Sunday , March 26 2017
Home / Islami Duniya / अमेरिका में इस्लाम लाने वाले 6 अफ्रीकी मुसलमान

अमेरिका में इस्लाम लाने वाले 6 अफ्रीकी मुसलमान

पश्चिम अफ्रीकी मूल एक मुस्लिम के रूप में संयुक्त राज्य अमेरिका में रहते हुए, मेरे मुस्लिम होने पर यूरोपियन, अमेरिकन, और यहां तक अफ्रीकियों के द्वारा भी हमेशा सवाल खड़े किये जाते हैं। वे मुझसे अक्सर इस तरह के सवाल पूछते हैं:

आप मुसलमान हैं? “और” क्या तुम मुसलमान पैदा हुए थे? ”

मुझसे ऐसे सवाल ज़्यादातर अमेरिकी लोग ही पूछते हैं क्योंकि इस्लाम को उनके लिए एक विदेशी धर्म के रूप में प्रस्तुत किया गया है.

“मैंने उस देश के किसी मुस्लिम हिजाब पहने कभी नहीं देखा है।”

माने या न माने लेकिन ऐसी बातें कई अफ़्रीकी भी करते हैं जैसे उन्होंने सारे देश देखे हों.

“क्या तुम्हारे देश में ज़्यादातर लोग मुस्लिम हैं?”

मुझे यूरोपीय मुस्लिम से यह सवाल ऐसा लगता है जैसे उन्हें मंगल गृह पर पानी मिल गया हो. उनके दिमाग में, काले मुसलमानों एक विषमता हैं। क्योंकि अब मैं इनके बीच काफी रह चुकी हूँ इसलिए मुझे ऐसे सवालों के पीछे का तर्क पता चला है. उन्हें लगता है कि अफ्रीका में सभी असभ्य और केवल गैर-मुसलमान ही वहाँ रहते हैं।

अजीब बात यह है कि उनमें से कई अफ्रीकी मुस्लिम राजा के बारे में सुना है। फिर न जाने क्यों वे यह निष्कर्ष नहीं निकाल पाते कि अफ्रीका और अमेरिका में इस्लाम एक पुराना धर्म है. इसके अलावा, अमेरिका की जनगणना एक रिकॉर्ड है जिसके मुताबिक लगभग 300 मुस्लिम उपनाम वाले गुलाम आजादी के लिए गृह युद्ध के दौरान लडे थे।

इन सभी परेशान करने वाले सवालों के बीच, मैं खुद को शांत रखने का प्रयास करती हूँ. मेरे मन में कई तरह के जवाब आते हैं, लेकिन में उन्हें कहती नहीं और मुस्कुरा कर आगे बढ़ जाती हूँ. हालाँकि, मैं उन्हें बताना चाहती हूँ कि इस्लाम 10वीं सदी के कुछ ही समय बाद पश्चिम अफ्रीका में आ गया था। मेरे पूर्वजों व्यापारी थे और उनके ज़रिये ही इस्लाम मन्दिंगा में हमारे पास आया था।

लॉस्ट इस्लामिक हिस्ट्री के अनुसार, बिलाली मुहम्मद, एक अफ्रीकी मुस्लिम के उदाहरण है जो अमेरिका में इस्लाम लाये। इनके अलावा कई अन्य भी थे जैसे अयूब जोब दजल्लो, योरो मामूद, इब्राहिम अब्दुलरहमान इब्न सोरी, उम्मर इब्ने सईद, (उमर इब्ने सईद) और साली बिलाली।

 

बिलाली मुहम्मद

इनका जन्म 1770 के आसपास अफ्रीका के क्षेत्र जिसे आज गिनी और सियरा लियोन के रूप में जाना जाता है में हुआ था, बिलाली मुहम्मद फुलानी जनजाति के एक बड़े परिवार से थे। वे अरबी भाषा जानते थे और हदीस, तफसीर, और शरिया मामलों के जानकार थे। क्योंकि वे शिक्षित थे, इसलिए गुलाम समुदाय में उनको बड़ा रुतबा हासिल था. बिलाली मुहम्मद ने इस्लामी कानून पर एक 13 पेज पांडुलिपि भी लिखा जो मलीकी मज़हब पर था उसे बिलाली दस्तावेज कहा जाता है, उन्होंने वह अपनी मृत्यु से पहले अपने दोस्त को उपहार में दे दिया था। काहिरा में अल-अजहर विश्वविद्यालय में इस पांडुलिपि पर अध्ययन होने से पहले इसे एक डायरी समझा गया था। उनकी पांडुलिपि को बेन अली डायरी या बेन अली जर्नल के रूप में भी जाना जाता है।

 

अय्यूब सुलेमान दिअल्लो

अयूब जोब दजल्लो सेनेगल में एक सम्मानित फूलबे मुस्लिम परिवार में जन्मे थे। उन्हें जॉब बेन सोलोमन के नाम से भी जाना जाता है. उन्होंने कुछ संस्मरण भी लिखे थे और दो साल के लिए मेरीलैंड में एक गुलाम भी थे। एक भ्रम के परिणाम के रूप में उहें गुलामी में बेच दिया गया था, लेकिन अंततः वह सेनेगल में अपने मुस्लिम परिवार में वापस लौट आए।

 

योरो मामूद

गिनी में जन्मे, योरो मामूद 1736 में पैदा हुए और 1823 में एक स्वतंत्र व्यक्ति के रूप में उनका निधन हो गया था। वह अपनी बहन के साथ मैरीलैंड में 14 वर्ष की उम्र में आये थे। अरबी के जानकार थे, उन्होंने खुले तौर पर अपनी मृत्यु तक इस्लाम का अनुसरण किया था।

 

इब्राहिम अब्दुलरहमान इब्न

इब्राहिम अब्दुलरहमान इब्न सोरी गिनी में पैदा हुए थे। उन्हें गुलामों के बीच एक राजकुमार के रूप में जाना जाता था। तिम्बो के एक गांव के राजा सोरी के पुत्र, अब्दुलरहमान एक सैन्य नेता थे। एक लड़ाई के परिणाम स्वरुप उन्हें गुलाम के रूप में मिसिसिपी में थॉमस फोस्टर नाम के एक गुलाम मालिक को बेच दिया गया था. इब्न सोरी ने शादी की और उनके बच्चे भी थे। अब्दुलरहमान ने अपनी रिहाई से पहले 40 साल के लिए काम किया। अपनी वापस यात्रा के दौरान उनकी मृत्यु हो गई। उन्होंने पश्चिमी अफ्रीका में अपने परिवार को अरबी भाषा में एक पात्र भी लिखा था जिसे मोरक्को के सुल्तान अब्दुल रहमान ने पढ़ा और वह पत्र उनके दिल को छू गया. इसके बाद सुल्तान ने अमेरिका के राष्ट्रपति जॉन क्विंसी एडम्स को उनकी रिहाई के लिए एक पत्र भेजा.

 

उम्मर इब्ने सईद

उम्मर इब्ने सईद 1770 में सेनेगल के फूटा टोरो में पैदा हुए थे, मुस्लिम ऑफ़ यूएसए के अनुसार, 1807 में पकडे जाने के बाद उन्हें उमर मोर्यू और प्रिंस ओमेरह के रूप में जाना गया। उन्हें एक इस्लामिक विद्वान् के रूप में जाना जाता था, उन्हें अंकगणित से लेकर धर्मशास्त्र तक कई विषयों की जानकारी थी. उन्होंने अरबी में कई ग्रन्थ लिखे थे.

 

साली बिलाली

साली बिलाली माली में पैदा हुए थे और 1782 में उन्हें गुलाम बना लिया गया था. अबोलीशन इंस्टिट्यूट के अनुसार उनकी मौत के वक़्त उनके अंतिम शब्द कलमा शहादात के थे। रॉबर्ट अब्बोट, शिकागो में डिफेंडर के संस्थापक, उनके वंशज हैं।

Top Stories

TOPPOPULARRECENT