Friday , October 20 2017
Home / India / आर एस एस ने बी जे पी उमोर में मुदाख़िलत नहीं की

आर एस एस ने बी जे पी उमोर में मुदाख़िलत नहीं की

एतराज़ात पर संजीदगी से ग़ौर करने के तय्याक़ून‌ के बाद आडवानी इस्तीफ़े से दस्तबरदार , राम माधव का बयान

एतराज़ात पर संजीदगी से ग़ौर करने के तय्याक़ून‌ के बाद आडवानी इस्तीफ़े से दस्तबरदार , राम माधव का बयान
नई दिल्ली। 13 जून (पी टी आई) बी जे पी के सीनीयर लीडर एल के आडवाणी के ज़रीये राष्ट्रीय स्वयम् सेवक सिंह सरबराह मोहन भगवत से तबादला-ए-ख़्याल के बाद अपना इस्तीफ़ा वापिस लेने के एक दिन बाद आर एस एस ने कहा है कि ये (आडवाणी की इस्तीफे से दसतबरदारी) पार्टी के माम‌लात में दख़ल अंदाज़ी नहीं है।

चहारशंबे को सिंह लीडर राम माधव ने कहा कि आडवाणी जैसे सीनीयर क़ाइद को कुछ सलाह-ओ-मश्वरा देने की ज़रूरत होगी तो मुल्क और समाज के आला शख़्सियात उन्हें मश्वरा देंगे। सिंह परिवार के सरबराह मोहन भगवत ही नहीं बल्कि कई और लोगों ने आडवाणी से अपना इस्तीफ़ा वापिस लेने की अपील की थी।

गोवा में गुजरात के वज़ीर-ए-आला नरेंद्र मोदी को इंतेख़ाबी मुहिम कमेटी के सरबराह मुक़र्रर किए जाने के ऐलान के बाद आडवाणी ने पार्टी के तमाम अहम ओहदों से इस्तीफ़ा दे दिया था। उस वक़्त भागवत से फ़ोन पर बातचीत के बाद उन्होंने अपना इस्तीफ़ा वापिस ले लिया था। बी जे पी और आर एस एस ने आडवाणी को ये उम्मीद दिलाई कि पार्टी में कोई फ़ैसला लेने से पहले उनकी ताईद हासिल की जाएगी।

बी जे पी सदर राज नाथ सिंह ने गुज़िश्ता रोज़ कहा था कि भागवत के इस तय्याक़ू के बाद कि उनके ज़रीये उठाए गए मौज़ूआत पर संजीदगी से तबादला-ए-ख़्याल किया जाएगा, आडवाणी ने अपना इस्तीफ़ा वापिस ले लिया है,जबकि राम माधव ने कहा है कि सलाह-ओ-मश्वरा देने का ये मतलब क़तई नहीं है कि ये पार्टी के काम में किसी भी एतबार से मुदाख़िलत है।

उन्होंने ये इस्तिफ़सार किया कि जिस किसी ने भी आडवाणी से उन्हें अपना इस्तीफ़ा वापिस ले लेने की सलाह दी , इसका मतलब ये हुआ कि बी जे पी के काम में मुदाख़िलत कर रहा है?उन्होंने इस बात का इआदा किया कि सिंह परिवार कभी भी बी जे पी के अंदरूनी माम‌लात में मुदाख़िलत नहीं करती ।

TOPPOPULARRECENT