Thursday , October 19 2017
Home / Islami Duniya / अलक़ायदा लीडर अबु यहया ड्रोन हमले में हलाक!

अलक़ायदा लीडर अबु यहया ड्रोन हमले में हलाक!

तंज़ीम में दूसरा मुक़ाम रखते थे, दुसरे 15 जंगजु भी हलाक होनेवालों में शामिल, पाकिस्तान का एहतिजाज

तंज़ीम में दूसरा मुक़ाम रखते थे, दुसरे 15 जंगजु भी हलाक होनेवालों में शामिल, पाकिस्तान का एहतिजाज
वाशिंगटन । पाकिस्तान में लाक़ानूनीयत के घड‌ शुमाल मग़रिबी इलाके में पिछ्ले रोज़ किए गए अमेरीकी ड्रोन हमले में कम से कम 15 जंगजु हलाक होगए हैं जिन में असल निशाना अलक़ायदा के दूसरे बड़े लीडर अबू यहया अललीबी शामिल है।

अमेरीकी ओहदेदारों ने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि लीबिया का ये जंगजु ज़िंदा नहीं बचे हैं। न्यूयॉर्क टाईम्स ने ओहदेदारों के हवाले से कहाकि लोग इंतिहाई करीब से ये देख रहे हैं कि आया वो ज़िंदा है या हलाक होचुका है। टाईम्स ने कहा कि पाकिस्तान के सिनीयर सेक्युरीटी सुत्रो ने कहाकि एसा महसूस होता है कि वो हलाक होगए हैं।

इस अख़बार ने कहा कि मीराली में जहां इस अमेरीकी ड्रोन हमले में 15 लोग‌ हलाक हुए हैं कबायली सुत्रो ने अंदेशा ज़ाहिर किया कि लीबियाई शहरी अबु यहया हलाक या कम से कम शदीद ज़ख़मी होगए हैं।

अमेरीकी ओहदेदारों ने अबु यहया को जिन के सर पर अमेरीका ने एक अरब डालर का इनाम रखा था शुमाली वज़ीरीस्तान‌ में किए गए ड्रोन हमले का असल निशाना थे । इस साल के दौरान ये तीसरा लेकिन पहला सब से तबाह करने वाला हमला था । उन्हों ने कहा कि अगर इस के हलाक होने कि खबर सच्ची है तो इस से अलक़ायदा को ज़बरदस्त धक्का लगेगा क्योंकि एक साल से भी कम मुद्दत में इस का दूसरा बड़ा लीडर हलाक हुआ है ।

उसामा बिन लादन की मौत के बाद मिस्री आलिम ए दीन एमन अलज़वाहरी ने अलक़ायदा की कमान सँभाला था जिस में अबू यहया को दूसरे बड़े लीडर का मुक़ाम हासिल था । समझा जाता है कि अबू यहया पाकिस्तान के कबायली इलाक़ों में इस आतंकवाद‌ ग्रुप की रोज़ की सरगर्मियों की निगरानी किया करता था और इस से जुडी हुइ संस्थाओं से संबध‌ रखना भी इस की ज़िम्मे दारीयों में शामिल था ।

ईस्लामाबाद से पी टी आई कि खबर के मुताबिक‌ पाकिस्तान ने आज अमेरीका के कारगुज़ार सफ़ीर को बुलाया और सी आई ए के ड्रोन हमले अफ़्ग़ानिस्तान के करीब‌ क़बाइली इलाकों में जारी रहने पर एहतिजाज करते हुए कहा कि ये ड्रोन हमले गैरकानूनी और मुल़्क की ख़ुदमुख़तारी की खुली ख़िलाफ़वरज़ी हैं।

अमेरीकी निगरान कार्य‌ रिचर्ड हो ग्लैंड को पाकिस्तान की वज़ारत-ए-ख़ारजा(वीदेश मंत्रालय)बुलाया गया और सरकारी तौर पर हुकूमत की शदीद तशवीश से वाक़िफ़ करवाया गया जो पाकिस्तानी ज़मीन पर ड्रोन हमलों के बारे में हकूमत-ए-पाकिस्तान को दरपेश है।

पाकिस्तानी पार्लीमेंट वाज़िह तौर पर कह चुकी है कि ड्रोन हमले नाक़ाबिल-ए-क़बूल हैं और पाकिस्तान के लिए वाज़िह सुर्ख़ लकीर की नुमाइंदगी करते हैं। अमेरीका ने पाकिस्तान के क़बाइली इलाको में अफ़्ग़ानिस्तान के मौज़ू पर अहम नाटो कान्फ़्रैंस के शिकागो में 21 मई को इख़तताम के बाद 8 ड्रोन हमले किए हैं।

ताज़ा तरीन हमला कल किया गया जिस में 15 जंगजु हलाक होगए।

TOPPOPULARRECENT