Thursday , August 17 2017
Home / History / तारीख का सबसे अमीर तरीन शिया मुस्लिम कैसे ख़त्म कर दिया गया?

तारीख का सबसे अमीर तरीन शिया मुस्लिम कैसे ख़त्म कर दिया गया?

अंतरराष्ट्रीय समूह : 15 साल पहले आज (2000 नवंबर) के दिनों में एक आदमी दुनिया के मन्ज़र से हटा दिया गया जिसने सालाना आमदनी $ 60 मिल्यार्ड को नजरअंदाज कर दिया था ता कि अहलेबैत (अ.स), के अनुयायियों में हो जाये । अंतर्राष्ट्रीय कुरान समाचार एजेंसी (IQNA) अल आलम न्यूज नेटवर्क के हवाले से, एडोआर्डो Agnelli का 1954 9 जून न्यूयॉर्क में पैदा हुआ था । अटलांटिक के कॉलेज में अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद आधुनिक साहित्य और दर्शन का अध्ययन करने के लिए पूर्व प्रिंसटन विश्वविद्यालय गया। कॉलेज पूरा करने के बाद पूर्वी धर्मों और रहस्यवाद का अध्ययन करने के लिए भारत और फिर ईरान की यात्रा की और अपनी यात्रा के दौरान हमारे देश में शिया धर्म को क़ुबूल कर लिया।
सीनेटर गियोवन्नी Agnelli, एडुआर्डो के वालिद इटली में सबसे ताकतवर और अमीर लोगों तथा कई फिएट, फेरारी, Lamborghini, Lancia, Iveco Lfarmv गाड़ी के निर्माण कारखानों के साथ-साथ कई उद्योगों, निजी बैंकों, कंपनियों, कारखानों, फैशन डिजाइनिंग, ब्रॉडशीट समाचार पत्र Lastampa और Corriere della सीरा, फेरारी कार क्लब और फुटबॉल क्लब जुवेंटस के मालिक थे।

एडुआर्डो न्यूयॉर्क में प्रसिद्ध प्रिंसटन विश्वविद्यालय में धार्मिक दर्शन का छात्र था। वह न्यूयॉर्क में पैदा हुआ था। उन्होंने बाइबिल और तौरेत को पढ़ा, लेकिन यह सब उसे राजी नहीं कर सकीं। 20 वर्ष की आयु में अचानक पुस्तकालय में कुरान पर नज़र पड़ी और उसकी कुछ आयतें पढ़ीं है और महसूस किया कि यह शब्द आदमी के नहीं हो सकते है।
एडुआर्डो अपने मुस्लिम होने की घटना को ऐसे बताता है: लग न्यूयार्क में था कि एक दिन पुस्तकालय में टहल रहा था और पुस्तकों क देख रहा था कि मेरी नज़र कुरान पड़ी। मैं उत्सुक हुआ कि देखूं कुरान में क्या है यह देखने के लिए इसे उठाया लिया। और पन्ने पलटना शुरू किया और उसकी आयतों को अंग्रेजी में पढ़ा, मैं ने महसूस किया यह शब्द, नूरानी शब्द हैं और इनसान के नहीं कहे जा सकते हैं। मैं बहुत मुतासिर हुआ था, और मैं ने इसे अमानत के तौर पर लिया और अधिक मैंने पढ़ा महसूस किया कि मैं समझता हूँ और इसे कुबूल कर रहा हूं।

एडुआर्डो इस मामले के बाद न्यूयॉर्क में इस्लामी केंद्र गय और मुस्लिम होने के लिए दरख्वास्त किया उन्होंने मेरा नाम, “हिशाम अज़ीज़” चुना । मोहम्मद इस्हाक़ अब्दुल्लाही जो कि Agnelli का मुस्लिम दोस्त है वह भी उससके बारे में कहता है कि ” एडुआर्डो रात से सुबह तक मोमबत्ती की रोशनी में कुरान पढ़ा करता था” बाद में डा.क़दीरी अबयाना की मुलाक़ात व बातचीत से मुतासिर होकर शिया मजहब चुना और अपना नाम मेहदी रखा.

हुसैन Abdullahi, एडुआर्डो का सबसे अच्छा ईरानी दोस्त, एडुआर्डो पर परिवार की ओर से डाले जाने वाले दबावों को अविश्वसनीय वर्णन किया है। उन्होंने कहा: “एडुआर्डो जबरदस्त आर्थिक दबाव में था। Agnelli परिवार ने, पूरी तरह उस पर आर्थिक प्रतिबंधों को लागू कर दिया था। इस तरह कि एक टैक्सी की सवारी के लिए पैसे नहीं रखता था ”
एडवर्ड, इटली के सबसे बड़े पूंजीवादी और आनेलीहा परिवार का उत्तराधिकारी बेटा था जो अपने देश और यहूदी माफिया संगठन के रहस्यों के बारे में जानता था और अब जब कि मुसल्मान होने के साथ इस्लामी क्रांति का ममानने वाला था बहुत खतरनाक था विशेष रूप से इटली में सलमान रुश्दी के खिलाफ काम शुरू कर दिया था और कब्जे वाले फिलीस्तीनी क्षेत्र में यहूदी अपराधों की निंदा करने लगा और इस काम के लिऐ इटली के राष्ट्रपति व प्रधानमंत्री के साथ फोन कॉल किया और स्वयं Zionists द्वारा दोषी ठहराए जाने से डरा था। उन्होंने इटली में ईरान के प्रेस परामर्श से बात की थी और इस्लाम लाने की वजह से हत्या किऐ जाने के कोशिश से फिक्रमंद था कि वे आखीरकार खत्म कर दिया जाएगा और फिर उसे आत्महत्या, दुर्घटना या अचानक बीमारी की ओर निसबत दे दी जाऐगी। और आखीरकार ऐसा ही हुआ जैसा कि उसके करीबी दोस्तों ने यही कहा कि उसे मुख्य रणनीति के तहत मार दिया गया.

TOPPOPULARRECENT