Saturday , October 21 2017
Home / Hyderabad News / आज़मीन हज(हज में जाने कि ख्वाहिश रखने वालों) की आज ऑनलाइन क़ुरआ अंदाज़ी

आज़मीन हज(हज में जाने कि ख्वाहिश रखने वालों) की आज ऑनलाइन क़ुरआ अंदाज़ी

* इंतेज़ामात को क़तईयत(फाइनल) ,कोटे में इज़ाफ़ा(बढोतरी) के लिए नुमाइंदगी का फ़ैसला

* इंतेज़ामात को क़तईयत(फाइनल) ,कोटे में इज़ाफ़ा(बढोतरी) के लिए नुमाइंदगी का फ़ैसला
हैदराबाद । (सियासत न्यूज़) आंधरा प्रदेश रियासती हज कमेटी की जानिब से रवाना होने वाले आज़मीन हज के इंतेख़ाब(चुनाव) के लिए क़ुरआ अंदाज़ी 10 मई को सुबह 10.00 बजे मुनाक़िद होगी।

इस सिल्सिलें में सदर नशीन रियास्ती हज कमेटी जनाब सय्यद खलील उद्दीन अहमद की ज़ेर सदारत(सदारत में) हज कमेटी का इज्लास मुनाक़िद हुआ और इस इज्लास के दौरान(में) क़ुरआ अंदाज़ी के दौरान ख़ादिम उलहुज्जाज के इंतेख़ाब(चुनाव) और दीगर उमूर पर भी तबादला ख़्याल किया गया(बात चित कि जाएगी) ।

सदर नशीन हज कमेटी के बमूजब(मुताबीक) हज 2012 के लिए ख़ादिम उलहुज्जाज का इंतेख़ाब रास्त(सीधा) क़ुरआ अंदाज़ी के ज़रीया होगा । क़ुरआ अंदाज़ी से क़बल ख़ादिम उलहुज्जाज के लिए दरख़ास्त दाख़िल करने वालों के इंटरव्यू नहीं होंगे। वाज़िह रहे कि साबिक़ में(पहले) ख़ादिम उलहुज्जाज के इंटरव्यू में कामयाब उम्मीदवारों का ही बज़रीया क़ुरआ(पाँसा के जरीया) इंतेख़ाब अमल में आया करता(होता) था।

उन्हों ने बताया कि 10 मई को आज़मीन हज की क़ुरआ अंदाज़ी के बाद 19 मई 2012 को ख़ादिम उलहुज्जाज के इंतेख़ाब के लिए क़ुरआ अंदाज़ी होगी। आंधरा प्रदेश रियासती हज कमेटी के इज्लास(मीटींग) में रुक्न असेंबली जनाब शेख मस्तान वली जनाब महमूद हुसैन इंजिनीयर जनाब रज़ा हुसैन आज़ाद जनाब एम ए बैग के इलावा जनाब मुहम्मद शरीफ-ओ-दीगर अराकीन हज कमेटी ने शिरकत की(शरीक होए)।

इज्लास में क़ुरआ अंदाज़ी के लिए किए जाने वाले इंतेज़ामात का जायज़ा लिया गया और रियासत में नाफ़िज़ इंतिख़ाबी ज़ाबता अख़लाक़(लागु चुनाव कवाइद) के सबब क़ुरआ अंदाज़ी में कमेटी के अरकान-ओ-सयासी क़ाइदीन की शिरकत के मुताल्लिक़ तबादला ख़्याल(बात चित) के बाद इस बात का फैसला किया गया कि एगज़ेक्टीव ऑफीसर रियासती हज कमेटी मिस्टर अबदुलहमीद की ज़ेर निगरानी(निगरानी में) क़ुरआ अंदाज़ी की जाएगी और इस में सदर नशीन हज कमेटी-ओ-अराकीन हज कमेटी और सयासी क़ाइदीन शिरकत नहीं करेंगे।

आंधरा प्रदेश रियासती हज कमेटी में दरख़ास्त दाख़िल करने वाले ख़ाहिश मंदों के इंतेख़ाब का तरीका मर्कज़ी हज कमेटी की हिदायत मुताबिक़ ऑन लाइन‌ होगा और मर्कज़ी हज कमेटी क़ुरआ अंदाज़ी की मुकम्मल निगरानी करेगी।

वाज़िह रहे कि रियासत आंधरा प्रदेश को जो कोटा मुक़र्रर(तय) किया गया है वो गुज़श्ता के मुताबिक़(पहले से) काफ़ी कम है। हज कमेटी इज्लास में अराकीन-ओ-सदर नशीन ने इस बात का भी फैसला किया कि मर्कज़ी हज कमेटी को कोटे में इज़ाफ़ा(बढोतरी) के लिए तवज्जा मब्ज़ूल करवाई(ध्यान दिलाया) जाएगी ।

इलावा अज़ीं(इस के इलावा) मर्कज़ी वज़ारत ख़ारिजा(प्रदेश मंत्रालय) से नुमाइंदगी करते हुए रियासत के कोटें में इज़ाफ़ा(बढोतरी) की ख़ाहिश भी की जाएगी। रियासती हज कमेटी आज़मीन के इज़ाफ़ी कोटे(ज्यादा कोटे) के लिए रियासती हुकूमत बिलखुसूस(खास करके) चीफ मिनिस्टर और वज़ीर अकल्लिय‌ती बहबूद से भी ख़ाहिश करेगी कि हुकूमती सतह पर वज़ारत ख़ारिजा(प्रदेश मंत्रालय) से कोटे में इज़ाफ़ा के लिए नुमाइंदगी की जाए ताकि ज़्यादा से ज़्यादा आज़मीन की रवानगी को यक़ीनी बनाया जा सके।

TOPPOPULARRECENT