Thursday , July 27 2017
Home / Sports / इंग्लैंड क्रिकेट टीम पर आईसीसी ने लगाया जुर्माना

इंग्लैंड क्रिकेट टीम पर आईसीसी ने लगाया जुर्माना

नई दिल्ली: टेस्ट सीरीज में करारी हार झेलने के बाद इंग्लैंड क्रिकेट टीम को सीमित ओवर के मुकाबलों में राहत की उम्मीद थी, लेकिन वनडे और टी-20 में भी टीम इंडिया की कमान संभालने वाले विराट कोहली ने उसे यहां भी कोई मौका नहीं दिया. वनडे सीरीज में इंग्लैंड 2-0 से पीछे है और सीरीज हार गई है. अब उस पर एक आर्थिक मुसीबत भी आ गई है. इंग्लैंड क्रिकेट टीम पर आईसीसी ने जुर्माना लगा दिया है. सीरीज का तीसरा मैच 22 जनवरी को कोलकाता के ईडन गार्डन्स स्टेडियम में खेला जाएगा. इसके बाद टी-20 सीरीज होगी.

इंग्लैंड टीम को यह सजा भारत के खिलाफ गुरुवार को कटक में खेले गए दूसरे वनडे मैच के लिए मिली है. वास्तव में भारतीय बल्लेबाजी के दौरान जब एमएस धोनी और युवराज सिंह की जोड़ी रन बरसा रही थी, तो इंग्लैंड के कप्तान इयोन मॉर्गन ने ओवर रेट कम कर दिया और फील्ड जमाने में ज्यादा समय लिया. वैसे कई बार कप्तान लय में खेल रहे बल्लेबाजों का ध्यान भटकाने के लिए भी इसे रणनीति के रूप में भी अपनाते हैं. वैसे यह स्पष्ट तौर पर नहीं कहा जा सकता कि मॉर्गन का इरादा क्या था, लेकिन चाहे कुछ भी हो इससे अंतराष्ट्रीय क्रिकेट समिति (आईसीसी) की संहिता उल्लंघन हुआ.

फिर क्या था इस पर संज्ञान लेते हुए आईसीसी ने अंपायरों और मैच रेफरी की रिपोर्ट पर इंग्लैंड पर धीमी गति से ओवर के लिए जुर्माना लगा दिया. आईसीसी ने इसकी जानकारी शुक्रवार को दी. इस मैच में टीम इंडिया ने इंग्लैंड को 15 रनों से हराया है. कटक मैच में आईसीसी के मैच रैफरी रहे एंडी पेक्रोफ्ट ने इंग्लैंड की ओर से निर्धारित समय के भीतर 50 ओवर पूरे न करने के लिए मेहमान टीम पर जुर्माना लगाया.

आईसीसी ने कहा, ‘धीमी गति से ओवर पूरे करने से संबंधित आईसीसी आचार संहिता के अनुच्छेद 2.5.1 के अनुसार टीम के खिलाड़ियों पर उनकी मैच फीस का 10 प्रतिशत जुर्माना लगा है. इस जुर्माने के तहत टीम के कप्तान को दोगुना रकम देनी होगी.”

इंग्लैंड क्रिकेट टीम के कप्तान इयोन मॉर्गन (Eoin Morgan) पर मैच फीस का 20 प्रतिशत जुर्माना, जबकि इंग्लैंड टीम के बाकी खिलाड़ियों को उनकी मैच फीस में से 10 प्रतिशत रकम जुर्माने के तहत देनी पड़ेगी.

आईसीसी की ओर से यह भी कहा गया है कि इंग्लैंड के कप्तान मॉर्गन ने इस नियम के उल्लंघन को स्वीकार कर लिया है और साथ ही उन पर लगाए जुर्माने को भी मान लिया है. इस कारण इस मामले में आधिकारिक सुनवाई की जरूरत नहीं है.

इंग्लैंड की टीम पर धीमी गति से ओवर फेकने संबंधी नियम के उल्लंघन का आरोप मैदानी अंपायर अनिल चौधरी और रुचिरा पाल्लियागुरुगे ने लगाया, वहीं अंपायर कुमार धर्मासेना तथा नितिन मेनन ने इसका समर्थन किया.

TOPPOPULARRECENT