Friday , September 22 2017
Home / International / इजराइली अदालत ने फिलिस्तीनी नाबालिग युवती को सुनाई साढ़े तेरह साल की सजा

इजराइली अदालत ने फिलिस्तीनी नाबालिग युवती को सुनाई साढ़े तेरह साल की सजा

येरूशलम। इजरायली अदालत ने फिलीस्तीनी नाबालिग युवती नुरहान अवाद (16 ) को पिछले साल एक इजरायली पर किये गए कथित चाकू के हमले के लिए साढ़े तेरह साल की सजा सुनाई है।

मध्य पूर्व मॉनिटर के अनुसार बुधवार को इजरायल की एक जिला अदालत ने इस युवती को 30,000 शेकेल ($ 7757) का जुर्माना और साढ़े तेरह साल की जेल की सजा का फैसला सुनाया। घटना के अनुसार एक साल पहले उसे उस समय गिरफ्तार कर लिया गया जब उसने अपने 14 वर्षीय चचेरे भाई हदिल वजीह अवाद के साथ कथित तौर पर एक इजरायली पर चाकू से हमला किया था।

नुरहान अवाद पास सीमा पर दो बार सीने में गोली लगने के बाद गंभीर रूप से घायल हो गई थी। उसके चचेरे भाई हदिल वजीह अवाद की इस दौरान मौके पर ही गोली मारकर हत्या कर दी थी। फिलीस्तीनी कैदियों के सोसायटी ने कहा कि कथित हमले के आरोप में नुरहान को गिरफ्तार कर लिया गया था जबकि उसके चचेरे भाई हदिल वजीह अवाद की पुलिस के हमले में मौत हो गई थी।
फिलिस्तीनी रणनीति समूह के सह संस्थापक हुस्साम जोलमोट ने कहा कि बच्चों और किशोरों की निर्मम हत्या जैसी बात को सुरक्षा दृष्टि अथवा पेशे के बुनियादी नियमों से नहीं समझाया जा सकता है। फिलीस्तीनी नाबालिग के लिए यह एक गंभीर सजा है।

आधिकारिक फिलीस्तीनी आंकड़ों के अनुसार 350 नाबालिगों सहित 7,000 से अधिक फिलीस्तीनी वर्तमान में इजराइल की जेलों में कैद हैं। इससे पहले इस महीने 14 वर्षीय अहमद मंसारा को कथित तौर पर हमले के आरोप में 12 साल की जेल की सजा सुनाई और 80,000 शेकेल ($ 20,664) का जुर्माना अदा करने का आदेश दिया गया था।

TOPPOPULARRECENT