Sunday , October 22 2017
Home / Khaas Khabar / अशआर पढ़ लेने से मुसलमानों के मसाइल हल नहीं होते: जमिअतुल उलमा

अशआर पढ़ लेने से मुसलमानों के मसाइल हल नहीं होते: जमिअतुल उलमा

कामा रेड्डी 11 नवंबर: जमिअतुल उलमा कामारेड्डी (अरशद मदनी ग्रुप) ने आरडी ओ कामारेड्डी से नुमाइंदगी करते हुए 12 फ़ीसद तहफ़्फुज़ात की फ़राहमी के लिए फ़ौरी बी सी कमीशन के क़ियाम का मुतालिबा किया। सदर जमिअतुल उलमा कामारेड्डी हाफ़िज़ फ़हीमुद्दीन मनेरी की क़ियादत में सेक्रेटरी सय्यद अज़मत अली, नायब सदर मौलाना शेख़ अहमद, हाफ़िज़ मुहम्मद हलीमी, हाफ़िज़ मुहम्मद मुश्ताक़ हलीमी आर्गेनाईज़िंग सेक्रेटरी, मुहम्मद माजिद ख़ाज़िन , मुहम्मद फ़िरोज़ सेक्रेटरी, हाफ़िज़ शरफुद्दीन नाज़िम मदर्रिसा मुनीर ,हाफ़िज़ अब्दुल वाजिद हलीमी नायब नाज़िम मदर्रिसा मिसबाह अलहदा, मुहम्मद हमज़ा के अलावा दुसरें ने सुबह आरडी ओ कामा रेड्डी नागेश को तफ़सीली याददाश्त पेश करते हुए तहफ़्फुज़ात की फ़राहमी के लिए फ़ौरी बी सी कमीशन के क़ियाम का मुतालिबा किया।

उन्होंने कहा कि रियासती हुकूमत चुनाव के मौके पर जारी करदा चुनाव मंशूर में मुसलमानों को 12 फ़ीसद तहफ़्फुज़ात की फ़राहमी का एलान किया था। लेकिन इस पर अमल आवरी के लिए अभी तक किसी किस्म के इक़दामात नहीं किए गए। जबकि हुकूमत की तरफ से क़ायम करदा सुधीर कमेटी को तहफ़्फुज़ात की फ़राहमी का कोई इख़तियार हासिल नहीं है।

मुसलमानों की मआशी और समाजी पसमांदगी पर तहक़ीक़ात करने के लिए सुधीर कमेटी का क़ियाम अमल में लाया गया लेकिन सुधीर कमेटी हाल ही में ज़िला का दौरा किया था और इस कमेटी के दौरे की इत्तेला ज़िला के मंडलों से ताल्लुक़ रखने वाले किसी भी अफ़राद को नहीं दी गई। मुसलमान इंतेहाई ग़ुर्बत और मआशी पसमांदगी में मुबतला है।
मुसलमानों की मआशी और तालीमी पसमांदगी को दूर करने के लिए तहफ़्फुज़ात की फ़राहमी नागुज़ीर है। चीफ़ मिनिस्टर चन्द्रशेखर राव‌ मुसलमानों के मसाइल से अच्छी तरह वाक़िफ़ है और हमेशा अपनी तक़ारीर में मुसलमानों के मसाइल के ज़िक्र और उर्दू के अशआर पढ़ लेने से मुसलमानों की मआशी, सियासी और समाजी हालत तबदील नहीं होती उस के लिए अमली तौर पर इक़दामात ज़रूरी है और तहफ़्फुज़ात की फ़राहमी का भी मुसलमानों की तरद कोई मुतालिबा नहीं किया गया था।

इस ख़सूस में जंगी ख़ुतूत पर इक़दामात ना किए गए तो मुसलमानों को मजबूरन तहरीक में शिद्दत पैदा करने पर मजबूर होना पड़ेगा। सदर जमिअतुल उलमा हाफ़िज़ फ़हीमुद्दीन ने हुकूमत को इंतेबाह देते हुए इस ख़सूस में सिलसिला-वार तहरीक चलाने का इरादा ज़ाहिर किया।

TOPPOPULARRECENT