Tuesday , September 19 2017
Home / test / आज अगर जेएनयू में हिंदू-मुसलमान होता तो हमारे साथ इतने लोग नहीं खड़े होते- नजीब की बहन

आज अगर जेएनयू में हिंदू-मुसलमान होता तो हमारे साथ इतने लोग नहीं खड़े होते- नजीब की बहन

Abvp के गुंडो से झड़प के बाद लापता हुए नजीब को पांच दिन होने को आएं है लेकिन अब तक उसका कोई पता नहीं चल पाया है। नजीब की माँ और बहन जेएनयू प्रशासन और पुलिस से लगातार गुहार लगा रही हैं। नजीब की माँ की हालत बहुत खराब है, वह लगातार रोये जा रही हैं।

नजीब की बहन ने कल जे एनयू के छात्रों से बात की। नजीब की बड़ी बहन जे एनयु के छात्रों से  बात करते हुए कहा, ‘इन जालिमों की वजह से अपना कैरियर खतरे में नहीं डालना है।कोई ऐसा कदम नहीं उठाना है जो गलत है। ये जालिम लोग तो चाहते ही हैं कि आपकी जिंदगी बर्बाद हो। आप लोगों उनके गेम में नहीं पड़ना है।’


नजीब की बहन कहती हैं, ‘ये लोग चाहते हैं कि मामला हिंदू- मुसलमान हो जाये हमें उनकी इस साजिश को भी नाकाम करना है। कल मेरे पास एक लड़की आकर ये कहने लगी यहां तो ऐसा ही होता है। मैने उससे कहा अगर यहां हिंदू- मुसलमान होता तो आज हमारे साथ इतने लोग नहीं खड़े होते।’

मैं अपने स्कूल में थी वहां मेरे पास फोन आया कि एक डेड बॉडी मिली है आपको शिनाख्त के लिए आना होगा। आकर चेक करिए ये कहीं आपका भाई तो नहीं है। मैं वहां से रोती हुई निकली अपने भाइयों के साथ .. लाश में कीड़े पड़े हुए हैं तेज़ाब से जला है .. अल्लाह का शुक्र है मेरा भाई नहीं है।

‘हमने उनसे FIR के लिए कहा तो उनका जवाब आया हम FIR नहीं करेंगे.. क्योंकि एक FIR हो चुका है .. हमने कहा दो गुटों की लड़ाई का FIR तो दर्ज करेंगे आप उन्होंने कहा नहीं।
..चिंतामणि महापात्रा से बात करने की कोशिश की तो उन्होंने कहा हम आप को कोर्ट में देखेंगे.’……….

नजीब की बहन ने आगे बोलते हुए कहा कि यह बात सिर्फ मेरे भाई की नहीं है यहाँ बात पढ़ रहे आप सभी की सुरक्षा की है। आप में से कोई गायब हो सकता है आप में से कोई पीटा जा सकता है .. बात एक मुसलमान बच्चे के गायब होने की नहीं है .. बात है एक बच्चे की सुरक्षा की .. जिसे आये हुए पंद्रह दिन भी नहीं हुए हैं जो किसी को जानता भी नहीं है और जिसके साथ यह व्यवहार किया गया है।

मैं यहाँ से वापस नहीं जाउंगी .. मुझे मेरा भाई वापस चाहिए जिन्दा सही सलामत… मैंने इस एडमिनशट्रेशन के हवाले किया था अपना भाई .. मैंने इस वीसी को दिया था अपना भाई कि वो यहाँ पढ़ेगा यहाँ से निकलेगा कुछ बनेगा।

वीसी ने कहा मैं जिम्मेदार नहीं हूँ कहीं कुछ हो रहा है.. अगर इनकी अपनी औलाद के साथ यह होता तो क्या तब भी यही कहते ये। हम लोग लीगल कार्यवाही करेंगे .. लेकिन आप लोग ऐसा कुछ मत करियेगा जिससे आप सब का करियर बर्बाद हो।

यह वीसी ऐसा बहरा होकर कैसे बैठ सकता है इसके कानों में आवाज़ जायेगी ....

TOPPOPULARRECENT