Tuesday , October 17 2017
Home / World / अमरीका का ज़वाल, 8 ममालिक के लिए ज़िंदगी और मौत का मसला :अमरीकी जरीदा

अमरीका का ज़वाल, 8 ममालिक के लिए ज़िंदगी और मौत का मसला :अमरीकी जरीदा

वाशिंगटन। 8 जनवरी (एजैंसीज़) अमरीकी जरीदे ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि आलमी सतह पर अमरीका का ज़वाल पाकिस्तान समेत 8 मुल्कों केलिए ज़िंदगी और मौत का मसला बन जाएगा। पाकिस्तान में सयासी अदम इस्तिहकाम उस की सलामती के लिए सब से बड़ा ख़

वाशिंगटन। 8 जनवरी (एजैंसीज़) अमरीकी जरीदे ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि आलमी सतह पर अमरीका का ज़वाल पाकिस्तान समेत 8 मुल्कों केलिए ज़िंदगी और मौत का मसला बन जाएगा। पाकिस्तान में सयासी अदम इस्तिहकाम उस की सलामती के लिए सब से बड़ा ख़तरा है। पाकिस्तान अपने क़ौमी तशख़्ख़ुस के मुताल्लिक़ हस्सास है और कश्मीर मसला की वजह से भी हिंदूस्तान के ख़िलाफ़ नफ़रत पाई जाती है। मज़मून में कहा गया है कि आलमी सतह पर अमरीका का ज़वाल 8 ममालिक के लिए ज़िंदगी और मौत का मसला बन जाएगा और वो हमसाया और इलाक़ाई ताक़तों के रहम-ओ-करम पर होंगे। हिंदूस्तान और चीन ताक़त पकड़ रहे हैं, रूस भी अपनी जड़ें मज़बूत कररहा है और मशरिक़ वुसता मज़ीद ग़ैर मुस्तहकम होरहा है।

पाकिस्तान अगरचे 21 वीं सदी के जौहरी हथियारों से लैस और 20 सदी की एक पेशावर फ़ौज का हामिल है ताहम अभी भी पाकिस्तान की अक्सरीयत परीमॉर्डन, देही, ज़्यादा तर इलाक़ाई और तशख़्ख़ुस पर मुश्तमिल है। हिंदूस्तान के साथ तनाज़आत की वजह से पाकिस्तान अपने क़ौमी तशख़्ख़ुस के मुताल्लिक़ हस्सास है और मसला-ए-कश्मीर पर हिंदूस्तान के ख़िलाफ़ नफ़रत पाई जाती है। पाकिस्तान में सयासी अदम इस्तिहकाम इस के लिए सब से बड़ा ख़तरा है। अमरीकी ज़वाल से पाकिस्तान की इमदाद में कमी आजाएगी जिस से तरक़्क़ीयाती काम रुक जाऐंगे।

अमरीकी ज़वाल से पाकिस्तान में फ़ौजी हुकूमत एक बुनियाद परस्त इस्लामी रियासत बन सकती है या फ़ौजी और इस्लामी हुक्मरानी पर मुश्तमिल रियासत में तबदील होसकती है या ऐसी रियासत जिस की कोई मर्कज़ी हुकूमत ना हो।इस सूरत-ए-हाल से जो संगीन ख़तरात होंगे ,वो पाकिस्तान का एक ऐटमी जागीरदारी में ढलना , ईरान की तरह अस्करीयत पसंद मुसल्लह जौहरी हथियारों से लैस मग़रिब मुख़ालिफ़ हुकूमत का क़ियाम या वसती एशिया में इलाक़ाई अदम इस्तिहकाम होता है। अमरीका के कमज़ोर होने से पाकिस्तान के इलावा अफ़्ग़ानिस्तान, तायवान, जॉर्जिया , जुनूबी कोरिया , इसराईल, बेलारूस और यूक्रेन की सलामती दाव पर लग सकती है।

TOPPOPULARRECENT