लियामेंट‌ में नया बिल पेश किया जाएगा , 5 ता 12 हज़ार रुपये जुर्माना , डी सी पी ट्राफिक सुधीर बाबू

शहर में ट्राफिक क़वानीन की ख़िलाफ़वरज़ी के सबब आए दिन बेहद मुश्किलात पेश आरही हैं। गाड़ी रानों की जानिब से ट्राफिक क़वानीन-ओ-ज़वाबत की ख़िलाफ़वरज़ी पर रोक लगाने की ग़रज़ से मर्कज़ी विज़ारत रोड ट्रांसपोर्ट ने हाल में नए रोड ट्रांसपोर्ट एंड सेफ्टी बिल 2014 को मुतआरिफ़ किया है।

इस नए मुसव्वदा बिल की रो से ओवर स्पीड पर पाँच हज़ार ता बारह हज़ार पाँच सौ रुपये जुर्माना आइद किया जाये जब कि मौजूदा तौर पर जुर्माने की रक़म चार सविता एक हज़ार रुपये है। गाड़ी रानों को रेड सिगनल उबूर करने पर पाँच हज़ार ता पंद्रह हज़ार रुपये जुर्माना आइद किया जाएगा।

इस के साथ लाईसैंस की एक माह के लिये मंसूख़ी भी शामिल है। काबीना में मंज़ूरी के बाद बिल को सरमाई सेशन में पार्लियामेंट‌ में पेश किया जाएगा। हैदराबाद ट्राफिक पुलिस‌ अथॉरीटी ने बिल का खैर मक़दम करते हुए कहा कि उन्हें इस ज़िमन में कोई अहकामात वसूल नहीं हुए।

डी सी पी सुधीर बाबू ने बताया कि मुल्क में ट्राफिक की शदीद ख़िलाफ़वरज़ी के वजह ही जुर्माने की रक़म में इज़ाफे का फैसला लिया गया है । उन्होंने कहा कि जुर्माने की रक़म ज़्यादा होने पर ट्राफिक क़वानीन की ख़िलाफ़वरज़ी का ख़तरा कम रहता है। एक रीटाइरड इंजिनियर्स‌ पांडव रनगावटल ने बताया कि लोग सिग्नल्स को फलांगते हुए , ओवर स्पीड , ग़लत सिम्त में ड्राइविंग और दीगर ख़िलाफ़वरज़ी करते हुए मुकम्मल तौर पर ट्रैफिक क़वानीन को पसेपुश्त डाल रहे हैं।

भारी जुर्माने ही इस ख़िलाफ़वरज़ी का ईलाज है। डी सी पी सुधीर बाबू ने बताया कि कोई हिन्दुस्तानी शहरी बाहर जाता है तब ट्राफिक क़वानीन का लिहाज़ करता है और अपने मुल्क वापिस आने पर ख़िलाफ़वरज़ी करता है। शहरियों को अपनी ज़िम्मेदारी महसूस करना चाहिए।

उन्होंने बताया कि ट्राफिक क़वानीन की ख़िलाफ़वरज़ी के मरतकबेन के मकानात पर ई चालानात रवाना किए गए ताहम कई मकीनों ने अपने पत्ते तब्दील कर दिए जिस से चालानात उन तक नहीं पहुंच सके। इस पर ई मेल रवाना करने की तजवीज़ रखी ताहम ये मसला का मुकम्मल हल नहीं था।

इस पर अवाम ये कह सकते हैं कि इन का आई डी हैक किया गया है। उन्होंने बताया कि ट्राफिक पुलिस‌ इस मसले को हल करने के लिये आर टी अहकाम के साथ मिल कर कोई हल निकालने पर ग़ौर कररही है। बहर-ए-कैफ़ अब नए क़वानीन के सबब ख़िलाफ़वरज़ी करने वालों को ट्राफिक ख़िलाफ़वरज़ी करने से क़बल दोबार सोनचना पड़ेगा|

TOPPOPULARRECENT