Sunday , August 20 2017
Home / India / अलगाववादी नेताओं को सिर्फ पाकिस्तान से ही नहीं, बल्कि दुबई और लंदन से भी फंड मिलता है : एनआईए

अलगाववादी नेताओं को सिर्फ पाकिस्तान से ही नहीं, बल्कि दुबई और लंदन से भी फंड मिलता है : एनआईए

नई दिल्ली : टेरर फंडिंग के मामले की जांच कश्मीर के कई अन्य अलगाववादी नेताओं तक भी पहुंच सकती है। सूत्रों के अनुसार एनआईए को पिछले महीने अरेस्ट किए गए अलगाववादी नेता शाहिद उल इस्लाम के पास से कश्मीर के 150 आतंकियों की लिस्ट मिली है। शाहिद, मीरवाइज उमर फारूक का करीबी है। शाहिद ने पूछताछ में बताया है कि अलगाववादी नेताओं को सिर्फ पाकिस्तान से ही नहीं, बल्कि दुबई और लंदन से भी फंड मिलता है। एनआईए के एक अधिकारी के अनुसार, ‘अलगाववादियों और आतंकियों में इतनी दूरी नहीं है जितना माना जाता है।’

शाहिद 1990 में पीओके में आतंकी कैंपों में ट्रेनिंग भी ले चुका है। हालांकि वहां से लौटने पर उसने पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया था। जेल से छूटने के बाद वह हुर्रियत से जुड़ गया। सूत्रों के अनुसार शाहिद के अभी भी आतंकियों से कनेक्शन हैं। उसके पास से दो तस्वीरें भी मिली हैं। एक में वह हिजबुल मुजाहिदीन चीफ सलाउद्दीन के साथ और दूसरे में एक-47 लिए कुछ लोगों के साथ दिख रहा है। पुलिस सूत्रों का मानना है कि दूसरी तस्वीर के लोग आतंकी हो सकते हैं।

वहीं, दिल्ली की एक अदालत ने टेरर फंडिंग के एक मामले में शुक्रवार को हुर्रियत नेता सैयद अली शाह गिलानी के दामाद सहित चार अन्य लोगों की एनआईए हिरासत की अवधि दस दिन के लिए और बढ़ा दी। इन्हें 24 जुलाई को अरेस्ट किया गया था।

TOPPOPULARRECENT