Friday , October 20 2017
Home / Hyderabad News / इंतिख़ाबी नताइज तवक़्क़ो के मुताबिक़, फ़िरोज़ ख़ां का ब्यान

इंतिख़ाबी नताइज तवक़्क़ो के मुताबिक़, फ़िरोज़ ख़ां का ब्यान

ज़िमनी इंतिख़ाबात (उप चुनाव) में कांग्रेस पार्टी की शिकस्त के साथ ही कांग्रेस में क़ियादत के ख़िलाफ़ नाराज़गी की आवाज़ें उठने लगी है और क़ाइदीन (नेताओं) और कारकुनों को शिकायत है कि क़ियादत सूरत-ए-हाल का सही अंदाज़ा करने में नाकाम हो चुकी है ।

कांग्रेस पार्टी के तर्जुमान फ़िरोज़ ख़ान ने ज़िमनी इंतिख़ाबात (उप चुनाव) के नताइज पर तबसरा करते हुए कहा कि नताइज तवक़्क़ो के मुताबिक़ रहे । क्योंकि अवामी हमदर्दीयां जगन मोहन रेड्डी के साथ थी लेकिन कांग्रेस क़ियादत इस का अंदाज़ा करने में नाकाम हो गई। उन्हों ने कहा कि जब क़ियादत को इस हक़ीक़त से वाक़िफ़ कराया गया तो सुनी अन सुनी कर दी गई ।

उन्हों ने कहा कि अवाम पहले ही तेलंगाना मसला के बाइस (वजह से) कांग्रेस से नाराज़ है जिस के सबब परकाल में कांग्रेस अपनी ज़मानत भी नहीं बचा सकी । उन्हों ने कहा कि इंतिख़ाबात (चुनाव) से ऐन क़ब्ल जगन मोहन रेड्डी को गिरफ़्तार करते हुए ये तास्सुरदेने की कोशिश की गई कि क़ानून अपना काम कर रहा है लेकिन इस से अवामी हमदर्दीयां जगन के साथ बढ़ रही थी ।

कांग्रेस की जानिब से किसी भी मसला को फ़ौरी हल करने के बजाय उसे तवालत (तूल) देने की आदत पड़ चुकी है । मर्कज़ की जानिब से अक़ल्लीयतों को 4.5 फ़ीसद तहफ़्फुज़ात की फ़राहमी में नाकामी के बाइस (वजह से) अक़ल्लीयतों में मायूसी पाई जाती है ।
और ये मसला मुस्लिम अक़ल्लीयत में मौज़ू बहस बनाया गया है।

इस तरह की सूरत-ए-हाल से अक़ल्लीयतें कांग्रेस से दूर हो रही हैं । फ़िरोज़ ख़ान ने कहा कि कांग्रेस पार्टी को चाहीए कि वो अवाम से किए गए वादों की तकमील पर तवज्जा (ध्यान) दें और हुकूमत में ख़ाली ओहदों पर कारकुनों को नामज़द किया जाय ।

उन्हों ने कहा कि ज़िमनी इंतिख़ाबात (चुनाव) के नताइज के लिए एक दूसरे को ज़िम्मेदार क़रार देने के बजाय कांग्रेस क़ाइदीन (नेताओं) को अपना मुहासिबा (आकलन) करना चाहीए ।

TOPPOPULARRECENT