Wednesday , September 20 2017
Home / India / ‘अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के छात्र संघ’ ने की भोपाल फ़र्ज़ी एनकाउंटर की न्यायिक जांच की मांग।

‘अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के छात्र संघ’ ने की भोपाल फ़र्ज़ी एनकाउंटर की न्यायिक जांच की मांग।

अलीगढ़। छात्र संघ के अध्यक्ष फैजुल हुसैन ने लगाया भाजपा सरकार पर आरोप लगते हुए कि कहा मोदी राज में मुसलमानों पर अत्याचार हो रहा है अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी छात्र संघ ने आज “भोपाल फ़र्ज़ी एनकाउंटर” के विरोध में प्रदर्शन किया और आठ सिमी सदस्यों के एनकाउंटर की पूरी घटना को हत्या बताते हुए न्यायिक जांच की मांग है। यूनिवर्सिटी के एक सूत्र बताया कि यूनिवर्सिटी छात्र संघ द्वारा भारत के राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को एक ज्ञापन भेजा गया है। ज्ञापन में छात्र संघ ने भोपाल एनकाउंटर के पुरे मामले की सुप्रीम कोर्ट की देख रेख में न्यायिक की मांग की है।

मीडिया में सोमवार को एनकाउंटर के पूरी घटनाक्रम की खबर आने के बाद से ही छात्रों में गुस्सा और असंतोष का भाव देखा जा रहा था। जिसे यूनिवर्सिटी प्रशासन ने किसी तरह मंगलवार को यूनिवर्सिटी में होने वाले वार्षिक दीक्षान्त समारोह के मद्देनज़र काबू किया हुआ था। लेकिन बुधवार को छात्र अपने का गुस्से का इज़हार करने के लिए सामने आये और सर सैय्यद गेट पर रैली निकाल कर भोपाल फर्जी एनकाउंटर के खिलाफ प्रदर्शन किया।

यूनिवर्सिटी छात्र संघ के अध्यक्ष फैजुल हुसैन ने रैली को संबोधित करते हुए कहा कि भाजपा सरकार के सत्ता में आने के बाद से ही मुसलमानों पर अत्याचार हो रहा है। मोदी राज में मुसलमान असुरक्षित महसूस कर रहे हैं और डरे हुए हैं। उन्होने यह भी कहा कि हम सभी आतंकवाद के खिलाफ हैं लेकिन आतंकवाद की लड़ाई में सभी वर्गों और समुदायों के खिलाफ एक जैसा बर्ताव होने चाहिए केवल किसी खास समुदाय के खिलाफ नहीं कड़ा बर्ताव उचित नहीं है।

यूनिवर्सिटी छात्र संघ के अध्यक्ष फैजुल हुसैन ने वर्तमान की भाजपा सरकार पर यह आरोप लगाया कि आतंकवाद के नाम पर ये सरकार मासूम लोगों को फसाया जा रहा है और उनकी हत्या फर्जी एनकाउंटर द्वारा किया जा रहा है। हसन ने कहा कि अगर हाल का चलन ऐसे ही रहा तो समाज को धार्मिक कट्टरता और नफरत के आधार पर बाटने के मोदी सरकार जिम्मेदार होगी। उन्होंने कहा कि ए एम यू के स्टूडेंट्स मानते हैं कि आतंकवाद से लड़ने का सबसे अच्छा तरीका है “गलत के खिलाफ खड़ा होना” चाहे फिर ये कोई भी कहीं भी गलत हो। अंत में उन्होंने पुलिस कांस्टेबल की मौत पर शोक जताया और उनके परिवार के साथ अपनी सहानुभूति जताया।

TOPPOPULARRECENT