Saturday , September 23 2017
Home / International / आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई किसी धर्म के खिलाफ नहीं: भारत

आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई किसी धर्म के खिलाफ नहीं: भारत

संयुक्त राष्ट्र:भारत ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद को बताया कि आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई किसी धर्म के खिलाफ संघर्ष नहीं है। इस संकट को खत्म करने के लिए विश्व एकता और सहयोग चाहिए। स्ट्रेट शांति को आतंकवाद से खतरों मुद्रा गए हैं। दुनिया की शांति और सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए जरूरी है कि सारी दुनिया एकजुट हो और एक दूसरे का साथ देकर आतंकवाद का सफाया करे। संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि सैयद अकबरुद्दीन ने सैद्धांतिक ढांचे की पहचान की और कहा कि आतंकवादी समूह अपने मूल शक्ति के साथ तंग अगठराना हितों का सफाया करना शुरू किया है। इससे सीमाएं लागू किए जा रहे हैं जवाब में आतंकवाद के खतरों में वृद्धि हो रही है। आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई को किसी धर्म के खिलाफ संघर्ष की दृष्टि से नहीं देखा जाना चाहिए। यह मानव मूल्यों और अमानवीय शक्तियों के बीच एक संघर्ष है।

यह भी लड़ाई जारी है कि हम अपने मूल्यों और धर्मों के मूल संदेश को मजबूत बनाकर पेश करें ताकि तंग अगठराना, विचारधारा और आतंकवाद की विचारधारा का अंत और मुकाबला किया जा सके। आतंकवाद को खत्म करने के लिए दीर्घकालिक संघर्ष की जरूरत है। आतंकवाद विश्व शांति और सुरक्षा के लिए सबसे गंभीर खतरा बताते हुए उन्होंने चिंता जताई कि संकीर्णता और व्यक्तिगत हितों के कारण जो हालात पैदा कर दिए गए हैं क्योंकि आतंकवाद बढ़ रहा है। एक ऐसा अंतरराष्ट्रीय सहयोग का कानूनी ढांचा तैयार किया जिसकी मदद से हम आतंकवाद को खत्म कर सकें। इसके लिए वैश्विक सहयोग आवश्यक है। भारतीय राजदूत ने जोर देकर कहा कि आतंकवादी समूहों को एक सैद्धांतिक शक्ति मार्गदर्शन कर रही है। इस ढांचे के खिलाफ काम करने की जरूरत है।

TOPPOPULARRECENT