Monday , October 23 2017
Home / Hyderabad News / आवाम पुलिस से परेशान। रॊडी शीट में 99 फ़ीसद बेक़सूर मुस्लमान

आवाम पुलिस से परेशान। रॊडी शीट में 99 फ़ीसद बेक़सूर मुस्लमान

हैदराबाद ।२४ फरवरी (सियासत न्यूज़) साबिक़ रुकन राज्य सभा-ओ-क़ाइद सी पी एम मिस्टर पी मधु ने पुराने शहर में मुस्लिम नौजवानों पर पुलिस मज़ालिम और रॊडी शीट्स के जायज़ा के लिए असम्बली हाउज़ कमेटी के क़ियाम का मुतालिबा किया।

हैदराबाद ।२४ फरवरी (सियासत न्यूज़) साबिक़ रुकन राज्य सभा-ओ-क़ाइद सी पी एम मिस्टर पी मधु ने पुराने शहर में मुस्लिम नौजवानों पर पुलिस मज़ालिम और रॊडी शीट्स के जायज़ा के लिए असम्बली हाउज़ कमेटी के क़ियाम का मुतालिबा किया।

सी पी एम क़ाइद मिस्टर मधु ने आज पार्टी के रियास्ती हेडक्वार्टर एम पी भवन में प्रैस कान्फ़्रैंस को मुख़ातबकिया। उन्हों ने अफ़सोस का इज़हार करते हुए कहा कि पुराना शहर पुलिस मज़ालिम की एक मिसाल बन गया हैं, जहां बेक़सूर मुस्लिम नौजवानों की रॊडी शीट खोल कर उन्हें हिरासाँ किया जा रहा हैं। उन्हों ने पुराने शहर के मुस्लिम नौजवानों पर मज़ालिम को फ़ौरी बंद करने का मुतालिबा किया और कहा कि सूदखोर और पुलिस ने ग़रीब मुस्लमानों का जीना मुश्किल कर दिया हैं।

उन्हों ने पुलिस रवैय्या को सख़्त तन्क़ीद का निशाना बनाते हुए कहा कि पुराने शहर में 10 साल का अर्सा गुज़रने के बावजूद भी ताहाल रूडी शीटरस की रॊडी शीट्स का जायज़ा नहीं लिया गया जबकि क़ानूनन हर 6 माह में जायज़ा लेना चाहिए। उन्हों ने कमिशनर पुलिस ए के ख़ां पर तन्क़ीद करते हुए कहा कि उन्हें समाजी भलाई इक़दाम की तर्बीयत लेनी चाहिए।

मिस्टर मधु ने इल्ज़ाम लगाते हुए कहा कि हुकूमतमुक़ामी जमात और पुलिस नहीं चाहती कि पुराने शहर में अमन क़ायम होसकी। इस इलाक़ा में मुस्लमानों की अंधा धुंद अंदाज़ में रॊडी शीट्स खोल दी गईं और उन नौजवानों मेंअक्सरीयत की ज़िंदगी-ओ-गुज़र बसर का दार-ओ-मदार रोज़ाना की मेहनत मज़दूरी पर होता हैं, जिन्हें बे मौक़ा पुलिस हिरासाँ कररही है और उन में चंद एक नौजवानों को पुलिसमुख़्बिर की तरह काम करने केलिए दबाव‌ डाल रहे हैं। उन्हों ने बताया कि कम-ओ-बेश 900 से ज़ाइद रॊडी शीट्स पुराने शहर में पाए जाते हैं और उन में 99 फ़ीसद बेक़सूर मुस्लिम नौजवान पाए जाते हैं। अगर इन का जायज़ा लिया जाय तो हालात में काफ़ी तबदीली वाकय‌ होगी।

क़ाइद सी पी ऐम मधु ने सूदखोरों के ख़िलाफ़ पुलिस की मुहिम और मौजूदा हालात में जारी कार्रवाई को नाकाफ़ी क़रार दिया और कहा कि पुलिस की कार्रवाई सूदखोरों की हिम्मतअफ़्ज़ाई का बाइस बन रही ही। उन्हों ने कहा कि महंगाई के इस दौर में जहां ग़ुर्बत ने पुराने शहर के मुख़्तलिफ़ इलाक़ों को अपनी लपेट में ले लिया है ऐसे इलाक़ों में सूदखोरों की सरगर्मीयां अवाम का ख़ून चूस रही हैं।

उन्हों ने पुलिस पर इल्ज़ाम लगाते हुए कहा कि पुलिस की मिली भगत और साज़बाज़ के बगै़र सूदखोरों की सरगर्मीयां पुराने शहर में जारी नहीं रह सकतीं और एक मानी में लौट मार का माहौल पुराने शहर में पाया जाता हैं। उन्हों ने इलाक़ा तालाब कटा में पेश आए वाक़िया जहां हमला में वो शदीद ज़ख़मी हो गए थी, अफ़सोस ज़ाहिर करते हुए पुलिस और मुक़ामी जमात का इस क़दर ज़ुलम बढ़ गया है कि पुराने शहर में नाश के दीदार से भी रोका जा रहा हैं।

उन्हों ने मुस्लिम नौजवानों से इंसाफ़ तक अपनी जद्द-ओ-जहद को जारी रखने का ऐलान किया। उन्हों ने याद दिलाया कि मक्का मस्जिद, लुंबिनी पार्क और गोकुल चाट भंडार बम धमाकों के बेक़सूरमुस्लिम नौजवानों को जेल मुंतक़िल किया गया था, जिन से ख़ुद मैंने जेल में जनाब ज़ाहिदअली ख़ां ऐडीटर सियासत के हमराह मुलाक़ात की थी, जिन्हें अदालत ने बाइज़्ज़त बरी करदिया और ख़ुद हुकूमत ने इन से माज़रत चाही। इस मौक़ा पर सी पी ऐम सिटी सकरीटरीट मैंबर ऐम सरीनवास, आवाज़ कमेटी क़ाइद अबदुलसत्तार मुँह और दीगर मौजूद थी।

TOPPOPULARRECENT