Wednesday , August 23 2017
Home / Ghazal / अहमद फ़राज़ की ग़ज़ल: सिलसिले तोड़ गया वो सभी जाते-जाते

अहमद फ़राज़ की ग़ज़ल: सिलसिले तोड़ गया वो सभी जाते-जाते

सिलसिले तोड़ गया वो सभी जाते-जाते
वरना इतने तो मरासिम थे कि आते-जाते

शिकवा-ए-जुल्मते-शब से तो कहीं बेहतर था
अपने हिस्से की कोई शम’अ जलाते जाते

कितना आसाँ था तेरे हिज्र में मरना जाना
फिर भी इक उम्र लगी जान से जाते-जाते

जश्न-ए-मक़्तल ही न बरपा हुआ वरना हम भी
पा बजोलां ही सहीं नाचते-गाते जाते

उसकी वो जाने, उसे पास-ए-वफ़ा था कि न था
तुम ‘फ़राज़’ अपनी तरफ से तो निभाते जाते

(अहमद फ़राज़)

TOPPOPULARRECENT