Friday , August 18 2017
Home / AP/Telangana / असेंबली की अक़लियती बहबूद कमेटी में रिजर्वेशन का मसला ज़ेरे बहस आएगा

असेंबली की अक़लियती बहबूद कमेटी में रिजर्वेशन का मसला ज़ेरे बहस आएगा

हैदराबाद 16 जुलाई: मुस्लिम रिजर्वेशन के लिए 20 जुलाई को होने वाले मुक़न्निना कमेटी के मीटिंग में मुत्तफ़िक़ा क़रारदाद की मंज़ूरी की राह हमवार होती दिखाई दे रही है। चीफ़ मिनिस्टर के चन्द्रशेखर राव‌ के वादे की तकमील के लिए ऐवान की कमेटी हुकूमत को सिफ़ारिशात पेश कर सकती है। टीआरएस के रुकन क़ानूनसाज़ कौंसिल मुहम्मद सलीम ने एवान की अक़लियती बहबूद कमेटी में इस मसले को पेश करने का फ़ैसला किया है। वो कमेटी के सदर नशीन आमिर शकील को रिजर्वेशन पर अमल आवरी के हक़ में मुत्तफ़िक़ा क़रारदाद की तजवीज़ पेश करेंगे। 12 फ़ीसद मुस्लिम रिजर्वेशन के मसले पर सियासत की तरफ से चलाई जा रही तहरीक के सबब मुस्लिम अवामी नुमाइंदों और बरसर-ए-इक्तदार पार्टी के क़ाइदीन पर अवामी दबाओ में इज़ाफ़ा होने लगा है। अक़लियती बहबूद कमेटी ने क़रारदाद की मंज़ूरी से मुताल्लिक़ सियासत की तजवीज़ पर मुसलमानों में ज़बरदस्त रद्द-ए-अमल देखा गया और हर ज़िला से ताल्लुक़ रखने वाले अवाम ने टीआरएस क़ाइदीन और मुस्लिम अरकाने असेंबली और कौंसिल को मुत्तफ़िक़ा क़रारदाद की मंज़ूरी के हक़ में तवज्जा दिलाई। बताया जाता है कि एवान की कमेटी के सदर नशीन आमिर शकील को मुसलमानों ने कमेटी के मीटिंग में क़रारदाद मंज़ूर करने की तरग़ीब दी।

मुसलमानों का कहना है कि एसे वक़्त जबकि चीफ़ मिनिस्टर के चन्द्रशेखर राव‌ रिजर्वेशन पर अमल आवरी का बारहा मुतालिबा कर रहे हैं। अक़लियती बहबूद कमेटी को चाहीए कि वो अपनी ज़िम्मेदारी की तकमील करते हुए क़रारदाद मंज़ूर करे। ऐवान की अक़लियती बहबूद कमेटी में सदर नशीन आमिर शकील के अलावा 11 अरकान हैं जिनमें 4 का ताल्लुक़ मुस्लिम अक़लियत से है जबकि दुसरे अरकान में पी मधूकर, डी विनए भास्कर, पी शेखर रेड्डी, जी कमलाकर और संपत कुमार शामिल हैं।

कमेटी में रिजर्वेशन की मुख़ालिफ़त करने वाली पार्टीयों की नुमाइंदगी नहीं है लिहाज़ा क़रारदाद को बाआसानी मंज़ूर किया जा सकता है। टीआरएस के रुकन कौंसल मुहम्मद सलीम ने कहा कि वो मीटिंग में क़रारदाद की मंज़ूरी का मुतालिबा करेंगे और कुर्सी-ए-सदारत से क़रारदाद की पीशकशी को यक़ीनी बनाएंगे। उनका कहना है कि चीफ़ मिनिस्टर ख़ुद भी रिजर्वेशन की फ़राहमी के हक़ में हैं और उन्होंने एक से ज़ाइद मर्तबा अपने यकीन को दुहराया है।

उल-ग़र्ज़ मुस्लिम रिजर्वेशन के हक़ में अवामी नुमाइंदों और टीआरएस क़ाइदीन पर अवाम की तरफ से तवज्जा दहानी में दिन बह दिन इज़ाफ़ा हो रहा है। उम्मीद की जा सकती है कि 20 जुलाई के मीटिंग तक कमेटी के दुसरे मुस्लिम अरकान भी  रिजर्वेशन के हक़ में क़रारदाद की ताईद के लिए आमादा होजाएंगे।

TOPPOPULARRECENT