Tuesday , October 24 2017
Home / Khaas Khabar / अब बीजेपी के खिलाफ लालू-नीतीश साथ साथ !

अब बीजेपी के खिलाफ लालू-नीतीश साथ साथ !

लोकसभा इंतेखाबात में बीजेपी के हाथों करारी शिकस्त झेलने वाले लालू प्रसाद यादव ने बिहार विधानसभा इंतेखाबात नीतीश कुमार के साथ मिलकर ल़डने के इशारे दिए हैं। लालू ने कहा कि नरेंद्र मोदी की कमंडल की सियासत को मंडल की सियासत से ही हर

लोकसभा इंतेखाबात में बीजेपी के हाथों करारी शिकस्त झेलने वाले लालू प्रसाद यादव ने बिहार विधानसभा इंतेखाबात नीतीश कुमार के साथ मिलकर ल़डने के इशारे दिए हैं। लालू ने कहा कि नरेंद्र मोदी की कमंडल की सियासत को मंडल की सियासत से ही हराया जा सकता है। उन्होंने यह भी कहा कि मंडल का फार्मूला फिर से जिंदा होगा।

आरजेडी चीफ लालू प्रसाद यादव ने पार्टी के ट्रेनिंग कैम्प में इसका साफ साफ इशारा दिया। उन्होंने कारकुनो से कहा कि मंडल कमिशन की ताकत ही तुम्हारी असली ताकत है। वही तुम्हारा बम है। इस ट्रेनिंग कैम्प में लालू ने मंडल के जरिए पुराने साथियों को एक मंच पर लाने के इशारे दिए।

लालू ने कहा कि अगर रियासत में हाल में हुए पार्लीमानी इंतेखाबात में आरजेडी और जेडी(यू) दोनों को मिले वोटों के हिस्सों को जो़ड दिया जाए तो यह 45 फीसदी तक पहुंच जाएगा जो बीजेपी को हराने के लिए काफी होगा। लालू ने बिहार विधानसभा इंतेखाबात से पहले नीतीश के साथ गठजोड का खुला इशारा देते हुए कहा कि हम साथ बैठेंगे और इस तरह के इत्तेहाद के इम्कान के बारे में बात करेंगे।

मंडल कमीशन का राग छेडते हुए राजद सरबराह ने कहा, मौजूदा सियासी माहौल में “मंडल” सामाजी इंसाफ के असूल से जुडी पार्टियों को एकजुट होना होगा। इसमें बदलाव की जरूरत है और हमें इसके बारे में सोचना है। हमें सबको साथ लेकर चलना होगा।

गौरतलब है कि बिहार में 90 के दहा में सरकारी नौकरियों में ओबीसी के लिए रिजर्वेशन की सिफारिश करने वाले मंडल कमीशन की रिपोर्ट को लागू करने के बाद सियासत तेजी से बदली थी। मंडल के हामियो ने तब से कांग्रेस को रियासत में इक्तेदार से बेदखल कर रखा है।

लालू प्रसाद की अगुवाई में 1989 में जनता दल बिहार में इक्तेदार में आया और जनता दल से अलग होकर बनी लालू प्रसाद की अगुवाई वाली आरजेडी का रियासत के इक्तेदार पर 2005 तक कब्जा रहा। उसके बाद नीतीश कुमार इक्तेदार पर काबिज हुए। शुरूआत में नीतीश लालू के साथ ही थे लेकिन 1994 में उनसे अलग होकर अपनी अलग पार्टी की तश्कील किये थें ।

TOPPOPULARRECENT