Tuesday , October 24 2017
Home / District News / आज़मीने हज्ज को हर मुम्किना सहूलतों की फ़राहमी

आज़मीने हज्ज को हर मुम्किना सहूलतों की फ़राहमी

रियासती वज़ीर बराए इत्तेलाआत, इंफ्रास्ट्रक्चर -ओ-हज आर रोशन बैग ने कहा कि हज बराए 2014 की फ़हरिस्त के ज़्यादा से ज़्यादा आज़मीन को सफ़र हज पर रवाना करने वो आख़िरी मिनट तक कोशिश जारी रखेंगे।

रियासती वज़ीर बराए इत्तेलाआत, इंफ्रास्ट्रक्चर -ओ-हज आर रोशन बैग ने कहा कि हज बराए 2014 की फ़हरिस्त के ज़्यादा से ज़्यादा आज़मीन को सफ़र हज पर रवाना करने वो आख़िरी मिनट तक कोशिश जारी रखेंगे।

उन्होंने यहां नामा निगारों को बताया कि मर्कज़ में क़लमदानों की तक़सीम का उन्हें इंतेज़ार है। जैसे ही क़लमदानों की तक़सीम होगी वो अपनी अव्वलीन फ़हरिस्त में मर्कज़ी वज़ीर-ए-ख़ारजा उमूर से मुलाक़ात करके कर्नाटक के हज कोटा में इज़ाफे की कोशिश करेंगे ताकि फ़हरिस्त के ज़्यादा से ज़्यादा आज़मीन को सफ़र हज पर रवाना किया जा सके।

इस के अलावा प्राईवेट टूर आपरेटर्स को ज़्यादा कोटा ना देने की बजाय ये कोटा हज कमेटी को देने से मुताल्लिक़ भी बातचीत करेंगे। वज़ीर मौसूफ़ ने कहा कि वो चाहते हैंके बैंगलौर का हज घर हिंदुस्तान भर में सब से ख़ूबसूरत हो और हाजियों को तमाम सहूलतें दस्तयाब हो और जब तक हज का क़लमदान उनके पास रहेगा हाजियों को ना सिर्फ़ हज कैंप में बल्कि मक्का मुकर्रमा और मदीना मुनावरा में भी बेहतरीन सहूलतें दिलाने की वो हरमुमकिन कोशिश करेंगे।

इस सिलसिले में वो जेद्दाह में कौंसिल जनरल आफ़ इंडिया मुबारक और रहमान से राबिता रखे हुए हैं। एक सवाल के जवाब में वज़ीर मौसूफ़ ने बताया कि मुल्क में हज कमेटी का क़ियाम और इस के इंतेज़ामात आईन के तहत किए जाते हैं। उन्हें क़वी उम्मीद हैके मर्कज़ में क़ायम नई हुकूमत उन इंतेज़ामात में कोई ख़ला पैदा नहीं करेगी।

TOPPOPULARRECENT