Sunday , October 22 2017
Home / Khaas Khabar / अफ़्ग़ानिस्तान में क़ुरआन मजीद की बेहुर्मती

अफ़्ग़ानिस्तान में क़ुरआन मजीद की बेहुर्मती

अफ़्ग़ानिस्तान में नाटो अफ़्वाज ने क़ुरआन मजीद की बेहुर्मती करते हुए गुस्ताखाना कार्रवाई की है। इसके ख़िलाफ़ अवाम की बड़ी तादाद ने एहतिजाज किया। पुलिस ने बताया कि तक़रीबन एक हज़ार अफ़राद ने एहतिजाज में हिस्सा लिया। और बिगराम फ़िज़ाई प

अफ़्ग़ानिस्तान में नाटो अफ़्वाज ने क़ुरआन मजीद की बेहुर्मती करते हुए गुस्ताखाना कार्रवाई की है। इसके ख़िलाफ़ अवाम की बड़ी तादाद ने एहतिजाज किया। पुलिस ने बताया कि तक़रीबन एक हज़ार अफ़राद ने एहतिजाज में हिस्सा लिया। और बिगराम फ़िज़ाई पट्टी पर मुज़ाहिरे किए।

ए एफ़ पी न्यूज़ एजेंसी के फ़ोटोग्राफ़र ने बताया कि अल्लाह अकबर के नारों के साथ एहतिजाज करने वाले अफ़्ग़ानियों को मुंतशिर करने के लिए गार्डस ने रबर की गोलीयां बरसाईं और पानी की बौछार भी की। अफ़्ग़ानिस्तान में क़ुरआन मजीद के बिशमोल दीनी मवाद को बड़े पैमाने पर तलफ़ किया जा रहा है। इसकी नाटो अफ़्वाज ने तरदीद की है।

अफ़्ग़ानिस्तान में इत्तेहादी अफ़्वाज की जानिब से क़ुरान-ए-पाक के नुस्खे़ नज़र-ए-आतिश करने की नापाक जसारत के ख़िलाफ़ अमेरीकी फ़ौजी अड्डे के बाहर ज़बरदस्त एहतिजाज किया गया है जबकि नाटो ने मुआमले ( मामले) की मुकम्मल तहक़ीक़ात का हुक्म जारी करते हुए माफ़ी मांग ली है।

ग़ैर मुल्की ख़बररसां इदारे के मुताबिक़ अफ़्ग़ान पुलिस ने बताया है कि मंगल को काबुल के नज़दीक बिगराम अमेरीकी फ़ौजी अड्डे के बाहर हज़ारों की तादाद में अफ़्ग़ान शहरी जमा हो गए जिन्होंने फ़ौजी अड्डे को घेरे में ले लिया और पैट्रोल बम दागे़ जिसके नतीजे में दाख़िले दरवाज़े पर आग भड़क उठी मुज़ाहिरीन इत्तेहादी अफ़्वाज के हाथों क़ुरान-ए-पाक के नुस्खे़ नज़र-ए-आतिश करने के ख़िलाफ़ सख़्त एहतिजाज कर रहे थे और नारेबाज़ी कर रहे थे।

एक मुक़ामी पुलिस अहलकार के मुताबिक़ दो हज़ार से ज़ाइद अफ़राद ने मुज़ाहिरे में शिरकत की। अफ़्ग़ान वज़ारत-ए-दाख़िला के तर्जुमान सिद्दीक़ सिद्दीक़ी ने भी मुज़ाहिरे की तसदीक़ करते हुए कहा कि इज़ाफ़ी नफ़री इलाक़े में मुम्किना परतशद्दुद वाक़ियात से निमटने के लिए इज़ाफ़ी नफ़री भिजवा दी गई है जो कि काबुल से तक़रीबन साठ किलो मीटर दूर वाक़्य है।

उधर जलालाबाद रोड पर ज़िला पुल चर्ख़ी में वाक़्य बड़े नाटो फ़ौजी अड्डे के नज़दीक भी पाँच सौ के क़रीब अफ़राद का एक हुजूम निकल आया और वाक़िया की मुज़म्मत और नारेबाज़ी की। पुलिस तर्जुमान अश्मित असतातकज़ई के मुताबिक़ मुज़ाहिरीन कंट्रोल में हैं और तशद्दुद का कोई वाक़िया सामने नहीं आया है।

माज़ी में भी अफ़्ग़ानिस्तान में इस किस्म के मुज़ाहिरे रौनुमा हो चुके हैं गुज़श्ता साल अप्रैल में एक अमेरीकी पादरी से फ़्लोरीडा में क़ुरान-ए-पाक के नुस्खे़ नज़र-ए-आतिश करने के ख़िलाफ़ परतशद्दुद मुज़ाहिरों के दौरान अठारह अफ़राद हलाक हो गए थे। दूसरी जानिब नाटो ने इस वाक़िया पर माफ़ी मांग ली है।

नाटो अफ़्ग़ानिस्तान में नाटो के अमेरीकी कमांडर जनरल जान ऐलन ने एक ब्यान में कहा है कि उन्होंने वाक़िया की मुकम्मल तहक़ीक़ात का हुक्म दे दिया है। इनका कहना था कि जब भी हम इस किस्म की कार्यवाईयों का सुनेंगे तो हम इसके ख़िलाफ़ फ़ौरी कार्रवाई करेंगे।

उन्होंने इन रिपोर्टस की जामि तहक़ीक़ात कराई जाएंगी कि आया बिगराम आवर बेस पर फ़ौजीयों ने ऐसी कोई हरकत की है। उन्होंने कहा कि ऐसी किसी भी कार्रवाई पर मैं अफ़्ग़ान सदर और अफ़्ग़ान हुकूमत और सबसे अहम अफ़्ग़ान अवाम से माफ़ी मांगता हूँ। उन्होंने कहा कि इस बात को यक़ीनी बनाया जाए ताकि मुस्तक़बिल में ऐसे वाक़ियात दुबारा रौनुमा ना हूँ मुझे यक़ीन है कि ऐसा जान बूझ कर नहीं किया गया होगा।

TOPPOPULARRECENT