Friday , October 20 2017
Home / India / इकलेती कोटा रिमार्क हुक्मरानी का मसला, इंतिख़ाबात से कोई ताल्लुक़ नहीं

इकलेती कोटा रिमार्क हुक्मरानी का मसला, इंतिख़ाबात से कोई ताल्लुक़ नहीं

इलेक्शन कमीशन के साथ जारी तनाज़ा में मुश्किलात में फंसे वज़ीर क़ानून मिस्टर सलमान ख़ूर्शीद ने आज इस्तिदलाल पेश किया कि अक़ल्लीयतों को कोटा से मुताल्लिक़ उन का तबसिरा हुक्मरानी का मसला है और इंतेख़ाबात से कोई ताल्लुक़ नहीं है ताहम क

इलेक्शन कमीशन के साथ जारी तनाज़ा में मुश्किलात में फंसे वज़ीर क़ानून मिस्टर सलमान ख़ूर्शीद ने आज इस्तिदलाल पेश किया कि अक़ल्लीयतों को कोटा से मुताल्लिक़ उन का तबसिरा हुक्मरानी का मसला है और इंतेख़ाबात से कोई ताल्लुक़ नहीं है ताहम कांग्रेस पार्टी ने अमला उन के इस ब्यान को भी क़बूल किया है ।

मिस्टर ख़ूर्शीद ने वज़ीर आज़म डाक्टर मनमोहन सिंह से फ़ोन पर बात चीत की ताहम ये मालूम नहीं होसका कि दोनों के माबेन क्या बात चीत हुई है । मिस्टर ख़ूर्शीद ने ये इद्दिआ भी किया कि उन्हों ने इलेक्शन कमीशन की हिदायत की ख़िलाफ़वर्ज़ी नहीं की है । ये इत्तिलात भी हैं कि डाक्टर मनमोहन सिंह सलमान ख़ूर्शीद के मसला पर सूरत-ए-हाल का जायज़ा लेने से नर वुज़रा का एक इजलास कल तलब करेंगे ।

मिस्टर सलमान ख़ूर्शीद के रिमार्कस और बाद में इलेक्शन कमीशन की कार्रवाई पर बी जे पी ने फ़ौरी हरकत में आते हुए उन्हें काबीना से बरतरफ़ करने का मुतालिबा किया है । बी जे पी ने कहा कि वज़ीर क़ानून ख़ुद क़ानून शिकन बन गए हैं और कांग्रेस पार्टी इंतेख़ाबात को फ़िर्कावाराना रंग देने की कोशिश कर रही है ।

बी जे पी ने कहा कि मिस्टर ख़ूर्शीद को उत्तर प्रदेश इंतेख़ाबात के माबक़ी मराहिल में मुहिम चलाने से भी रोक दिया जाना चाहीए । मिस्टर ख़ूर्शीद ने मुस्लमानों को ज़ेली कोटा तहफ़्फुज़ात फ़राहम करने से मुताल्लिक़ अपने रिमार्कस की वज़ाहत करते हुए कहा कि इन के रिमार्कस का हुक्मरानी के मसला से ताल्लुक़ है और इस का इंतेख़ाबात से कोई ताल्लुक़ नहीं है ।

मिस्टर ख़ूर्शीद ने अख़बारी नुमाइंदों से बात चीत करते हुए कहा कि उन्हों ने सिर्फ ये कहा कि कांग्रेस पार्टी का इंतेख़ाबी मंशूर है और इलेक्शन कमीशन को ये कली इख़तियार हासिल है कि वो जो चाहे करे । कांग्रेस पार्टी ने ताहम ख़ुद को मिस्टर सलमान ख़ूर्शीद के रिमार्कस से दूर करते हुए ये वाज़िह कर दिया है कि पार्टी चाहती है कि इस के क़ाइदीन अवामी ज़िंदगी के उसूलों और मुल्क के क़वानीन के एतबार से इज़हार ख़्याल करें।

इलेक्शन कमीशन एक दस्तूरी इदारा है और कांग्रेस पार्टी चाहती है कि तमाम कांग्रेसी क़ाइदीन अवामी ज़िंदगी के क़वाइद और मुल्क के क़वाइद के मुताबिक़ इज़हार ख़्याल करें। कांग्रेस जनरल सेक्रेटरी-ओ-मीडिया इंचार्ज मिस्टर जनार्धन द्विवेदी ने एक बयान में ये बात कही । इलेक्शन कमीशन ने कल एक गैर मुतवक़्क़े इक़दाम करते हुए मिस्टर सलमान ख़ूर्शीद के ख़िलाफ़ सदर जमहूरीया मुहतरमा प्रतीभा पाटिल को एक मकतूब रवाना किया था और उन से इस्तिदा की थी कि चूँकि मिस्टर ख़ूर्शीद का रवैय्या ग़ैर मुनासिब और गैरकानूनी है इस लिए उन के ख़िलाफ़ फ़ौरी तौर पर और फैसला कुन कार्रवाई की जाए।

मिस्टर द्विवेदी के रिमार्कस के ताल्लुक़ से इस्तिफ्सार पर मिस्टर ख़ूर्शीद ने कहा कि हम भी तो यही कह रहे हैं। सब को अपने दायरा में रहना चाहीए । मिस्टर ख़ूर्शीद ने ये भी कहा कि हो सकता है कि ख़्यालात मुख़्तलिफ़ हूँ लेकिन इख़तेलाफ़ात नहीं हैं। मिस्टर ख़ूर्शीद के साथी और पार्टी जनरल सेक्रेटरी मिस्टर द्विग विजय सिंह ने उनकी मुदाफ़अत की है और कहा कि हर पार्टी को ये हक़ हासिल है कि वो इंतिख़ाबी मुहिम के दौरान अपने मंसूबों के ताल्लुक़ से इज़हार ख़्याल करे और सयासी क़ाइदीन के ख़िलाफ़ इस तरह की मुहिम चलाना दरुस्त नहीं है ।

उन्होंने कहा कि वो पूरे एहतिराम से इलेक्शन कमीशन से कहना चाहते हैं कि अगर सयासी जमातों को एजंडा पर इज़हार ख़्याल की इजाज़त नहीं दी जा सकती है तो फिर इंतेख़ाबी मंशूर पर भी इमतिना आइद कर दिया जाना चाहीए । क़ाइद अपोज़ीशन सुषमा स्वाराज ने इस ख़्याल का इज़हार किया कि दस्तूर के ख़िलाफ़ रवैय्या इख्तेयार करने पर मिस्टर सलमान ख़ूर्शीद को काबीना से बरतरफ़ कर दिया जाना चाहीए ।

उन्हों ने कहा पार्टी सदर जमहूरीया से ख़ाहिश करती है कि वो मिस्टर सलमान ख़ूर्शीद को मर्कज़ी काबीना से बरतरफ़ करदें की उनका उन्हों ने दस्तूर और क़ानून के ख़िलाफ़ काम किया है । बी जे पी लीडर्स अल के अडवानी और राज्य सभा में क़ाइद अपोज़ीशन अरूण जेटली ने भी इसी तरह का मुतालिबा किया है । मिस्टर अडवानी ने कहा कि वज़ीर आज़म को चाहीए कि वो इलेक्शन कमीशन के ख़िलाफ़ रिमार्कस करने पर मिस्टर सलमान ख़ूर्शीद को काबीना से बरतरफ़ कर दें।

उन्हों ने कहा कि इलेक्शन कमीशन की जानिब से सरज़निश के बावजूद मिस्टर ख़ूर्शीद इलेक्शन कमीशन और ज़ाबता अख़लाक़ का मज़ाक़ उड़ा रहे हैं। अरूण जेटली ने कहाकि वो ये मानते हैं कि कांग्रेस पार्टी ने एक हिक्मत-ए-अमली के तहत ये सारा ड्रामा किया है ताकि इंतेख़ाबात को फ़िर्कावाराना रंग दिया जा सके ।

उन्होंने कहा कि वो वज़ीर आज़म से अपील करते हैं कि इस तरह की ओछी रवायात को ख़तन करें और वज़ीर क़ानून को बरतरफ़ कर दिया जाय की उनका वो ख़ुद क़ानून शिकन बन गए हैं।

TOPPOPULARRECENT