Monday , June 26 2017
Home / India / अम्बेडकर विश्वविद्यालय के छात्र संघ ने प्रतिबंधित फिल्मो को स्क्रीन करने का निर्णय लिया

अम्बेडकर विश्वविद्यालय के छात्र संघ ने प्रतिबंधित फिल्मो को स्क्रीन करने का निर्णय लिया

स्रोत : डेली हंट

केरल के ‘स्टूडेंट्स फेडरेशन ऑफ़ इंडिया’ (एसएफआई) के नक़्शे कदम पर चलते हुए, दिल्ली में ‘अम्बेडकर विश्वविद्यालय’ के छात्र संघ ने ये फैसला किया है की वो उन तीन फिल्मो की स्क्रीनिंग करेंगे जिन्हे केरल के ‘शार्ट फिल्म फेस्टिवल’ में प्रतिबंधित किया गया था।

सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने ‘द अनबीअरेबल बीइंग ऑफ़ लाइटनेस’ (मृत पीएचडी छात्र रोहित वमूला पर बनी एक फिल्म), ‘इन द शेड ऑफ दी फॉलन चिनार’ (जो कश्मीरी छात्र कलाकारों के जीवन के बारे में है) और ‘मार्च-मार्च-मार्च’ (जो जेएनयू विरोध पर आधारित है), की स्क्रीनिंग पर रोक लगा दी क्यूंकि मंत्रालय के अनुसार इन फिल्मो की स्क्रीनिंग से “देश की अखंडता” पर प्रभाव पड़ेगा।

एक प्रेस विज्ञप्ति में, अम्बेडकर छात्र संघ ने कहा:

प्रत्येक फिल्म, मोदी शासन के तहत भारत के इतिहास में हुए सबसे शर्मनाक अध्यायों को उजागर करती है। एएसए, जो अपने शानदार 25-वर्ष के इतिहास में कई बार इस तरह के अत्याचार से लड़ी है, उसने एक बार फिर इस राक्षस से लड़ने का फैसला किया है। यह निर्णय लिया गया है कि एएसए उन सभी परिसरों में तीनों फिल्मों को स्क्रीन करेगी जहां इसकी इकाइयां हैं। हम सरकार को चुनौती दे रहे हैं की वो हमे दबाने के लिए जो कर सकती है वो कर ले।

सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के इन तीनो फिल्मो पर प्रतिबन्ध लगाने के कुछ दिनों बाद, इसऍफ़आई ने यह निर्णय लिया था की वो तीनो फिल्मो को राज्य भर में स्थित उनके 150 कम्पसो में दिखाएगी।

एक आधिकारिक बयान में, एसएफआई ने कहा:

यह त्योहार पिछले 10 वर्षों से चल रहा है। यह ऐसे कलाकारों और सांस्कृतिक कार्यकर्ताओं की एक सभा है जो अलग-अलग विचार रखते हैं। यह त्यौहार भारत की विविधता का एक चिन्ह भी है, और आरएसएस इस विविधता को भंग कर रहा है।

एसएफआई ने घोषित किया कि केरल का परिसर, “संघ परिवार के एजेंडे के आगे सिर झुकने” के लिए तैयार नहीं हैं।

Top Stories

TOPPOPULARRECENT