Monday , August 21 2017
Home / Khaas Khabar / आमिर खान को स्नैपडील से हटाने के लिए भाजपा आईटी सेल ने चलाया था ट्रोल

आमिर खान को स्नैपडील से हटाने के लिए भाजपा आईटी सेल ने चलाया था ट्रोल

नई दिल्ली: भाजपा के आईटी सेल पर अभिनेता आमिर खान की छवि खराब करने का आरोप लगाया गया है। आईटी सेल पर आरोप है कि पिछले साल असहिष्णुता वाले बयान के बाद आमिर खान के खिलाफ उसने कैंपने चलाया था, जिसके बाद उन्हें स्नैपडील के ब्रांड एंबेसडर पद से हटा दिया गया था।

भाजपा की सोशल मीडिया टीम के पूर्व वालंटियर स्वाती चतुर्वेदी की किताब ‘आई एम ट्रॉल’आई है जिसमें यह दावा किया गया है कि भाजपा के आईटी सेल हेड ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल करते हुए स्नैपडील पर दबाव बनाने के आदेश दिए थे। इंडियन एक्सप्रेस अखबार ने किताब के हवाले से लिखा है कि भाजपा के आईटी सेल हेड ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल करते हुए स्नैपडील पर दबाव बनाने के आदेश दिए थे।

साल 2015 में भाजपा सोशल मीडिया सेल को छोड़ने वाली साध्वी खोसला ने पत्रकार स्वाती चतुर्वेदी से कुछ कथित व्हाट्सऐप मैसेज साझा किए हैं। खोसला ने बताया कि असहिष्णुता वाले बयान के बाद भाजपा की सोशल मीडिया सेल ने आमिर को स्नैपडील से हटाने के लिए मुहिम शुरू की। साध्वी खोसला ने कुछ व्हाट्सऐप मैसेज साझा किए, जो भाजपा आईटी सेल के प्रमुख अरविंद गुप्ता ने उन्हें और कुछ दूसरे ग्रुप्स में भेजे थे। हालांकि जब अरविंद गुप्ता से इस बारे में पूछा गया तो उन्होंने स्वीकारा कि वह भाजपा आईटी सेल के प्रमुख हैं, लेकिन उन्होंने साध्वी खोसला के दावों से इनकार। उन्होंने कहा कि खोसला कांग्रेस को सपोर्ट करती हैं और यही वजह है कि वो ऐसे झूठे दावे कर रही हैं।

गौरतलब है कि अभिनेता आमिर खान ने 2015 में रामनाथ गोयनका अवॉर्ड शो में असहिष्णुता पर एक बयान दिया था, जिसमें उन्होंने कहा था, “पहले की तुलना में थोड़ा डर है। मुझे लगता है कि थोड़ी असुरक्षा है। जब मैं घर में होता हूं और किरण से बात करता हूं। किरण और मैं अपनी पूरी जिंदगी भारत में रहे हैं। पहली बार उसने कहा कि क्या हमें भारत से बाहर जाना चाहिए? किरण का यह बयान मेरे लिए डरावना और बड़ा था। उसे अपने बच्चे का डर था। उसे डर है कि हमारे आस-पास का माहौल कैसा होगा। वह रोज जब अखबार खोलती है तो डरती है।” आमिर खान के इस बयान के बाद सोशल मीडिया से लेकर सड़क तक विरोध उनको विरोध का सामना करना पड़ा था। इसके बाद उन्हें स्नैपडील और अतुल्य भारत के ब्रांड एंबेसडर पद से हटा दिया गया था।

TOPPOPULARRECENT