Thursday , September 21 2017
Home / Ghazal / आतिश की ग़ज़ल: “सनम की याद में हर-दम ख़ुदा को याद करते हैं”

आतिश की ग़ज़ल: “सनम की याद में हर-दम ख़ुदा को याद करते हैं”

तड़पते हैं न रोते हैं न हम फ़रियाद करते हैं
सनम की याद में हर-दम ख़ुदा को याद करते हैं

उन्हीं के इश्क़ में हम नाला-ओ-फ़रियाद करते हैं
इलाही देखिये किस दिन हमें वो याद करते हैं

शब-ए-फ़ुर्क़त में क्या-क्या साँप लहराते हैं सीने पर
तुम्हारी काकुल-ए-पेचाँ को जब हम याद करते हैं

(ख्व़ाजा हैदर अली आतिश)

TOPPOPULARRECENT