Tuesday , October 24 2017
Home / India / इंतेशार पसंदों का तबसरा किसी के ख़िलाफ़ शख़्सी इल्ज़ाम नहीं

इंतेशार पसंदों का तबसरा किसी के ख़िलाफ़ शख़्सी इल्ज़ाम नहीं

सदर नशीन राज्य सभा हामिद अंसारी का बयान

सदर नशीन राज्य सभा हामिद अंसारी का बयान
अपने इंतेशार पसंदों के तबसरा पर अपोज़िशन के सख़्त रद्द-ए-अमल का सामना करने वाले सदर नशीन राज्य सभा हामिद अंसारी ने अपना ये मौक़िफ़ बरक़रार रखा कि उन्होंने किसी पर भी शख़्सी इल्ज़ाम आइद नहीं किया था। उन्होंने कहा कि उनकी सेक्रेटेरियट इस तबसरा का उस वक़्त ऐवान में पाए जाने वाले माहौल की रोशनी में जायज़ा लेगी।

उन्होंने कहा कि वो सेक्रेटेरियट को हिदायत देंगे कि उनके तबसरा का ऐवान में मौजूद माहौल के मुताबिक़ जायज़ा लिया जाये। वो इस तबसरा की वजह से पैदा होने वाली सूरत-ए-हाल पर ग़ैर रस्मी मुबाहिस का जवाब दे रहे थे। ऐवान में जब मुख़्तलिफ़ मसाइल पर हंगामा खड़ा कर दिया गया था तो अंसारी ने कहा था कि तमाम क़वाइद सिर्फ़ क़वाइद की किताब में हैं।

हर एक मियार की ख़िलाफ़वरज़ी की जा रही है। अगर मौजूद अरकान चाहते हैं कि ऐवान इंतेशार पसंदों का वफ़ाक़ बन जाये तो ये एक अलग बात है। उन्होंने कहा कि आज सदर नशीन हुकूमत का हिस्सा नहीं हैं और उनकी कोशिश ये है कि ऐवान को क़वाइद की किताब के मुताल्लिक़ चलाया जाये। हामिद अंसारी ने कहा कि अब वक़्त आगया है कि हमारे तरीका-ए-कार और क़वाइद का जायज़ा लिया जाये। ताकि ज़रूरी तबदीलीयां की जाएं।

उन्होंने कहा कि वो क़ाइदीन का एक इजलास अनक़रीब तल्ब करेंगे ताकि क़वाइद में तरमीमात की ज़रूरत पर तबादला-ए-ख़्याल किया जा सके। हामिद अंसारी ने कहा कि उन्होंने अपने इस तास्सुर का इज़हार किसी शख़्स का नाम लिए बगै़र किया था। उन्होंने कहा कि उसूलों की बुनियाद पर हर किस्म का इख़तियार ख़त्म होजाता है। अगर आप मेरी बात समझ लें तो ये एक सूरत-ए-हाल का बयान था किसी पर कोई इल्ज़ाम नहीं था। अगर कोई सवाल किया जाये तो उसे इल्ज़ाम नहीं क़रार दिया जा सकता।

TOPPOPULARRECENT