Friday , October 20 2017
Home / India / इंसिदाद रिश्वत सतानी इदारों में रिश्वत ख़ोरों के तक़र्रुत के लिए मोदी हुकूमत की कोशिश :प्रशांत भूषण

इंसिदाद रिश्वत सतानी इदारों में रिश्वत ख़ोरों के तक़र्रुत के लिए मोदी हुकूमत की कोशिश :प्रशांत भूषण

पटना: आम आदमी पार्टी (आप) से ख़ारिज शूदा लीडर प्रशांत भूषण ने आज इल्ज़ाम आइद किया कि नरेंद्र मोदी हुकूमत , इंसिदाद रिश्वत सतानी के इदारों पर रिश्वतखोर अफ़राद के तक़र्रुत की कोशिश कररही है और अपनी मीयाद के पहले साल के दौरान तालीमी इदार

पटना: आम आदमी पार्टी (आप) से ख़ारिज शूदा लीडर प्रशांत भूषण ने आज इल्ज़ाम आइद किया कि नरेंद्र मोदी हुकूमत , इंसिदाद रिश्वत सतानी के इदारों पर रिश्वतखोर अफ़राद के तक़र्रुत की कोशिश कररही है और अपनी मीयाद के पहले साल के दौरान तालीमी इदारों को ज़ाफ़रानी रंग दी है।

प्रशांत भूषण ने यहां मुनज़्ज़म करदा स्वाराज अभियान के मौक़े पर अपने एक साथी योगेंद्र यादव के साथ ख़िताब करते हुए कहा कि सैंटर्ल वीजीलेंस कमिशनर ( सी वी सी) के तक़र्रुर के लिए तैयार करदा एक फ़हरिस्त से इन्किशाफ़ हुआ है कि इस में सर-ए-फ़हरिस्त नाम एक इंतेहाई रिश्वतखोर साबिक़ इनकम टैक्स ऑफीसर का है जो सोईस बैंक ऐच एसबी सी की तरफ़ से काले धन पर फ़राहम करदा मालूमात को छिपाने की कोशिशों में मुलव्विस था और वो अपने ख़िलाफ़ तहक़ीक़ात करने वाले सी बी आई के साबिक़ डायरेक्टर रणजीत सिन्हा से खु़फ़ीया मुलाक़ातें किया करता था।

भूषण ने कहा कि हम जानते है कि सी वी सी के तक़र्रुत फ़िलहाल मुल्तवी करदिए गए हैं लेकिन मोदी हुकूमत इस मसाई में सरगर्मी के साथ मुलव्विस है कि इंसिदाद रिश्वत सतानी इदारों में रिश्वतखोर अफ़राद के तक़र्रुत किए जाएं प्रशांत भूषण ने ये इल्ज़ाम भी आइद किया कि यू जी सी , एन सी ई आर टी , हिन्दुस्तानी काउंसिल बराए तारीख़ी तहक़ीक़ (आई सी एच आर) , हिन्दुस्तानी काउंसिल बराए समाजी साईंसी तहक़ीक़ (आई सी एस एस आर) और एसे ही दीगर आला तालीमी इदारों को ज़ाफ़रानी रंग देने की कोशिशें की जा रही हैं। इन में ऐसे अफ़राद के तक़र्रुत किए जा रहे हैं जो मुल्क को दकियानूस और तो हम परस्ती की तरफ़ ढकेल रहे हैं। हती कि हमारी मर्कज़ी वज़ीर फ़रोग़ इंसानी वसाइल (स्म्रती ईरानी) एक नजूमी के पास जाती हैं और दस्त शनास के लिए इस नजूमी को अपनी हथेली दिखाकर पूछती हैं कि वो कब हिन्दुस्तान की सदर जम्हूरीया बनेंगी|

TOPPOPULARRECENT