Tuesday , October 17 2017
Home / India / अफ़ज़ल गुरु की बीवी के नाम ख़त 11 फबरवरी को हासिल

अफ़ज़ल गुरु की बीवी के नाम ख़त 11 फबरवरी को हासिल

श्रीनगर 11 फबरवरी (पी टी आई) एक आली सरकारी अफ़्सर ने जिस का ताल्लुक़ जम्मू कश्मीर के महिकमा डाक से हैं दिल्ली से पार्लीमैंट पर हमले के मुजरिम अफ़ज़ल गुरु की बीवी के नाम ख़त आज सुबह उन के हवाले किया गया है।

श्रीनगर 11 फबरवरी (पी टी आई) एक आली सरकारी अफ़्सर ने जिस का ताल्लुक़ जम्मू कश्मीर के महिकमा डाक से हैं दिल्ली से पार्लीमैंट पर हमले के मुजरिम अफ़ज़ल गुरु की बीवी के नाम ख़त आज सुबह उन के हवाले किया गया है।

अफ़ज़ल गुरु को हफ़्ते के रोज़ फांसी दी जा चुकी है. ये ख़त जी पी ओ नई दिल्ली से रवाना किया गया था और श्रीनगर जी पी ओ में 9 फबरवरी हासिल हुआ।जिस दिन अफ़ज़ल गुरु को फांसी दी गई चीफ़ पोस्ट मास्टर जनरल जम्मू‍-और‌- कशमीर सर्कल जान समोयल ने कहा कि चूँकि आज आम तातील का दिन है ये ख़त आज सुबह सौंपा गया।

कल मर्कज़ से अफ़ज़ल गुरु के ख़ानदान को इत्तेला के बारे में एक तनाज़ा उठ खड़ा हुआ था कि इस के अरकान ख़ानदान उसे फांसी देने के फ़ैसले की मालूमात नहीं दी गई. ख़ानदान के लोगों ने इल्ज़ाम लगाया था कि उन्हें फांसी पर लटकए जाने की इत्तेला टी वी चैनल्स से हुई हालाँकि मर्कज़ी नामज़द दाख़िला आर के सिंह ने कहा कि गुरु के अरकान ख़ानदान स्पीड पोस्ट की तरफ़ से ख़त भेज दिया गया है।

अरकान ख़ानदान ने दावे किया था कि उन्हें ऐसी कोई इत्तेला मौसूल नहीं हुई जिस से सवाल पैदा हो गए थे कि अफ़ज़ल गुरु ख़ानदान को इत्तेला देने की संजीदा कोशिश की गई थी। अफ़ज़ल गुरु ख़ानदान को हुकूमत के इस फ़ैसले की इत्तेला दी थी कि अफ़ज़ल गुरु की दरख़ास्त रहम मुस्तर्द कर दी गई है।

मर्कज़ी नामज़द दाख़िला ने कहा कि ये इत्तेलाआत भी स्पीड पोस्ट की तरफ़ से ही दी गई थी। वज़ीर-ए-आला मक़बूज़ा कश्मीर उमर अबदुल्लाह ने अफ़ज़ल गुरु के अरकान ख़ानदान डाक इत्तेला देने की समझकोलीत पर एतराज़ ज़ाहिर की थी और कहा था कि ई मेल इत्तेला क़ाबिल एतराज़ हैं।

उन्होंने कहा कि अगर हम एक ई मेल इत्तेला देते हूँ कि उन के ख़ानदान के अराकीन को फांसी दी जाने वाली है तो ये निज़ाम बहुत ग़लत हैं। समोयल ने कहा कि मरहूम रुकन ख़ानदान ने महिकमा डाक के मुलाज़मीन के साथ जो ख़त उन्हें देने गया था मुकम्मल तआवुन दिया। लेकिन उन्होंने कहा कि उन्हें इस बात का यक़ीन नहीं है कि मर्कज़ी हुकूमत ने इस ख़त में अफ़ज़ल गुरु की सज़ा मौत की इत्तेला ही दी है।

TOPPOPULARRECENT