Monday , September 25 2017
Home / Islami Duniya / अफ़्ग़ान अज़ीज़ा रहीम ज़ादा मलाला के नक़्शे क़दम पर

अफ़्ग़ान अज़ीज़ा रहीम ज़ादा मलाला के नक़्शे क़दम पर

चौदह साला अज़ीज़ा रहीम ज़ादा का ताल्लुक़ अफ़्ग़ानिस्तान से है और वो समाजी शोबे में बेहतरी की कोशिशों में लगी हुई हैं। अब उन्हें इंटरनैशनल चिल्ड्रंज़ पीस प्राइज़ के लिए नामज़द किया गया है। मलाला यूसुफ़ ज़ई भी ये ऐवार्ड वसूल कर चुकी हैं।

अज़ीज़ा रहीम ज़ादा की कोशिशों की वजह से पच्चीस हज़ार अफ़्ग़ान बच्चे स्कूल जाना शुरू हो गए हैं जबकि वो हुक्काम को भी इस पर राज़ी कर चुकी हैं कि क़रीब एक सौ के क़रीब ख़ानदानों को पीने का साफ़ पानी मुहैया किया जाए।

वो भी मलाला यूसुफ़ ज़ई की तरह नौजवानों के हुक़ूक़ और तालीम के फ़रोग़ के लिए काम कर रही हैं। अज़ीज़ा ने ए एफ़ पी से बात चीत करते हुए कहा ये बच्चे जंग की पैदावार हैं। अज़ीज़ा का ख़ानदान अफ़्ग़ान सूबे प्रवान में होने वाली लड़ाई की वजह से हिज्रत कर के काबुल के क़रीब एक मुहाजिर कैंप में आकर बस गया था।

इसी कैंप में 2001 में अज़ीज़ा पैदा हुईं। अज़ीज़ा रहीम ज़ादा के बाक़ौल इस दौरान हमें बड़े मुश्किल हालात का सामना रहा। मैंने तालीम की अहमीयत के बारे में लोगों को तजावीज़ दें और मुशावरत भी की। स्याह और सफ़ैद रंग का स्कार्फ़ पहने हुए अज़ीज़ा ने ये इंटरव्यू मिट्टी से बने हुए अपने छोटे से घर में ज़मीन पर बैठ कर दिया।

TOPPOPULARRECENT