Friday , October 20 2017
Home / India / आसाम कत्ले आम मुक़ाम को वापिस होने से मुस्लिम ख़ानदानों का पस‌-ओ-पेश

आसाम कत्ले आम मुक़ाम को वापिस होने से मुस्लिम ख़ानदानों का पस‌-ओ-पेश

आसाम कत्ले आम मुक़ाम से जान बचाकर निकलने वाले कई मुस्लिम ख़ानदानों ने अब अपने घरों को वापिस होने से पस-ओ-पेश ज़ाहिर किया है। सैफुल-इस्लाम के लिए ये बड़ी मुश्किल सूरत-ए-हाल है। वो अपने गांव को जाना तो चाहते हैं, लेकिन उन की आँखों के सामने

आसाम कत्ले आम मुक़ाम से जान बचाकर निकलने वाले कई मुस्लिम ख़ानदानों ने अब अपने घरों को वापिस होने से पस-ओ-पेश ज़ाहिर किया है। सैफुल-इस्लाम के लिए ये बड़ी मुश्किल सूरत-ए-हाल है। वो अपने गांव को जाना तो चाहते हैं, लेकिन उन की आँखों के सामने उन के रिश्तेदारों को गोली मारकर हलाक कर दिया गया, उन के रिश्तेदार ज़ख़मों से जांबर ना होसके, तड़प तड़प कर दम तोड़ दिया।

अपने आंगन में मौत का नंगा नाच देखने के बाद कोई भी मुस्लिम ख़ानदान वापिस जाने तैयार नहीं है। बोडो इंतेहापसंदों की ग़ारतगरी के चशमदीद गवाह पर हालात ने सकता तारी कर दिया है। ज़िला नज़म-ओ-नसक़ की जानिब से मुतास्सिरीन की बाज़ आबादकारी की हर मुम्किना कोशिश की जा रही है।

उनके एतिमाद को बहाल करके उन्हें मुकम्मल सिक्योरिटी फ़राहम करने और ख़ौफ़ दूर करने की कोशिश की जा रही है। इस इलाक़े में ख़ातिरख़वाह फ़ोर्स तैनात की गई है, लेकिन देही अवाम अपनी जान को जोखिम में डालना नहीं चाहते। उन्हें डर है कि सूरत-ए-हाल मामूल पर आने के बाद सिक्योरिटी हटाली जाएगी। 26 साला सैफुल-इस्लाम ने कहा कि में अपने घर को वापिस जाना चाहता हूँ, लेकिन मेरी बीवी और माँ को डर है कि उन के रिश्तेदारों की तरह उन का भी हश्र भयानक कर दिया जाएगा। मेरी माँ और बीवी ने बोडो इंतेहापसंदों की अंधा धुंद कार्यवाईयों को देखा था। इस बेहीमाना कार्रवाई में दरिंदों ने मासूम बच्चों को तक नहीं बख्शा।

सैफुल-इस्लाम का ख़ानदान उनकी अहलिया, दो फ़र्ज़ंद, एक भाई और माँ पर मुश्तमिल है। उन्होंने अपने रिश्तेदारों और पड़ोसीयों की नाशें उठाई हैं। ये तमाम 6 अरकान भानगरपाड़ मार्किट के रीलीफ़ कैम्प में पनाह लिए हुए हैं। हम पर इंतेहापसंदों ने अंधा धुंद हमला कर दिया जब कि हम अपने रिश्तेदारों की मदद के लिए जंगलात में दाख़िल हुए थे। ये बहुत बड़े दुख की बात है कि जंगलात के ओहदेदार हमेशा हमारे साथ रहते हैं, हम उन के साथ हर तहवार मनाते हैं, लेकिन उन लोगों ने हमारी आँखों के सामने तबाही मचा दी है। सैफुल-इस्लाम अब क़तई नई जगह पर मुंतक़िल होना हैं।

TOPPOPULARRECENT