Sunday , September 24 2017
Home / Featured News / आईएसआईएस के बहाने निर्दोष मुसलमानों की गिरफ्तारी बंद करो: मुस्लिम संगठन

आईएसआईएस के बहाने निर्दोष मुसलमानों की गिरफ्तारी बंद करो: मुस्लिम संगठन

image

इस्लामिक स्टेट (आईएस) और आतंकवाद को ग़ैरइस्लामी बताते हुए सयुंक्त मुस्लिम संगठन ने आईएसआईएस के बहाने सैकड़ों मुस्लिम युवकों की गिरफ्तारी की निंदा की |

सयुंक्त मुस्लिम संगठन में जमात-ए-इस्लामी हिंद, जमीयत उलेमा-ए-हिंद, अहलेहदीस , ऑल इंडिया मजलिस-ए-मुशावरात , मिल्ली काउंसिल, और वेलफेयर पार्टी शामिल हैं।

संगठन ने कहा कि आईएस के बहाने शिक्षित युवा मुस्लिम नौजवानों को निशाना बनाकर मुस्लिम समुदाय में डर पैदा करने की एक साज़िश की जा रही है इससे आने वाले वक़्त में मुल्क में समस्या पैदा होगी |

“एक तरफ बेकुसूर मुस्लिम युवकों की गिरफ्तारी और दूसरी तरफ़ दंगा मामलों में हिंदुत्व आतंक की रिहाई से साबित होता है कि सत्ताधारी पार्टी अपने सांप्रदायिक एजेंडे को लागू कर रहा है | उन्होंने ये भी कहा कि सरकार का नारा ‘सबका साथ सबका विकास’ सिर्फ़ एक भ्रम है”|

इंडियन एक्सप्रेस की एक खबर के अनुसार, ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड और वेलफेयर पार्टी के एक सदस्य ने कहा कि पिछले साल हुई काउन्टर –टेरर कांफ्रेंस में गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा था कि भारत में आईएस नहीं है इस बात के एक साल बाद क्यूँ शिक्षित मुस्लिम नौजवानों को आईएस संदिग्ध के तौर पर गिरफ़्तार किया जा रहा है |

उन्होंने इल्ज़ाम लगाया कि समुदाय के नौजवानों को आतंकी होने के शक में आतंकवादी संघठनों से हमदर्दी रखने के शक में मनमाने ढंग से गिरफ़्तार किया जाता है उनमें से ज़्यादातर नौजवान को हाईकोर्ट ने बेकुसूर बताते हुए रिहा किया है |

संघठन ने सरकार से सात मांग की हैं, जिसमें हेमंत करकरे ने जिस हिंदुत्व आतंक नेटवर्क के बारे में बताया था उसका पूरी तरह से पर्दाफाश किया जाए और एक पैनल का गठन किया जाए जो सिर्फ संदेह के नाम पर किये जाने वाली गिरफ़्तारी के मामलों की निगरानी करे, की मांग भी शामिल हैं |

TOPPOPULARRECENT