Monday , October 23 2017
Home / Khaas Khabar / आर्डिनेंस पर गौर व खौज़ : मनमोहन और राहुल की बैठक खत्म

आर्डिनेंस पर गौर व खौज़ : मनमोहन और राहुल की बैठक खत्म

सजायाफ्ता MPs और MLAs की रुकनियत को बचाने के लिए लाए गए आर्डिनेंस पर मचे बवाल पर बहस का दौर शुरू हो गया है। इसी के तहत कांग्रेस के नायब सदर राहुल गांधी सुबह 9:45 बजे वज़ीर ए आज़म मनमोहन सिंह मिलने उनके रिहायशगाह पहुंचे। तकरीबन आधे घंटे दोनों

सजायाफ्ता MPs और MLAs की रुकनियत को बचाने के लिए लाए गए आर्डिनेंस पर मचे बवाल पर बहस का दौर शुरू हो गया है। इसी के तहत कांग्रेस के नायब सदर राहुल गांधी सुबह 9:45 बजे वज़ीर ए आज़म मनमोहन सिंह मिलने उनके रिहायशगाह पहुंचे। तकरीबन आधे घंटे दोनों के बीच बातचीत हुई। ज़राए के मुताबिक, राहुल ने पीएम से कहा कि उन्होंने आर्डिनेंस को लेकर आवामी जज़्बात का इजहार किया था, हुकूमत या किसी की तौहीन करना उनका मकसद नहीं था। राहुल ने पीएम से कहा कि सदर जम्हूरिया भी आर्डिनेंस को लेकर एतराज जताये थें।

दोनों की मुलाकात खत्म होने के बाद अब कांग्रेस कोर ग्रुप में बहस हो रही है। इसके बाद मनमोहन सिंह 11.30 बजे सदर जम्हूरिया प्रणब मुखर्जी से मुलाकात करने राष्ट्रपति भवन भी जाएंगे। आज से ही सदर जम्हुरिया की बेल्जियम का दौरा शुरू हो रहा है।

इस बीच आर्डिनेंस को वापस लेने की अटकलें भी शुरू हो गई हैं। वज़ारत ए कानून के एक तजवीज के मुताबिक हुकूमत को इसे वापस लेने की तरफ कदम बढ़ाना चाहिए। आज शाम आर्डिनेंस के मुद्दे पर ही कैबिनेट की अहम बैठक होगी। ज़राए के मुताबिक इस बैठक में वज़ारत ए कानून की तरफ से रखे गए दो तजवीजो पर बहस होने के इम्कान है। पहले तजवीज/प्रस्ताव के मुताबिक हुकूमत को आर्डिनेंस पर सदर ए जम्हूरिया के फैसले का इंतेजार करना चाहिए, जबकि दूसरे तजवीज में हुकूमत से आर्डिनेंस को वापस लेने की बती कही गई है।

गौरतलब है कि मंगल के दिन अमेरिका से लौटते वक्त पीएम ने कहा था कि वह राहुल से मुलाकात कर यह जानने की कोशिश करेंगे कि आखिर आर्डिनेंस को लेकर उनकी नाराजगी क्यों है और इसे लेकर उन्होंने ऐसा बयान क्यों दिया। गौरतलब है कि दागी लीडरों की रुकनियत ( Memberships) को बचाने वाले आर्डिनेंस के बारे में राहुल ने कहा था कि इसे फाड़कर फेंक देना चाहिए।

पीएम ने मंगल के दिन अमेरिका से लौटते हुए इस्तीफे के इम्कान को नकारते हुए कहा था कि, ‘आर्डिनेंस लाने का फैसला कांग्रेस कोर ग्रुप और कैबिनेट ने लिया था। मैं राहुल से बात कर समझने की कोशिश करूंगा कि उनके मन में क्या मसला है जो उन्हें परेशान कर रहा था।’ पीएम ने कहा कि कांग्रेस का कोई भी रुकन अगर कोई मसला उठाता है तो उस पर फिर से गौर करने की जरूरत होती है।

TOPPOPULARRECENT