Thursday , October 19 2017
Home / Delhi News / इंटलीजेंस रिपोर्ट के बावजूद नीतीश कुमार की लापरवाही नाक़ाबिल फ़हम : जेटली

इंटलीजेंस रिपोर्ट के बावजूद नीतीश कुमार की लापरवाही नाक़ाबिल फ़हम : जेटली

बी जे पी क़ाइद अरूण जेटली ने पटना में हुए सिलसिला वार बम धमाकों पर शदीद अफ़सोस का इज़हार करते हुए वज़ीर-ए-आला बिहार नीतीश कुमार को ये कह कर शदीद तन्क़ीद का निशाना बनाया कि इंटलीजेंस की रिपोर्ट के बावजूद वज़ीर-ए-आला ने आख़िर लापरवाही

बी जे पी क़ाइद अरूण जेटली ने पटना में हुए सिलसिला वार बम धमाकों पर शदीद अफ़सोस का इज़हार करते हुए वज़ीर-ए-आला बिहार नीतीश कुमार को ये कह कर शदीद तन्क़ीद का निशाना बनाया कि इंटलीजेंस की रिपोर्ट के बावजूद वज़ीर-ए-आला ने आख़िर लापरवाही क्योंकर बरती?

क्या उन्हें चौकस रहने की ज़रूरत नहीं थी? उन्होंने कहा कि हुकूमत बिहार का रवैया इंतिहाई ग़ैर ज़िम्मा दाराना है। जब किसी रियासत का वज़ीर-ए-आला किसी दीगर रियासत का दौरा करता है तो ऐसा अंजाम दी जाती है जिस की मेज़बान रियासत तौसीक़ करती है लेकिन बिहार पुलिस ने ऐसा नहीं किया। पटना में कल जो कुछ भी हुआ वो सिर्फ़ रियासत बिहार के अव्वाम केलिए नहीं बल्कि मुल्क भर के अव्वाम केलिए बाइस तशवीश है।

बी जे पी ऐसी साज़िश की मुज़म्मत करती है और महलूकीन् के अरकान ख़ानदान और ज़ख्मी होने वालों के साथ इज़हार-ए-हमदर्दी करती है। अगर पटना में हुए धमाकों पर अव्वाम के ख़ौफ़ को ये कह कर दूर नहीं किया जाता कि वो पटाख़े हैं तो यक़ीन जानिए कि ऐसी भगदड़ होती जिस में हज़ारों अफ़राद अपनी जानों से हाथ धो सकते थे।

राज्य सभा में क़ाइद अपोज़ीशन अरूण जेटली ने अपनी बात जारी रखते हुए बम धमाकों की तहक़ीक़ात करवाने का मुतालिबा किया। इस सिलसिला में अब तक सात अफ़राद की गिरफ़्तारी अमल में आई है। यहां इस बात का तज़किरा भी ज़रूरी है कि पटना में हुए बम धमाकों पर अब तक वज़ीर-ए-दाख़िला सुशील कुमार शिंदे का कोई बयान‌ मंज़र-ए-आम पर नहीं आया है क्योंकि वो उसी दिन मुंबई में एक फ़िल्मी तक़रीब में शिरकत की वजह से तन्क़ीदों की ज़द पर हैं।

TOPPOPULARRECENT