Tuesday , October 17 2017
Home / India / अमीत शाह के ख़िलाफ़ कार्रवाई पर हुक्म अलतवा

अमीत शाह के ख़िलाफ़ कार्रवाई पर हुक्म अलतवा

नई दिल्ली, १९ अक्टूबर (पी टी आई) सुप्रीम कोर्ट ने आज साबिक़ वज़ीर-ए-दाख़िला गुजरात अमीत शाह के ख़िलाफ़ तुलसी प्रजापति जाली एनकाउंटर मुक़द्दमा में मज़ीद कार्रवाई पर हुक्म अलतवा जारी कर दिया।

नई दिल्ली, १९ अक्टूबर (पी टी आई) सुप्रीम कोर्ट ने आज साबिक़ वज़ीर-ए-दाख़िला गुजरात अमीत शाह के ख़िलाफ़ तुलसी प्रजापति जाली एनकाउंटर मुक़द्दमा में मज़ीद कार्रवाई पर हुक्म अलतवा जारी कर दिया।

जस्टिस पी सताशीवम और जस्टिस रंजन गोगोई ने सी बी आई को नोटिसें भी जारी कर दी। ये नोटिसें अमीत शाह की दरख़ास्त पर जारी की गई हैं जिन में इस ने इद्दिआ ( दावा) किया है कि प्रजापति क़त्ल मुक़द्दमा सुहराब उद्दीन शेख़ के जाली एनकाउंटर मुक़द्दमा का एक हिस्सा है।

चुनांचे दोनों मुक़द्दमात की समाअत ( सुनवायी) एक समाअत ( समय/ साथ) होनी चाहीए। अमीत शाह की पैरवी करते हुए सीनीयर एडवोकेट मुकुल रोहतगी ने दलील पेश की कि प्रजापति मुक़द्दमा में अलैहदा एफ़ आई आर की कोई ज़रूरत नहीं है क्योंकि ये मुक़द्दमा सुहराब उद्दीन शेख़ फ़र्ज़ी एनकाउंटर मुक़द्दमा की सी बी आई की जानिब से तहक़ीक़ात के दौरान रोशनी में आया था।

दलायल ( दलीलों) की समाअत ( सुनवायी) के बाद अदालत ने सी बी आई को हिदायत दी कि वो 23 नवंबर तक जवाबी हलफ़नामा दाख़िल करे और प्रजापति जाली एनकाउंटर केस में अमीत शाह के ख़िलाफ़ मुक़द्दमा की तमाम कार्रवाई पर हुक्म अलतवा जारी कर दिया।

सी बी आई ने 29 सितंबर 2006 को आइद करदा अपने फ़र्द-ए-जुर्म (अपराध सूची) में कहा था कि प्रजापति जाली एनकाउंटर मुक़द्दमा में अमीत शाह भी मुल्ज़िम हैं जो चीफ़ मिनिस्टर गुजरात नरेंद्र मोदी के क़रीबी बाएतिमाद साथी थे। फ़र्द-ए-जुर्म में अमीत शाह के इलावा 19 दीगर ( अन्य) मुल्ज़िमीन (आरोपीयों) के नाम भी शामिल हैं।

TOPPOPULARRECENT