Saturday , October 21 2017
Home / District News / अलहदा तलंगाना केलिए दिल्ली में मरण बरत रखने का इज़

अलहदा तलंगाना केलिए दिल्ली में मरण बरत रखने का इज़

मीदक।21 नवंबर, ( सियासत डिस्ट्रिक्ट न्यूज़ ) साइबर आबाद पुलिस में डी एस पी सी आई डी के ओहदा को ख़ैराबाद करते हुए तलंगाना तहरीक में शामिल होने वाली ख़ातून ओहदेदार श्रीमती डी नलिनी ने कहा कि नौजवान एक जुट होकर अलहदा रियासत तलंगाना के मसला

मीदक।21 नवंबर, ( सियासत डिस्ट्रिक्ट न्यूज़ ) साइबर आबाद पुलिस में डी एस पी सी आई डी के ओहदा को ख़ैराबाद करते हुए तलंगाना तहरीक में शामिल होने वाली ख़ातून ओहदेदार श्रीमती डी नलिनी ने कहा कि नौजवान एक जुट होकर अलहदा रियासत तलंगाना के मसला को तक़वियत पहुंचाएं। मुनज़्ज़म अंदाज़ में तहरीक चलाते हुए के सी आर का साथ दें ख़ुदकुशियों की तरफ़ गामज़न ना हूँ। वाज़िह रहे कि डी एस पी नलिनी का तक़र्रुर 2009 में मीदक में हुआ था। वो इसी साल के सी आर के मरण बरत से मुतास्सिर होकर डी एस पी के ओहदा से मुस्ताफ़ी हुई श्रीमती नलिनी तलंगाना भवन मीदक में एक जलसा से ख़िताब कररही थीं। इन ख़्यालात का इज़हार करते हुए 9डसमबर 2011-ए-को नई दिल्ली में अलहदा तलंगाना के मुतालिबा पर मरण बरत का आग़ाज़ करने का ऐलान किया। उन्हों ने कहा कि मर्कज़ी हुकूमत मुख़्तलिफ़ कमीशनों का क़ियाम अमल में लाते हुए 4करोड़ अवाम के जज़बात से खिलवाड़ करती आरही ही। उन्हों ने आइन्दा पारलीमानी इजलास में अलहदा रियासत तलंगाना के क़ियाम से मुताल्लिक़ बिल पेश करने का मुतालिबा किया। श्रीमती नलिनी मीदक में बहैसीयत डी एस पी मुस्ताफ़ी तो हुई थीं ताहम उन का अस्तीफ़ा क़बूल ना हुआ था और वो दुबारा साइबराबाद में रुजू हुई थीं। लेकिन अलहदा रियासत तलंगाना के मुतालिबा पर हालिया तहरीक के दौरान शहीद होने वाले नौजवानों के ग़म को लेकर अलहदा रियासत तलंगाना तहरीक को तक़वियत देते हुए शहीद होने वाले नौजवानों के अरकान ख़ानदान से इज़हार तास्सुफ़ कररही हैं। श्रीमती नलिनी की मीदक आमद पर उन की यात्रा को टी आर इसके कारकुन जीवन राॶ, सुर्यकांत की क़ियादत में राम दास ऐक्स वे पर ख़ौरमक़दम किया और वहां से पैदल टी एन जी औज़ भवन लाया गया। जहां टी एन जी औज़ ओहदेदार मसरज़ भोपाल रेड्डी, इक़बाल पाशाह ने ख़ौरमक़दम किया। जलसा-ए-गाह में मुख़्तलिफ़ मदारिस के तलबा-ए-तालिबात ने भी नलिनी का इस्तिक़बाल किया।नलिनी ने अपने सिलसिला तक़रीर में कहा कि 50साल से इलाक़ा तलंगाना के साथ नाइंसाफ़ी जारी ही.

TOPPOPULARRECENT