Sunday , August 20 2017
Home / Assam / West Bengal / असम में हुकूमत की चाभी मौलाना बदरुद्दीन अजमल के पास!

असम में हुकूमत की चाभी मौलाना बदरुद्दीन अजमल के पास!

सियासत हिंदी : मोहम्मद तनवीर गुजिश्ता कई हफ्ते से असम के इलेक्शन दौरे पर हैं और सियासत हिंदी के लिए नुमायन्दगी के तौर पर इनपुट दे रहे हैं. कई सभाओं में गया लोगों से बात की उन्होंने पाया की जिस तरह की खौफ असम से बाहर रह रहे सेक्युलर लोगो के चेहरे पे दिख रहा है, कहीं असम में भी बीजेपी की सरकार नहीं बन जाए, इसके उलट यहाँ के लोगों का 100 फिसद यह मानना है की बीजेपी इत्तिहाद की सरकार असम में किसी भी कीमत में नहीं बन सकती है। यहाँ के लोगो के एक अपना कैलकुलेशन है। असम 2016 एसेम्बली का इलेक्शन काग्रेस के लिए अपनी हुकूमत को बचाने, बीजेपी के लिए कांग्रेस को मुल्क से ख़तम करने के पालिसी के तहद किसी भी सूरत से असम की हुकूमत की लड़ाई और aiudf के लिए यह लड़ाई असम में मुसलमानो की बढ़ती सियासी हैसियत को कायम रखने की लड़ाई है।
tanweer
असम तक़रीबन 40 फिसद सीटों पर तिकोनिया मुक़ाबला है और। बाकि के सीटों पैर बीजेपी और कॉग्रेस में सीधी टक्कर है।
पुरे असम को अगर तिन हिस्सों में बंटा जाये तो तस्वीर बिलकुल साफ़ हो जायेगी। असम का सब से मजबूत और मेंन एरिया है उप्पर असम जो पुरे असम की सियासी विरासत तय करती है। उप्पर असम से ही वज़ीरे आला चुन कर आतें है। बीजेपी ने भी अपना सीएम उम्मीदवार उप्पर असम से ही रखा है। यहाँ के लोग असम के पुरे इकॉनमी का 70 से 80 फिसद तय करते हैं। उप्पर असम में लोकसभा की कुल 14 सीटों में से 8 सीटें हैं। यह है डिब्रुगढ़, नार्थ लक्खिम पूर, तेजपुर, गोलाघट का कल्याबर, नवगांव, जोरहाट, मंगलदोई और गुवाहाटी । इन लोकसभा की ज़्यादा तर सीटो में बीजेपी और कांग्रेस के बिच सीधी टक्कर है।

AIUDF नवगांव में बीजेपी को कड़ी टक्कर दे रही है। इस बार Aiudf नवगांव से 2 सीट जित सकती है और एक आदिवासी बहुल एरिया कल्याबर लोकसभा से जीत सकती है। गुवाहाटी लोकसभा हलके से एक सीट aiudf जीत रही है। असम का दुसरा एरिया है लोअर असम जिसमे तिन लोकसभा की सीटें हैं जिसमे धुबरी, बरपेटा और एक BTAD कोकराझार का बोडो लैंड। इन तीनो लोकसभा की सीटों पर Directly या indirectly। Aiudf का ही कब्ज़ा है, बरपेटा से सिराजुद्दीन अजमल , धुबड़ी से खुद बदरुद्दीन अजमल एमपी । हैं और BTAD से Aiudf के सहयोग से आज़ाद उम्मीदवार एमपी है।
बरपेटा और धुबड़ी में कुल एसेम्बली की 20 सीटें है जिसमे aiudf के पास अभी 14 सीटें है इस बार के इलेक्शन में Aiudf कम से कम 13 सीटें जितने जा रही है। जो aiudf का स्ट्रांग होल्ड है। BTAD में कम से कम एक सीट aiudf जीत रही है। अब असम के तीसरे एरिया की बात करते हैं तीसरा एरिया बराक वैली के नाम से जाना जाता है। बराक वैल्ली में कुल तिन लोकसभा की सीटें हैं जिसमे करीमगंज, सिलचर और एनसी हिल हफलोंग है। करीमगंज सीट Aiudf के पास है करीमगंज और सिलचर में एसेम्बली की कुल 15 सीटें है जिसमे aiudf 5 से 6 सीट जितने जा। रहा है। हफलोंग के भी एक सीट लामडिंग में भी aiudf अपनी जीत दर्ज़ करने जा रही है।

कुल मिला कर अगर देखा जाये तो इस बार aiudf काम से काम 22 सीटें जितने जा रही है जो असम एसेम्बली में सरकार कायम करने में काफी अहम् रोल अदा करेगी। यह कहना बिलकुल सही होगा की इस बार असम में हुकूमत की चाभी मौलाना बदरुद्दीन अजमल के हाथ में ही रहेगी

TOPPOPULARRECENT